Home Archive by category पर्यटन

पर्यटन

पर्यटन

नैसर्गिक सौंदर्य, स्नो स्कीईग, ट्यूलिप गार्डन और ईको पार्क बने मुनस्यारी में पर्यटकों की पसंद

मुनस्यारी : अपने नैसर्गिक सौंदर्य के लिए प्रसिद्ध हिमनगरी स्नो स्कीईग, ट्रेकिग, ट्यूलिप गार्डन, ईको पार्क के चलते पर्यटकों का पसंदीदा स्थल बनी है। मुनस्यारी की इस पर्यटन यात्रा में अब पैराग्लाइडिग का नया अध्याय भी जुड़ गया है। हिमाच्छादित चोटियों के निकट साढ़े दस हजार फीट की ऊंचाई से होने वाली
पर्यटन

ट्रैकर्स के आकर्षण का केन्द्र बन रहा है पीपलकोटी पांचुला ट्रैक

जेपी मैठाणी सरकार की उदासीनता के बावजूद शोध अध्ययन कर किया जा रहा है प्रचारित-प्रसारित देहरादून से लगभग 265 किमी0 की दूरी पर राष्ट्रीय राजमार्ग 58 पर लगभग 4000 फीट (1300 मीटर) की ऊँचाई पर स्थित है एक पर्यटक स्थल पीपलकोटी. पीपलकोटी अपनी खूबसूरत घाटी, पीपल के पेड़ों,  सीढ़ीनुमा खेतों के साथ-साथ अच्छी व्यवस्था वाले […]
पर्यटन

साकार होता खतलिंग पांचवां धाम  का इंद्रमणि बडोनी का स्वप्न

हिमालय दिवस (9 सितंबर) पर विशेष कवि बीर सिंह राणा 2 सितंबर 2021 का दिन वास्तव में  भिलंगना घाटी के लिए अविस्मरणीय और गौरवमय इतिहास का साक्षी बन गया. जहां पिछले ढाई दशक से सजग मातृशक्ति because और ऊर्जावान युवाओं का आह्वान किया जाता रहा कि खतलिंग को पांचवां धाम स्वार्थी और सत्तालोलूप नेता नहीं स्थानीय […]
पर्यटन

बेनीताल बुग्याल की 650 एकड़ जमीन पर लगा निजी संपत्ति का बोर्ड!

बेनीताल: प्रकृति की गोद में बसा बुग्याल कमलेश चंद्र जोशी उत्तराखंड पर्यटन के लिहाज से विविधताओं से भरा प्रदेश है. हालाँकि पर्यटकों के बीच इसकी पहचान चार धाम यात्रा के रूप में अधिक मशहूर है लेकिन यात्रा पर्यटन के सिवाय उत्तराखंड में बहुत कुछ ऐसा है जिन तक अभी सीमित व नियमित पर्यटकों का पहुँचना […]
पर्यटन

पंडित नेहरू में क्यों जागी थी ‘कण्वाश्रम’ को जानने की रुचि

कण्वाश्रम एक ऐतिहासिक स्थल है, जिसका प्राचीन और समृद्ध इतिहास रहा है. महर्षि कण्व के काल में कण्वाश्रम शिक्षा का प्रमुख केंद्र हुआ करता था. because उस समय वहां दस हजार छात्र शिक्षा लेते थे. वैदिक काल में कण्वाश्रम शिक्षा और संस्कृति कर बड़ा गढ़ था. स्वरोजगार विजय भट्ट भारत की आजादी के बाद वर्ष […]
पर्यटन

आदि शंकराचार्य की नेपाल और बदरीनाथ यात्रा

ललित फुलारा अद्वैत-वेदांत के प्रतिष्ठाता और संन्यासी संप्रदाय के गुरु आदि शंकराचार्य की जयंती पर उनकी नेपाल यात्रा और पशुपतिनाथ महादेव में पुन: पूजा अर्चना की व्यवस्था के बारे में जानना बेहद जरूरी है. but यह वह वक्त था जब नेपाल में पशुपतिनाथ महादेव की पूजा-अर्चना समाप्त हो गई थी. बौद्धों के असाधारण प्रभाव की […]
चमोली पर्यटन

पर्वतारोहण और ट्रैकिंग से स्वरोजगार की पहल…

शशि मोहन रवांल्टा स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी श्रीराम शर्मा के गीत ‘करो राष्ट्र निर्माण बनाओ मिट्टी से सोना’ जी हां! इस गीत की पंक्तियों को चरितार्थ कर दिखाया है उत्तरकाशी जिले because के दूरस्थ गांव सौड़-सांकरी के चैन सिंह रावत ने. उन्होंने पर्वतारोहण और ट्रैकिंग के काम को पर्यटन व्यवसाय से जोड़ा है. अब उनके गांव […]
पर्यटन

सतत पर्यटन विकास के लिए जुटे लोग  

हिमांतर ब्‍यूरो, उत्तरकाशी सतत पर्यटन विकास (Sustainable Tourism Development), साहसिक और सुरक्षित पर्यटन स्थल कैसा हो,  इसको लेकर मोरी में स्थानीय लोगों के द्वारा एक सभा का आयोजन किया गया, जिसमें क्षेत्र के स्थायी पर्यटन विकास को लेकर चर्चा की गई. पर्यटन को सुगम because और सरल बनाने के लिए निरंतर प्रयास जारी हैं. बैठक […]
पर्यटन

शिलाखर्क बुग्याल ट्रैक: रहस्य और रोमांच से भरा ट्रैकिंग स्‍पॉट

कम और ना जाने, जाने वाले ट्रैंकिंग रूट – पार्ट-2 पांडव यहॉं बना रहे थे विशाल मंदिर, लेकिन… जे. पी. मैठाणी उत्तराखण्ड के सीमान्त जनपद चमोली की एक बेहद रोमांचक घाटी है पाताल गंगा घाटी. बायोटूरिज़्म पार्क पीपलकोटी से लगभग 11 किमी. की दूरी पर पाखी गरूड़गंगा, पनाईगाड, टंगणी और बेलाकूची के बाद एक छोटा […]
पर्यटन

अलौकिक प्राकृतिक सुंदरता का खजाना-बण्डीधूर्रा ट्रैक

कम और ना जाने, जाने वाले ट्रैंकिंग रूट – पार्ट-1 जे. पी. मैठाणी ऋषिकेश-बद्रीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग पर लगभग 1300 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है पर्यटक स्थल पीपलकोटी। पीपलकोटी को एक वर्ष पूर्व ही नगर पंचायत बनाया गया। इसकी उत्तर पश्चित दिशा में अलकनन्दा नदी है और इसके आसपास विस्तारित है एक बड़ी घाटी जिसमें […]