साहित्‍य-संस्कृति

आन-बान और शान की प्रतीक हैं टोपियां…

आन-बान और शान की प्रतीक हैं टोपियां…
  • सुनीता भट्ट पैन्यूली

सर्द मौसम है, कभी बादल सूर्य को आगोश में ले लेते हैं कभी सूरज देवता बादलों को पछाड़कर धूप फेंकते यहां-वहां नज़र आ जाते हैं, कभी पेड़ो के झुरमुट में, कभी आसमान so में प्रचंड चमकते, कभी खेतों के पीछे, कभी पहाड़ियों में धीरे-धीरे सरकते कभी नदी का माथा  चूमते किंतु इस धूप में ताबिश नहीं है बनिस्बत इसके सर्दी की धूप में कहीं न कहीं नमी भी है. जरा-सी धूप मलने का मन हो देह में तो एक चुभन भरी हवा चेहरे को छूकर, सर्र से कानों से होकर गुज़र जाती है.

माथा

फिर क्या किया जाये? नमी और कोहरे भरे दिन से धूप का आंख-मिचौली करना कहां सुकून दे पाता है ठिठुरते शरीर को. झट से ओढ़ लिये जाते हैं शाल, स्कार्फ, so कैप या टोपी तब कहीं जाकर निजात मिल पाती है ठंड से.

कड़कड़ाती ठंड  हो और दांत किटकिटा रहे हों ऐसे में टोपी, स्कार्फ़ मफलर पहनने का ख़्याल न आये तो सर्दी का मजा लेना बेईमानी है.

माथा

बाज़ार में रंग-बिरंगी विभिन्न आकार because और डिज़ाइन वाली टोपियों की बहार है. आन-लाईन सेल में भी टोपियां धकापेल बिक रही हैं और फेसबुक में भी टोपी चैलेंज की बाढ़ आ गयी हैं टोपी पहनी हुई तस्वीरों की, यक़ीनन बहुत ख़ूबसूरत दिखती हैं ये टोपी वाली तस्वीरें. यदाकदा मैं भी टोपी वाली तस्वीर पोस्ट कर देती हूं फेसबुक में.

माथा

मेरे फेसबुक मित्र शशि मोहन रवांल्‍टा जी से एक दिन because जानकारी मिली की उनको टोपियों का बहुत शौक है और रोचक संग्रह है उनके पास टोपियों का. उसी समय जिज्ञासा हुई मुझे टोपियों का इतिहास जानने की और विभिन्न प्रकार की टोपियों के बारे में पढ़ने की. टोपियों के बारे में अनंत उपलब्ध है विभिन्न साइट्स में टोपियों के बारे में इतना लिखना because संभव नहीं किंतु इतना जान पायी कि सिर को ढकने की परंपरा का आगाज़ तो भारत में ही हुआ किंतु  रोमन, ग्रीक, फारस, हुण, कुषाण, मंगोल, मुगल आदि के काल में भारतीय परिधानों के साथ ही सिर के पहनावे में भी बदलाव आता गया.

माथा

नई, टोपियां या साफे प्रचलन because में आये और हम भारतीयों ने इनमें स्वयं को पहले की अपेक्षा ज़्यादा सहज महसूस किया. सिर के पहनावे को कपालिका, शिरस्त्राण, शिरावस्त्र या सिरोवेष कहते हैं.

यह सिर का पहनावा हर प्रांत में अलग नाम व अलग  रंग-रूप में होता है. हमारे यहां पगड़ी (साफा) और टोपी पहनने का प्रचलन है, दोनों में फ़र्क भी है और दोनों का because अपना-अपना ढंग और परंपरायें भी हैं धारण करने की. पगड़ी का इतिहास ख़ासतौर पर राजपूत समुदाय से जुड़ा हुआ है. इसे पाग साफा और पगड़ी कहा जाता है.

राजस्थान में राजपूत समाज में साफों के अलग-अलग रंगों व बांधने की अलग-अलग शैली का इस्तेमाल समय के अनुसार होता है जैसे युद्ध के समय राजपूत सैनिक  because केसरिया साफा पहनते थे अतः केसरिया रंग का साफा युद्ध और शौर्य का प्रतीक बना, सामान्यतः बुजुर्ग खाकी रंग का गोल साफा सिर पर  पहनते हैं और विभिन्न समारोहों में पचरंगा, चुंदड़ी, लहरिया आदि रंग-बिरंगे साफो का प्रयोग होता है. सफेद रंग का साफा शोक का पर्याय माना जाता है.

माथा

यदि बात केवल साफे की हो तो मालवा because में अलग प्रकार के और राजस्थान में अलग प्रकार का साफा बांधा जाता है. जिसे फेटा भी कहा जाता है. महाराष्ट्र, गुजरात, हरियाणा,पंजाब में यह अलग होता है तो तमिलनाडु में अलग.राजस्थानी में मारवाड़ी साफा अलग होता है तो सामान्य राजस्थानी में अलग.

माथा

राजस्थान में राजपूत समाज में साफों के because अलग-अलग रंगों व बांधने की अलग-अलग शैली का इस्तेमाल समय के अनुसार होता है जैसे युद्ध के समय राजपूत सैनिक  केसरिया साफा पहनते थे अतः केसरिया रंग का साफा युद्ध और शौर्य का प्रतीक बना, सामान्यतः बुजुर्ग खाकी रंग का गोल साफा सिर पर  पहनते हैं और विभिन्न समारोहों में पचरंगा, चुंदड़ी, लहरिया आदि रंग-बिरंगे साफो का प्रयोग होता है. सफेद रंग का साफा शोक का पर्याय माना जाता है.

माथा

मुगलों ने अफगानी, पठानी because और पंजाबी साफे को अपनाया.सिक्खों ने इन्हीं साफे को जड्डे में बदल दिया जो कि उन्हें एक अलग ही पहचान देता है.

शंकराचार्य जब because उत्तराखंड आये तो उनके साथ और उनके बाद काफी मराठी ब्राह्मण भी यहां आये और फिर यहीं बस गये. मराठियों के साथ उनकी मराठी टोपी भी यहां आ गयी उसके बाद यहां टोपी पहनने का चलन शुरु हो गया इस प्रकार जिसे उत्तराखंडी टोपी कहा जाता है वह मूलतः महाराष्ट्र से आयी है लेकिन वे उजली टोपी पहनते थे जो बाद में गांधी टोपी कहलायी.

माथा

हमारा भारत देश विविध because परंपराओं, परिधानों एवं मान्यताओं का देश है.इसी देश के अवांतर भिन्न-भिन्न प्रांत हैं और उनकी वेश- भूषायें हैं जो उस प्रांत की विशिष्ट पहचान और संस्कृति को निर्धारित करती है उसी वेषभूषा का अभिन्न हिस्सा है “टोपियां” जो सामाजिक प्रतिष्ठा के साथ-साथ हमें मौसम के अनुसार सुरक्षा प्रदान करती है. इन्हीं टोपियों में खास टोपियां हैं उत्तराखंड की गढ़वाली टोपी, हिमाचली टोपी,नेपाली टोपी,तमिल टोपी, मणिपुरी टोपी, पठानी टोपी, हैदराबादी टोपी आदि अनेक प्रकार की टोपियां आज भी प्रचलन में हैं इन्हीं टोपियों की फ़ेहरिस्त में गांधी because टोपी भी है जिसे कभी गांधी जी ने पहना होगा.

दरअसल गांधी टोपी कि बात करें तो गांधी टोपी अमूमन खादी से बनायी जाती है और आगे और पीछे से जुड़ी हुई होती है तथा उसका मध्य भाग फूला हुआ होता है इस प्रकार की टोपी because के साथ महात्मा गांधी का नाम जोड़कर इसे गांधी टोपी कहा जाता है किंतु इस का अर्थ ये नहीं कि गांधी जी ने इस टोपी का अविष्कार किया था. यहां इस बात का ज़िक्र करना माकूल है कि उत्तराखंड में पहनी जाने वाली टोपियां भी गांधी टोपी के रूप में प्रचलित हुईं माना जाता है कि उत्तराखंड के मूल  निवासियों की अपनी कोई विशेष पहाड़ी टोपी नहीं है यहां के मूल निवासी टोपी नहीं बल्कि पग्गड़ (डांटा) पहनते थे.

माथा

रामपुरी टोपी महात्मा गांधी के because साथ आठ दशक पूर्व शुरु हुई.1931 में जब बापू मोहम्मद अली जौहर से मिलने रामपुर पहुंचे थे उस वक़्त बी अम्मा ने हाथों से बनी सूती कपड़े की टोपी महात्मा गांधी को भेंट की यही टोपी बाद में गांधी टोपी के नाम से मशहूर हुई.

माथा

शंकराचार्य जब उत्तराखंड आये because तो उनके साथ और उनके बाद काफी मराठी ब्राह्मण भी यहां आये और फिर यहीं बस गये. मराठियों के साथ उनकी मराठी टोपी भी यहां आ गयी उसके बाद यहां टोपी पहनने का चलन शुरु हो गया इस प्रकार जिसे उत्तराखंडी टोपी कहा जाता है वह मूलतः महाराष्ट्र से आयी है लेकिन वे उजली टोपी पहनते थे जो बाद में गांधी टोपी कहलायी. आजादी के आंदोलन में यह स्वतंत्रता सेनानियों की because पहचान बन गयी थी किंतु टिहरी के राजा को सफेद टोपी से चिढ़ हो गयी थी क्योंकि इसे स्वाधीनता सेनानी पहनते थे अतः राजा ने सफेद टोपियों पर प्रतिबंध लगा दिया और परिणामस्वरूप काली टोपी प्रचलन में आयी.

माथा

एक दूसरी रामपुरी  टोपी because का ज़िक्र  भी गांधी टोपी के संबंध में करते हैं .रामपुरी टोपी महात्मा गांधी के साथ आठ दशक पूर्व शुरु हुई.1931 में जब बापू मोहम्मद अली जौहर से मिलने रामपुर पहुंचे थे उस वक़्त बी अम्मा ने हाथों से बनी सूती कपड़े की टोपी महात्मा गांधी को भेंट की यही टोपी बाद में गांधी टोपी के नाम से मशहूर हुई.

माथा

हिमाचल की टोपीयों का ज़िक्र because न हो तो टोपियों की शान में गुस्ताख़ी होगी. हिमाचल प्रदेश अपने ख़ूबसूरत सौंदर्य ,अपनी प्राचीन वेष-भूषा, खान-पान संस्कृति, कलाकृतियों व भिन्न-भिन्न परंपराओं के लिए जाना जाता है. हिमाचल की पहाड़ी टोपी को पहले बुज़ुर्ग ही अपने सर पर सजाते थे परंतु युवाओं में भी अपने परिधान अपनी परंपरा अथार्त अपनी थाती हिमाचली टोपी को पहनने का उत्साह दिख रहा है.

माथा

हिमाचली टोपी

हिमाचली टोपी because हिमाचली लोगों के जीवन में एक अहम स्थान रखती है. शादी-ब्याह, तीज, त्योहार या कोई भी मांगलिक कार्य का अवसर हो हिमाचली लोगों के इन अवसर पर टोपी पहनाने की परंपरा काफी पुरानी है.

माथा

यमुना घाटी के रवांई में because पहने जाने वाली टोपी ‘रवांल्‍टी टोपी’ के नाम से प्रसिद्ध है. रवांई में ऊन की बनी गोल टोपी प्रचिलत है. इसको ‘सिकली’, ‘सेकई’ या ‘फेडसेकई’ कहते हैं.

माथा

किसी राजनीतिक, फिल्मी या विदेशी हस्तियों को हिमाचलियों द्वारा टोपी पहनाकर स्वागत करना  भी हिमाचलियों की परंपरा है और बहुत सम्मान की बात मानी जाती है. हिमाचली टोपियों का इस्तेमाल विभिन्न रंगों में किया जाता है जैसे हरा और लाल रंग यह हिमाचल के गर्व से भी जुड़ा हुआ है क्योंकि यह मेहमानों के सम्मान में भी विवाह और अन्य उत्सवों के दौरान विशेष स्थान पाता है.

हिमाचली टोपियां तीन प्रकार की होती हैं-

माथा

  1. कुल्लुवी टोपी (कुल्लु जिला)
  2. बुशहरी टोपी (रामपुर,बुशहर)
  3. किन्नौरी टोपी (किन्नौर)
रवांल्‍टी टोपी

माथा

यमुना घाटी के रवांई में पहने जाने because वाली टोपी ‘रवांल्‍टी टोपी’ के नाम से प्रसिद्ध है. रवांई में ऊन की बनी गोल टोपी प्रचिलत है. इसको ‘सिकली’, ‘सेकई’ या ‘फेडसेकई’ कहते हैं. प्राय बाजगी लोग जो पूर्व में वाद्ययंत्रों के साथ-साथ सिलाई का कार्य भी किया करते थे वही इसी बनाने में पारंगत होते थे. टोपी को बनाने के लिए वह एक गोलाकार आकृति का प्रयोग करते हैं जिसे सांचा कहा जाता है. because टोपी को सुसज्जित करने के लिए कई बार स्‍थानीय लोग ब्रह्मकमल और हरैई (हरियाली) की छुपकी को भी टोपी के ऊपर लगाते हैं. टोपी सर्दी व गर्मी दोनों मौसमों के लिए अनुकूलित होने के साथ-साथ प्रतिष्‍ठा का भी महत्‍वपूर्ण सूचक माना है.

माथा

टोपियां पहनने का प्रचलन जितना because भारत में है उतना पश्चिमी देशों में भी है बल्कि वहां टोपियां फैशन के तौर पर अधिक पहनी जाती हैं.

काटन टोपियां यह दुनिया भर में इस्तेमाल की जाने वाली टोपियों की आम किस्म है.ऊन की टोपियां जो कि भेड़ के बालों से बनी होती है जो कि बहुत नर्म और लचीली होती है because और बहुत गर्म होती हैं, चमड़े की टोपी जानवरों के चमड़े से बनायी जाती हैं और बहुत टिकाऊ होती हैं.पालिएस्टर टोपी सबसे ज़्यादा इस्तेमाल की जाने वाली आधुनिक टोपी होती है.

माथा

Fedora caps-इन टोपियों पर because छोटे फोल्ड होते हैं और इन टोपियों में रेशमी रिबन भी होता है जो इस कैप को दूसरी कैप से अलग बनाते हैं.

Boater caps- जैसा कि नाम से ही ज्ञात हो रहा है इन टोपियों में फ्लैट टाप और फ्लैट ब्रिम होता है.

Sun Caps- ये टोपियां सिर because को अच्छी तरह से कवर करती हैं चेहरे और कंधों को धूप से बचाने के लिए ये इस तरीके से डिज़ाईन की गयी हैं. लंबाई और ऊंचाई को कई इंच तक बदला जा सकता है.

माथा

बेसबॉल cap-यह कैप सबसे अधिक because इस्तेमाल की जाने वाली कैप है इसमें टोपी का अगला भाग लंबा होता है जो चेहरे को ढकता है.

न्यूज़ boy caps, यह फ्लैट कैप के समान है और इसे एपल cap के नाम से भी जाना जाता है.टोपी के मुख्य भाग के साथ संलग्न करने के लिए शीर्ष पर बटन होता है.यह शैली because उन्नीसवीं शताब्दी में लोकप्रिय थी और अभी भी अपने फैशन के कारण लोकप्रिय है.

माथा

Pork pie caps-यह फेडोरा कैप के because जैसे ही होती हैं.इन कैप्स में ब्रोय ,पंख और अन्य सजावटी चीजें हैं इसलिए ये उच्चतम स्तर के फैशन कैप हैं.

Bobble Cap-इस टोपी के because शीर्ष पर एक डिजाईन है.ये फर वाली विभिन्न आकार की टोपियां होती  हैं.

Beret Cap-ये गोल because और सपाट होते हैं जिसे ऊन जैसे कपड़ों से बुना जाता है.इस कैप को समय के साथ एक उच्च फैशन एक्सेसरी के रुप में विकसित किया गया है.

माथा

Top Cap-यह फार्मल टोपी होती है यह शीर्ष पर उच्च सिलेंडर आकार में रहता है.

Beanie Cap,इन्हें आम तौर पर ठंड के मौसम के लिए उपयोग किया जाता है.इन कैप्स में सिर को पूरी तरह ढकने की क्षमता होती है.

माथा

Mortarboard Caps- ये एकेडमिक ड्रेसिंग के because लिए एक आइटम के रूप में उपयोग की जाने वाली कैप है.इसे स्कवायर अकादमी टोपी,स्नातक टोपी या आक्सफोर्ड टोपी भी कहते हैं.

माथा

Visor Cap-ये स्पोर्टी कैप आम तौर पर because गोल्फ या टेनिस खेलने के लिए उपयोग की जाती हैं.ये सूरज से चेहरे की रक्षा करते हैं.इन कैप्स में फिटिंग को समायोजित करने के लिए प्लास्टिक की ज़िप होती है.

Bucket Caps-ये हल्के और हवादार होती हैं जो धूप में दिन बिताने में मदद करती हैं.इन टोपियों में गोल मुकुट होता है और पूर्ण सुरक्षा देने के लिए आंखों की ओर झुके होते हैं.

उपरोक्त टोपियों के अतिरिक्त कुछ और कैप जैसे पनामा, trapper, fascinator, pillbox, bowler cap आदि भी पश्चिम देशों में ख़ूब प्रचलित हैं.

माथा

टोपियों की भी अपनी गाथायें हैं अपना वजूद है जिनसे सामाजिक प्रतिष्ठा, सम्मान, कर्तव्य, संस्कृति का प्रसार जुड़ा है, अपनी अलग सामुदायिक पहचान, अपनी थाती, अपनी धरोहर बचाने के लिए भी नयी पीढीयों का टोपी धारण करना सराहनीय है.

माथा

नेपाली टोपी

इन सभी टोपियों के अतिरिक्त नेपाली टोपी जिसे ढाका टोपी भी कहा जाता है नेपाल में बहुत प्रसिद्ध है.दरअसल जिस कपड़े से यह  टोपी बनायी जाती है उसे ढाका कहते हैं इसलिए इस टोपी का नाम ढाका टोपी पड़ा है.

माथा

एक और टोपी होती है जिसे बोहरा टोपी कहते हैं. बोहरा की महिलायें रिदा पहनती हैं जिसमें महिलाओं का चेहरा नहीं ढका होता है जबकि पुरूष सफेद रंग की टोपी जिसमें सुनहरे रंग की एम्ब्राइडरी होती है पहनते हैं जिसे बोहरा टोपी कहा जाता है.

इसके अलावा ताकि यह टोपी भी होती है जो रंग-बिरंगी, छोटी और गोलाकार होती हैं.

माथा

टोपियों के अथाह रंग विश्वभर में फैले हुए हैं जिनका संक्षिप्त नाम लेना ही मेरे बस में है इनमें  अफगानी पकोल टोपी, पश्तुन टोपी, मस्कती टोपी, सुडानी टोपी, तुर्की टोपी,लखनवी दो पल्ली टोपी, शंकु के आकार की टोपी तुर्की भी विशेष महत्व रखती हैं.

माथा

टोपियां न केवल हमें सर्दी, धूप व बारिश से बचाती हैं बल्कि ये टोपियां सामाजिक प्रतिष्ठा का भी परिचायक हैं. भारत देश ही अकेला देश है जहां इतनी विविधता है हर किसी धर्म या समुदाय का अपना अलहदा अंदाज़ है पहनावा धारण करने का उसी सलीके में रहना का.

टोपियों की भी अपनी गाथायें हैं अपना वजूद है जिनसे सामाजिक प्रतिष्ठा, सम्मान, कर्तव्य, संस्कृति का प्रसार जुड़ा है, अपनी अलग सामुदायिक पहचान, अपनी थाती, अपनी धरोहर बचाने के लिए भी नयी पीढीयों का टोपी धारण करना सराहनीय है.

(लेखिका साहित्यकार हैं एवं विभिन्न पत्रपत्रिकाओं में अनेक रचनाएं प्रकाशित हो चुकी हैं.)

Share this:
About Author

Himantar

हिमालय की धरोहर को समेटने का लघु प्रयास

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *