August 7, 2020
Home हिमांतर

हिमांतर

हिमालयी विविधता पूर्ण समाज और संस्कृति का प्रतिनिधित्व करता हैं, देश में उत्तर से लेकर पश्चिम तक का हिमालयी समाज अपने-आप में बहुत बड़ी जनसख्यां का निर्धारण करता हैं, साथ ही देश की सीमाओं को सुरक्षित रखने का जिम्मा जिस समाज को है उसमें प्रमुख रूप से हिमालय में निवास करने वाला ही समाज है जो सदियों से देश की सीमाओं का सजग प्रहरी की भांति कार्य कर रहा हैं। अनेक जातियों, धर्म और परिवेश को अंगीकार किये ये वृहत समाज आज भी अनेक प्रकार की समस्याओं से जूझ रहा है, किन्तु अभी तक कोई स्थाई रीति-नीति इस महत्त्वपूर्ण समाज के हित में देश और प्रदेशों की सरकारों द्वारा नहीं बनाई गयी! इस क्रम में इस हिमालयी समाज की संस्कृति के विभिन्न रूपों से देश और दुनिया अभी तक ठीक से परिचित नहीं हो पाई, हमारा प्रयास इस समाज के विभिन्न पहलुओं से देश और दुनिया को परिचित कराना है।


 

संपादक  :  डॉ. मनमोहन सिंह रावत
फेस-3, यमुनोत्री एनक्लेव, सेंवलाकला
देहरादून (उत्तराखंड)
E-mail: manu.laxmi2010@gmail.com 

कार्यकारी संपादक  :  डॉ.  प्रकाश उप्रेती
हाउस नं. 20, प्रथम तल, गली नं. 15,
संत नगर, दिल्ली—110084
मो.:+91 7042616767
E-mail: prakashupretti@gmail.com

संपादन सहयोग :  ललित फुलारा
ई-107, एसीई एसपायर
नोएडा एक्सटेंशन, उत्तर प्रदेश
E-mail: lalitfulara15@gmail.com  

संपादन सहयोग :  भावना मासीवाल
संपादन सहयोग :  अंकिता रासुरी

प्रबंध निदेशक :  सीमा रावत
ग्राम व पोस्ट—भाटिया (नौगांव)
जिला—उत्तरकाशी
उत्तराखंड—249171
मो.:8860999449
E-mail: himantar9@gmail.com  

संपादकीय सलाहकार

यमुना पुत्र आचार्य सुरेश उनियाल
अध्यक्ष
श्री यमुना गौलोक धाम भक्ति आश्रम
A -116, शिवमंदिर, महिंद्रा इंक्लेव शास्त्री नगर, गाजियाबाद
श्री यमुना गौलोक धाम भक्ति आश्रम, दिनकर विहार विकासनगर, देहरादून (उत्तराखण्ड)
श्री यमुना गौलोक धाम भक्ति आश्रम, पुरोला, उत्तरकाशी
+91 7011782359, 9891804615, 9457363435

जे.पी. मैठाणी
अध्यक्ष, आगाज़ फेडरेशन
लेन नंबर-3, शांति विहार, नियर ऑटिज्म वेलफेयर सोसाइटी
कौलागढ़, देहरादून -248195
E-mail: jpmaithani@gmail.com

महाबीर रवांल्टा
वरिष्ठ साहित्यकार
‘संभावना’—महरगांव,
पत्रालय—मोल्टाड़ी, पुरोला (उत्तराखंड) 249185
मो. — 8894215441
E-mail: mravalta@rediffmail.com 

डॉ. विजया सती
सेवानिवृत्त प्रोफेसर
हिंदू कॉलेज दिल्ली विश्वविद्यालय
E-mail:
vijayasatijuly1@gmail.com

एम. हिमानी जोशी
पूर्व संपादक/पूर्व सहायक निदेशक
सूचना एवं जन संपर्क विभाग
उत्तर प्रदेश (लखनऊ)
E-mail:
mjoshihimani02@gmail.com
मो. — +91 8174824292

डॉ.  कुसुम जोशी
वरिष्ठ साहित्यकार
वसुंधरा, गाजियाबाद, उत्तर प्रदेश
E-mail:
kusumjoshi1963@gmail.com

डॉ. गिरिजा किशोर पाठक
सेवानिवृत्त पुलिस महानिदेशक
भोपाल
E-mail:drgkpathak@gmail.com

डॉ. रेखा उप्रेती
एसोसिएट प्रोफेसर,
हिंदी विभाग, इन्द्रप्रस्थ कॉलेज,
दिल्ली विश्वविद्यालय, दिल्ली
E-mail: upretirekha@gmail.com

विवेक जोशी
वाइस प्रेसिडेंट
निर्मल बंग ग्रुप
नोएडा, उत्तर प्रदेश
E-mail: vivjoshi.84@gmail.com

नीलम पांडेय ‘नील’
साहित्यकार एवं समाज सेविका
देहरादून, उत्तराखंड
E-mail: neelamrdi@gmail.com

दिनेश रावत
अध्यापक एवं साहित्यकार
हरिद्वार, उत्तराखंड
E-mail:
rawat.dineshsingh2018@gmail.com

अर्जुन सिंह रावत
वरिष्ठ पत्रकार
देहरादून, उत्तराखंड
E-mail:
rawatarjunsingh@gmail.com

ध्यान सिंह रावत ‘ध्यानी’
अध्यापक एवं साहित्यकार
बड़कोट, उत्तरकाशी, उत्तराखंड
E-mail:
dhyani.sarnol@gmail.com

वेब डिजाइनर :  महेन्द्र  नेगी

आवरण पृष्ठ पेंटिंग : भास्कर भौर्याल

मार्केटिंग प्रबंधक :  सुनील लोहानी
                            :  नरेश नौटियाल

(उपरोक्त सभी पद अवै​तनिक हैं)

कार्यालय ​(दिल्ली—एनसीआर)
ई-107, एसीई एसपायर, नोएडा एक्सटेंशन, उत्तर प्रदेश

देहरादून कार्यालय
फेस-3, यमुनोत्री एनक्लेव, सेंवलाकला, देहरादून (उत्तराखंड)

  1. Avatar
    Mahabeer Ranwalta says:

    अच्छा कार्य। प्रशंसनीय। अनुकरणीय। हार्दिक बधाई।

  2. Avatar
    Bhagwati Kundlia says:

    हिमालयी विविधता पूर्ण समाज और संस्कृति को परिचित कराने का आपका प्रयास सराहनीय है।चायनीज बैम्बू के बारे में दी गई जानकारी स्वरोजगार एवं पर्यावरण दोनों के लिए लाभकारी है।
    धन्यवाद।

  3. Avatar
    Jai Prakash Tripathi says:

    माननीय सम्पादक जी,
    हिमातंर को लेकर आपके उद्देश्य पढ़ कर अच्छा लगा,
    आप अपने इस उद्देश्य में सफल हों यहीं शुभकामनाएं है ,आपको बधाई !!
    सादर

  4. Avatar
    डॉ॰पुष्पलता भट्ट ‘पुष्प’ says:

    बहुत ही सराहनीय प्रयास है । पहाड़ की संस्कृति बहुत ही समृद्ध व भव्य संस्कृति है ।मैंने तो पी॰ एच॰डी॰ एवं डी॰ लिट कुमाऊँनी लोक साहित्य पर ही किया है । मेरे पिताजी डॉ. नारायणदत्त पालीवाल ( प्रथम सचिव हिन्दी अकादमी ) जी की हार्दिक इच्छा थी कि मैं कुमाऊँनी लोक साहित्य पर ही काम करूँ।पहाड़ पर तो जितना लिखा जाये उतना कम है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *