October 22, 2020
संस्मरण

जहां धरती पर स्नान के लिए उतरती हैं परियां!

  • मनोज इष्टवाल

सरूताल : जहां खुले आसमान के नीचे स्नान के लिए एक दिन उतरते हैं यक्ष, गंदर्भ, देवगण, परियां व तारामंडल!

ऋग्वेद के कर्मकांड मन्त्र के कन्यादान में लिखा है- “पुष्ठारक्षेत्रे मधुरम्य च वायु, छिदन्ति योगानि वृद्धन्ति आयु” बात लगभग 13 बर्ष पुरानी है. मैं बर्ष तब रवांई घाटी के भ्रमण पर था. बडकोट गंगनाली राजगढ़ी होते हुए मैं 10 जून 2005 को सरनौल गांव पहुंचा जहां आकर सड़क समाप्त हो जाती है. दरअसल मेरा मकसद ही ऐसे स्थानों की ढूंढ थी जहां अभी भी हमारा लोक समाज लोक संस्कृति अछूती थी. सच कहूं तो मुझे आमंत्रण भी मिला था कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय पुरोला की उन बेटियों का जिनके गांव पुरोला से लगभग 30 किमी. पैदल दूरी पर 8 गांव सर-बडियार थे. मुझे आश्चर्य यह था कि ये लोग आज भी क्या सचमुच 30 किमी. पैदल यात्रा तय करते हैं. बस दो दिन बाद सर गांव में जुटने वाला कालिग नाग मेला जो था. फिर क्या था प्रधान सरनौल ने पोर्टर के रूप में मुझे गांव के पदान त्रेपन सिंह राणा को उपलब्ध करवाया जिन्होंने अपनी काली घोड़ी में मेरा व कस्तूरबा की दो मैडम श्रीमती सरोज व चन्द्रप्रभा का सामान बांधा और हम चल दिए सर गांव के कालिग नाग मेले में. ये तो हुई पुरानी बात … तब से त्रेपन सिंह राणा सिर्फ पोर्टर नहीं रहा बल्कि उसके मेरे बीच हम पारिवारिक सदस्य से हो गए.

यह गजब था कि सरनौलवासी अपनी गाय भैंस वगैरह जितने भी मवेशी थे उन्हें भी अपने साथ ले जाकर जंगल छोड़ने जा रहे थे. जिन्हें अब कुछ माह जंगल ही रहना था व वहीं बुग्यालों की बेशकीमती मखमली घास को चुग कर अपने को हृष्ट पुष्ट बनाना था.

त्रेपन सिंह राणा का नम्बर फोन पर उभरते ही दिल खुश हो गया. वह इसलिए की ग्रामीण आवोहवा की वह ताजगी देहरादून की प्रदूषित वायु में भी महसूस होने लगी थी मन मस्तिस्क वहीं सैकड़ों मील दूर हिमालयी गांव सरनौल जो पहुंच गया था. त्रेपन सिंह राणा बोले- भाई जी, परसों को जात्रा सरू ताल जा रही है. आप आज ही गाड़ी लेकर पहुँच जाना मैं आपका बाट (राह) देखूंगा. मन में पहले से भी इस ट्रेक को करने का भारी उत्साह था. भला हिमालय में सिर्फ वायु, जल और जड़ी बूटियों के सहारे अपना जीवन यापन करने वाले उन दो महा साधकों को देखने का किसका मन नहीं होगा जो वर्षों से सरू ताल में कुटिया बनाकर रह रहे थे. बाबा गिरी महाराज व बाबा जमुना गिरी नामक ये साधू बारहों महीने लगभग 17,500 फिट की उंचाई पर निवास करते हैं जहां साल के आठ माह बर्फ से ढके पहाड़ होते हैं.

सरूताल

बहरहाल मैंने देर करनी उचित नहीं समझी रुक्सेक कसा और अगले ही दिन सरनौल जा पहुंचा जहां गांव के बीच में स्थित रेणुका मंदिर में तब पूजा चल रही थी व ग्रामीण तांदी गीतों में मस्त मगन थे. मंदिर से बमुश्किल 50 कदम आगे त्रेपन का घर था मुझे देखकर उनकी मां—बहन त्रपणी बच्चे और श्रीमती खुश हो गयी. त्रेपन व छोटा भाई मंदिर प्रागण में ही थे जिन्हें बुलावा भिजवाया गया. मित्र कहते हैं आप लंबा लिखते हो शोर्ट लिखा करो. इसलिए शब्दों को और हल्का कर देता हूं. सारे दिन की तैयारियों के बाद आज यात्रा प्रारम्भ हो ही गयी. सरनौल में मां रेणुका के जयकारों के बाद त्रेपन की काली घोड़ी सजी व मेरा रुक्सेक भी उसी में लाद दिया गया. गांव के ऊपर छानियों से होते हुए हम उकुल्टीधार में पहुंच गए जहां से बुग्यालों का सफर शुरू होता है.

सच कहूं तो बादलों की आंख मिचौली से यह पता ही नहीं लग पाया कि शाम ढलने को है. क्योंकि प्राकृतिक नज़ारे ही कुछ ऐसे थे. किसी देवदार की पत्तियों से रिसते बर्फीले कण सी वे बूंदे, कहीं बौनी झाड़ी के उपर कैपिंग किये सफ़ेद बर्फ तो कहीं हंसती खिलखिलाती प्रकृति के होंठ सीलती बर्फ अपना हल्का—फुल्का होने का आभास करवा रही थी जैसे कह रही हो कि दो माह पहले आते तो बताती कि मेरा साम्राज्य हिमालय में कहां से कहां तक फैला है.

शुक्र है मैंने पुरोला वाला पैदल रास्ता नहीं पकड़ा जहां से सरुताल लगभग 65 किमी. दूरी पर है. और पैदल यात्रा गुन्दियाटगांव, सालुका, संजना टॉप, राकटथाच होकर केदारगाड़ पार करती हुए आठ गांव सर बडियार पहुंचती है. सरनौल से सरूताल की दूरी लगभग 30-32 किमी. बताई जाती है जिसका मात्र अनुमान ही लगाया जा सकता है. यह गजब था कि सरनौलवासी अपनी गाय भैंस वगैरह जितने भी मवेशी थे उन्हें भी अपने साथ ले जाकर जंगल छोड़ने जा रहे थे. जिन्हें अब कुछ माह जंगल ही रहना था व वहीं बुग्यालों की बेशकीमती मखमली घास को चुग कर अपने को हृष्ट पुष्ट बनाना था. अभी सफर लम्बा था लेकिन जोश भरपूर था. उच्च हिमालयी बुग्यालों के शिखरों से आगे बढती यात्रा सुतडी पहुंच गयी थी जहां पहुंचते—पहुंचते कपड़े बदन पर चिपककर पसीने की ताकत का अनुमान करवा रहे थे. यह पसीना आना भी जरुरी है क्योंकि बदन के रोंवे में जमीं नमक तभी पिघलकर बाहर निकलती है. आज हमारा सफर यह कहते सूना गया कि चंदरुन्गी से फाछुकांडी तक ही होगा जहां बुग्यालों में रात्रि विश्राम किया जाएगा छोड़े व तांदी गीत लगेंगे और भरपूर मनोरंजन के साथ विश्राम होगा. मैं कुछ अन्य बातें इसलिए सार्वजनिक नहीं करना चाह रहा हूं क्योंकि वह मेरे विजुअल दस्तावेज के लिए सबसे अहम हैं. मैंने अपनी बोटल्स में पानी के साथ भरपूर ग्लूकोज मिश्रित किया हुआ था ताकि जब जहां भी होंठ सूखें एक घूंट भर लें. हमारे साथ पूरा जत्था था जिसमें महिलाएं, पुरुष व जवान लड़के—लड़कियां सभी शामिल थे. त्रेपन भी अपने तमलेट से दो घूंट भर लेता. बाद में पता चला कि उस तमलेट में घरेलू औषधीय पादपों से निर्मित शुद्ध दारु है. खैर वह मेरे मतलब की नहीं थी. मैं सूखे चने, बादाम, पिस्ता, किशमिस व काजू भरकर चला था. त्रेपन बोला- भाई साहब काजू मत खाना बेकार चीज है. मैं मुस्कराया लेकिन उसकी बात पर अमल भी करता रहा. हिमालयी भू-भाग में हम प्रकृति के हवाले होते हैं और वही हमें अप्रत्यक्ष रूप से गाइड भी करती है इसलिए उसकी हवाओं फिजाओं और नजारों के बीच घुले मिले उन अप्रत्यक्ष सम्भावनाओं का भी ख़याल करके आगे बढना चाहिए जो तृप्त और अतृप्त आत्माओं के रूप में हमारे हम कदम बन चलती रहती हैं. वही मैं भी अक्सर करता हूं. मुंह में कुछ भी चबाने से पहले ऐसी आत्माओं को अपना चकना अर्पित करना हमारा दायित्व भी बनता है क्योंकि हमारी कुशलता उन्हीं के हाथों में होती है.

सरूताल

चारों ओर हरे भरे बुग्याल, काले रंग में प्रणित होते शिलाखंड और तरह तरह के पुष्प व औषधीय पादपों को उपर से मंदर गति से सहलाते नम बादल ऐसे अठखेलियां करते नजर आ रहे थे मानों प्रकृति ने उन्हें नौकरी पर रखा है और कहा हो कि इन्हें पुष्पित पल्लवित करने का ठेका तुम्हारा है. लेकिन हम सबके बेतुका रौंदते कदम मुझे नागवार से लग रहे थे क्योंकि हमारी यात्रा में अनुशासन नहीं था जिसका जहां मन होता वह वहीं से रास्ता छोड़ बेवजह के बुग्यालों को अपने जूते के खुर्रों से रौंदता आगे बढ़ रहा था. मेरे ख़याल से अब हम लगभग 12 या 15  किमी. यात्रा कर फाछुकांडी पहुंच गए थे. जहां दूर कुछ लोगों ने अपने त्रिपाल लगाकर रात्रि विश्राम का डेरा डाल दिया था. सच कहूं तो बादलों की आंख मिचौली से यह पता ही नहीं लग पाया कि शाम ढलने को है. क्योंकि प्राकृतिक नज़ारे ही कुछ ऐसे थे. किसी देवदार की पत्तियों से रिसते बर्फीले कण सी वे बूंदे, कहीं बौनी झाड़ी के उपर कैपिंग किये सफ़ेद बर्फ तो कहीं हंसती खिलखिलाती प्रकृति के होंठ सीलती बर्फ अपना हल्का—फुल्का होने का आभास करवा रही थी जैसे कह रही हो कि दो माह पहले आते तो बताती कि मेरा साम्राज्य हिमालय में कहां से कहां तक फैला है.

केदारखंड के शक्ति पीठ में बर्णित इस क्षेत्र को शक्ति कैलाश के नाम से जाना जाता है. कहते हैं यहीं पर्वतराज पुत्री राजकुमारी श्रीदेवी ने तपस्या कर मां भगवती को प्रसन्न किया था. जिन्हें उनके परिजन सरू नाम से पुकारा करते थे. आजीवन कुंवारी रहने वाली श्रीदेवी ने यहीं तपस्या की इसलिए इसे श्रीताल नाम से भी जाना जाता है. जो बाद में अपभ्रंश होकर सरुताल कहलाया.

रात्रि विश्राम फाछुकांडी में करें या फिर आगे बढ़ें यही सोच के लिए त्रेपन बोला- भाई जी, क्यों न तलहटी में रुकें. मैं मुस्कराया और बोला- यार तुम शुद्ध पी रहे हो इसलिए थकान का तुम्हारे चेहरे पर नामोनिशान नहीं. यहां की दुरूह चढ़ाई हमारी घोड़ी कैसे चढ़ेगी. उसे ख़याल आया और बोला- हां यहां से तो घोड़े आगे बढ़ ही नहीं सकते. अब घोड़ा यहीं छोड़ना होगा. खैर रात्रि   विश्राम के पश्चात हम अगले दिन अपने सफर पर निकल पड़े. यहां से भी अलग–अलग रास्ते हैं एक जो सीधे रतवड़ी (रतेड़ी) जाता है जबकि दूसरा तलहटी. तलहटी में सारे रास्ते आकर मिलते हैं चाहे आप पुरोला से सर गांव होकर पहुंचों या फिर सांकरी से जूडा का तालाब, केदारकांठा, बनियाथाच, धुन्धा थाच, पुष्टारा बुग्याल से तलहटी या फिर देवजानी से इसी मार्ग होते हुए तलहटी. तलहटी अक्सर सभी का विश्राम स्थल होता है. तलहटी से मात्र 7 किमी. ही सरूताल की दूरी शेष रह जाती है. आप तलहटी से जब कोटादामिया पहुंचते हैं तब आगे मुंह के रास्ते जीब बाहर निकलनी शुरू हो जाती है. यहां से आगे भैरों घाटी व सप्तऋषि पर्वत श्रृंखला को लांघना सबसे बड़ी तपस्या लगती है. इसलिए मैं तो सलाह दूंगा कि आप कोटा दामिया में लगभग दो घंटे रिलेक्स कर ही भैरों घाटी का सफर जारी रखें . यहां के पर्वत श्रृंखला से गुजरने पर जहां दुरूह चट्टानें आपका रास्ता रोकती हैं वहीं ऑक्सीजन की भारी कमी के कारण आपने चढ़ते उतरते पैर आपका साथ छोड़ना शुरू कर देते हैं. कोटादामिया का जल सचमुच आपके शरीर में स्फूर्ति भर देता है. तलहटी से जब आप रतवड़ी या रतेड़ी पहुंचते हैं तब तक आप 5 किमी. का सफर कर चुके होते हैं और इस पांच किमी. के सफर को आप 4 से 6 घंटों में पूरा करें तो आपकी स्फूर्ति बनी रहेगी. रतेड़ी से 2 किमी. दूरी पर स्थित सरूताल के नजारे दिखाई देने शुरू होते हैं जिसके चारों ओर पर्वत श्रृंखलाओं के बीच ऐसा महसूस होता है जैसे तरासे हुए पत्थर इकट्ठा किये गए हों और कभी कालान्तर में यहां आबादी रही हो.

केदारकांठा ट्रैक (फोटो गूगल बाबा की शरण से )

इस स्थान का नाम सरूताल क्यों पड़ा आइए इसे भी जान लेते हैं. केदारखंड के शक्ति पीठ में बर्णित इस क्षेत्र को शक्ति कैलाश के नाम से जाना जाता है. कहते हैं यहीं पर्वतराज पुत्री राजकुमारी श्रीदेवी ने तपस्या कर मां भगवती को प्रसन्न किया था. जिन्हें उनके परिजन सरू नाम से पुकारा करते थे. आजीवन कुंवारी रहने वाली श्रीदेवी ने यहीं तपस्या की इसलिए इसे श्रीताल नाम से भी जाना जाता है. जो बाद में अपभ्रंश होकर सरुताल कहलाया. जहां लोग यश कीर्ति व श्री वृद्धि के लिए यात्रा करते हैं व ताल की परिक्रमा कर स्नान करते हैं.

प्रकृति की गोद में बसा रमणीक गांव देवजानी

विगत कई वर्षों से यहीं तप कर रहे बाबा गिरी महाराज बताते हैं कि जब यहां अत्याधिक बर्फ गिरनी शुरू हो जाती है और ठंड का प्रकोप बढ़ जाता है तब वे ध्यान मुद्रा में चले जाते हैं जिस से उन्हें यहां गर्मी लगनी शुरू हो जाती है. वे कहते हैं कि यह मन और चित्त का भ्रम है. अगर आपका अपनी इन्द्रियों पर वश है तब सब कुछ आपके वश में है. उन्हें जब मैंने पूछा कि वे बारहों माह यहां रहकर क्या खाते हैं तब वे मुस्करा कर बोले प्रकृति ने इतने पादप दिए हैं जिनमें संजीवनी है इसलिए आप यहा घास पास व जड़ी खाकर भी स्वस्थ तन्दुरस्त रह सकते हैं.

देवजानी गांव में ओखली में धान कूटती हुई महिलाएं

इस हिमालयी रेंज में जहां केदारकांठा के बारे में किवदंतियां हैं कि यहां पहले आदिगुरू शंकराचार्य केदारनाथ मंदिर का निर्माण करवा रहे थे लेकिन देवजानी गांव की गाय के रम्भाने की आवाज सुनकर उन्होंने निर्माण अधूरा छोड़ दिया और उसे वर्तमान केदारनाथ में निर्मित करवाया. पुष्टारा बुग्याल के बारे में कहा जाता है कि यहां देवता व परियां निवास करती हैं तथा यह स्वस्थ के लिए बेहद माकूल स्थान है इसीलिए तो पुष्टारा के बारे में ऋग्वेद के कर्मकांड मंत्र के कन्यादान में लिखा गया है- “पुष्ठारक्षेत्रे मधुरम्य च वायु,छिदन्ति योगानि वृद्धन्ति आयु” धुन्दा थाच में देवी श्री पर गलत नजर डालने के कारण शक्ति ने धूम्र नामक दैन्त्य का वध किया था. तब से इसका नाम धुन्दा थाच ही पड़ गया. वहीं द्वापर युग में कृष्ण ने कालिया नाग को यमुना नदी से सरूताल चले जाने को कहा था जहां वह गरुड़ से अपने प्राण रक्षा कर सकें. इस क्षेत्र से स्वर्गारोहिणी, बंदरपूंछ, चौखम्बा, भराड़सर ताल, हरकीदून, स्वर्गारोहिणी, काली नाग शिखर सहित विभिन्न हिमालयी पहाड़ियां दिखाई देती हैं. केदारखंड के अनुसार पांडवों को यहीं भैरव रूप में भगवान् शिव ने दर्शन दिए व यहीं भैंसे ने उन्हें स्वर्गारोहण का मार्ग बताया. रास्ते भर आपको सयाणी देवी मंदिर, मात्रियों के मंदिर मिलते हैं. बाबा जमुना गिरी बताते हैं कि जिस दिन आसमान में एक भी बादल नहीं होता उस दिन देवगण, परियां व तारामंडल तालाब में स्नान करने के लिए आते हैं. वो सरूताल को पांचवा धाम बताते हैं.

(ले​खक वरिष्ठ पत्रकार एवं CEO हिमालयन डिस्कवर.कॉम हैं)

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *