December 3, 2020
Home Posts tagged प्रकाश उप्रेती (Page 4)
संस्मरण

चौमासेक गाड़ जैसी…

मेरे हिस्से और पहाड़ के किस्से भाग—29 प्रकाश उप्रेती आज बात- ‘सडुक’ (सड़क) और ‘गाड़’ (नदी) की. हमारा गाँव न सड़क और न ही नदी के किनारे है. सड़क और नदी से मिलने के मौके तब ही मिलते थे जब हम दुकान, ‘ताहे होअ बहाने'(नदी के करीब के खेतों में हल चलाने) और ‘मकोट (नानी
संस्मरण

घुल्यास की दुनिया

मेरे हिस्से और पहाड़ के किस्से भाग—28 प्रकाश उप्रेती आज बात- ‘घुल्यास’ की. घुल्यास मतलब एक ऐसी लकड़ी जो पहाड़ की जिंदगी में किसी बड़े औजार से कम नहीं थी. लम्बी और आगे से मुड़ी हुई यह लकड़ी खेत से जंगल तक हर काम में आगे रहती थी. बगीचे से आम, माल्टा, और अमरूद की […]
संस्मरण

आम के इतने नाम कि…

मेरे हिस्से और पहाड़ के किस्से भाग—26 प्रकाश उप्रेती आज बात- ‘आम’ और ‘नाम’ की. हमारे गाँव में आम ठीक-ठाक मात्रा में होता है. गाँव का एक सामूहिक बगीचा है जिसमें सभी गाँव वालों के पेड़ हैं. उसमें बहुत से पेड़ तो गांवों के ‘बुबुओं’ (दादा जी लोगों के नाम के) के नाम के भी […]
संस्मरण

च्यलेल परदेश और चेलिलि सौरास जाणे होय

मेरे हिस्से और पहाड़ के किस्से भाग—25 प्रकाश उप्रेती आज- ईजा, मैं और परदेश. ईजा की हमेशा से इच्छा रही कि हम भी औरों के बच्चों की तरह पढ़-लिखकर भविष्य बनाएँ. तब हमारे गाँव के बच्चों का भविष्य शहरों में जाकर ही बनता था. ईजा के लिए मुझे शहर भेजना मजबूरी और जरूरी दोनों था. […]
संस्मरण

सौण कम न भादौ

मेरे हिस्से और पहाड़ के किस्से भाग—24 प्रकाश उप्रेती आज बात- बरसात, रात, सूखा, ‘गोल्देराणी’ पूजना और पहाड़ की. पहाड़ में बरसात के दिन किसी आफ़त से और रातें आपदा से कम नहीं होती थीं. चौमास में ‘झड़’ (कई दिनों तक लगातार बारिश का होना) पड़ जाते थे तो वहीं बे-मौसम बारिश सबकुछ बहा ले […]