Wednesday, April 24, 2024

जल विज्ञान

महिला दिवस: होली और पहाड़

जे .पी. मैठाणीपीपलकोटी के बाजार के अंतिम छोर पर बाड़ेपानी के धारे से तड़के सुबह पानी की बोतलें भरती औरतें, अपनी कमर पर स्येलू या सीमेंट...

 भारत की कृषि कहावतें: कहे घाघ के सुन भडूरी!

मंजू दिल से… भाग-32मंजू कालाकुछ पखवाड़े पहले की बात है, सुबह की चाय सुड़कते हुए एक समाचार ने मेरा ध्यान आकर्षित किया था कि ...