Home Archive by category धर्मस्थल

धर्मस्थल

धर्मस्थल

15 अप्रैल को केदारघाटी के जाख मंदिर में धधकते अंगारों में नृत्य करेंगे यक्ष देव

रुद्रप्रयाग: केदारघाटी के प्रसिद्ध जाख मेले की तैयारियां शुरू हो गई हैं. आगामी 15 अप्रैल को जाख मंदिर में धधकते अंगारों पर भगवान यक्ष नृत्य कर श्रद्धालुओं की बलाएं लेंगे. जाख मेले को भव्य बनाने के लिए देवशाल स्थित विंध्यवासिनी मंदिर के प्रांगण में हक हकूकधारी एवं ब्राह्मणों द्वारा मेले की समय
धर्मस्थल

सुखादेवी: शुकवती का उद्गम व सरस्वती का संगम स्थल

कुमाऊं क्षेत्र के उपेक्षित मन्दिर – 4  डॉ. मोहन चंद तिवारी द्वाराहाट में गर्ग आश्रम से निकलने वाली गार्गी नदी गगास के पौराणिक इतिहास के बारे में तो सब जानते हैं किंतु ‘सुखादेवी’ (Sukhadevi) आश्रम से निकलने वाली इस नदी की बड़ी बहिन गुमनाम ‘शुकवती’ के बारे में कोई नहीं जानता. आजकल महावतार बाबा की गुफा […]
धर्मस्थल

अग्नेरी देवी,चौखुटिया : महाभारत काल की राष्ट्रीय धरोहर

 शोध लेख: कुमाऊं क्षेत्र के उपेक्षित मन्दिर-3 डा. मोहन चंद तिवारी चौखुटिया से लगभग 0.5 कि.मी.दूर जौरासी रोड,रामगंगा नदी के तट पर धुदलिया गांव के पास स्थित अग्नेरी देवी का का प्राचीन मन्दिर कत्यूरी कालीन इतिहास की एक अमूल्य धरोहर है. because देवभूमि उत्तराखंड की पावन भूमि में बसी रंगीली गेवाड़ घाटी की कुमाऊंनी लोकसाहित्य […]
धर्मस्थल

द्वाराहाट क्षेत्र का ‘बागेश्वर’ : सदियों से उपेक्षित पांडवकालीन तीर्थ

कुमाऊं क्षेत्र के उपेक्षित मन्दिर-1 डॉ. मोहन चंद तिवारी उत्तराखंड देव संस्कृति का उद्गम स्थल है और वहां के मन्दिरों के स्थापत्य और अद्भुत मूर्तिकला ने भारत के ही नहीं विश्व के कला प्रेमियों को भी अपनी ओर आकर्षित किया है. किंतु पुरातत्त्वविदों और स्थापत्यकला के विशेषज्ञों द्वारा द्वाराहाट,जागेश्वर, because बैजनाथ के मन्दिरों के स्थापत्य […]
धर्मस्थल

काशी विश्वनाथ परिसर लोकार्पण: जीवंत संस्कृति नगरी काशी

काशी विश्वनाथ परिसर के लोकार्पण (13 दिसंबर) पर विशेष प्रो. गिरीश्वर मिश्र  अर्ध चंद्राकार उत्तरवाहिनी गंगा के तट पर बसी काशी या ‘बनारस’ को सारी दुनिया से न्यारी नगरी कहा गया है. काल के साथ अठखेलियाँ करता यह नगर धर्म, शिक्षा, संगीत, साहित्य, कृषि, because और उद्योग-धंधे यानी संस्कृति और सभ्यता  के हर  पक्ष में […]
धर्मस्थल

जसुली शौकयाणी की मन्याओं का इतिहास

  कुमाऊं में मनिया मंदिर: एक पुनर्विवेचना -4 डॉ. मोहन चंद तिवारी सोशल मीडिया के माध्यम से प्राप्त जानकारी के अनुसार ‘मन्याओं’ का सबसे अधिक निर्माण दारमा जोहार क्षेत्र की महान दान वीरांगना जसुली शौकयाणी के द्वारा किया गया. लला (आमा) के नाम से विख्यात जसुली शौकयाणी ने कुमाऊ, गढ़वाल, नेपाल तक मन्याओं because और […]
धर्मस्थल

फेसबुक सर्वेक्षण : कुमाऊं में मन्या अवशेष…

कुमाऊं में मनिया मंदिर: एक पुनर्विवेचना -3 डॉ. मोहन चंद तिवारी द्वाराहाट के ‘मनिया मंदिर समूह’ के सन्दर्भ में पिछली दो पोस्टों में विस्तार से चर्चा की गई है.किंतु मन्याओं के बारे में इतिहास और पुरातत्त्व के विद्वानों द्वारा कोई खास जानकारी नहीं दी गई है. because इसी सन्दर्भ में फेसबुक के माध्यम से कुमाऊं […]
धर्मस्थल

द्वाराहाट, सुरेग्वेल और जालली क्षेत्र की मन्याओं का इतिहास

कुमाऊं में मनिया मंदिर : एक पुनर्विवेचना-2 डॉ. मोहन चंद तिवारी द्वाराहाट के ऐतिहासिक स्थलों से सम्बंधित शोध योजना के अंतर्गत मैंने वर्ष 2017 के 30 मई से 3 जून, की अवधि में सुरेग्वेल  और जालली के मंदिर और वहां स्थित विलुप्त ‘मन्याओं’ का सर्वेक्षण किया, तो इस क्षेत्र के मन्या मंदिरों के बारे में […]
धर्मस्थल

द्वाराहाट के ‘मन्या’ मंदिर : एक पुनर्विवेचना

डॉ. मोहन चंद तिवारी बीस-पच्चीस वर्ष पूर्व जब मैं अपनी पुस्तक ‘द्रोणगिरि:इतिहास और संस्कृति’ के लिए द्वाराहाट के मंदिर समूहों के सम्बंध में जानकारी जुटा रहा था, तो उस समय मेरे लिए ‘मन्या’ या ‘मनिया’because नामक मंदिर समूह के नामकरण का औचित्य ज्यादा स्पष्ट नहीं हो पाया था. द्वाराहाट के इतिहास के बारे में जानकार […]
धर्मस्थल

निर्धनों, वंचितों और समाज के शोषितों के न्याय प्रदाता राजा ग्वेल

डॉ. मोहन चंद तिवारी राजा ग्वेल देवता खुशहाल,समतावादी और न्यायपूर्ण, राज्य व्यवस्था के प्रतिमान हैं. राजा ग्वेलदेव ने समाज के रसूखदारों और दबंगों को खबरदार करते हुए कहा मेरे राज्य में कोई भी बलवान निर्बल को और धनवान निर्धन को नहीं सता सकता-  “न दुर्बलं कोऽपि बली मनुष्यो, बलेन बाधेत मदीयराज्ये.” ज्योतिष कुमाऊंनी दुदबोली के […]