November 30, 2020
संस्मरण

अर्थ और सौंदर्य से ही स्‍त्री जीवन में आता है नयापन!

जवाबदेही की अविस्मरणीय यात्रा भाग-1

  • सुनीता भट्ट पैन्यूली

वर्तमान की मंजूषा में सहेजकर रखी गयी स्मृतियां अगर उघाड़ी जायें तो वे पुनरावृत्ति हैं उन अनुभवों को but तराशने हेतु जो तुर्श भी हो सकती हैं, मीठी भी या फिर दोनों… यक़ीनन कुछ न कुछ because हासिल हो ही जाता है इन स्मृतियों के सफ़र के दौरान कुछ खोने के बावजूद भी, चाहे उस यात्रा का हासिल आत्मविश्वासी बनना हो, निर्भीक हो जाना हो या स्वयं के अस्तित्व को खोजना हो या फिर लौह हो जाना हो वक्त के हथौड़े से चोट खाकर.

प्रेम

सभी सांकेति फोटो पिक्सबे.कॉम से साभार

स्त्री जीवन में कुछ अर्थ और सौंदर्य हों so तभी उसके जीवन में एक उत्साह और नयापन बना रहता है. सौंदर्य से अभिप्राय आत्ममुग्धता या भौतिकवादिता नहीं वरन कुछ उसके मन का गुप-चुप कुलांचे मारता रूहानी संगीत है जिसकी धुन व लय पर उसके पैर थिरकें या एक नीला विस्तीर्ण नीरभ्र आकाश जिस पर वह सिर्फ़  अपने अन्वेषण और हुनर की कूंची से अपने स्वप्नों की चित्रकारी करे किसी सौंदर्य बोध को परखने वाले चितेरे की तरह.

की

एक मीठा मालपुआ-सी होती है स्त्री, जिसे प्रेम की मीठी चाशनी में डूबोओ तो हल्की होकर सतह पर तैरने लगती है और फिर… जो मर्जी़ कुछ भी अपने मन का करवा लो उससे. because क्या चाहिए उसे बित्ती भर आकाश अपनी परवाज़ भरने के लिए. बालिश्त भर सेहन अपने मन के so संगीत पर थिरकने के लिए किंतु इन सुक्ष्म नपी-तुली अभीष्ट के बावज़ूद भी ज़मींदोज़ होकर रह जाते हैं स्त्रियों के स्वपन्न कहीं.

मीठी

एक मीठा मालपुआ-सी होती है स्त्री, जिसे प्रेम की मीठी चाशनी में डूबोओ तो हल्की होकर सतह पर तैरने लगती है और फिर… जो मर्जी़ कुछ भी अपने मन का करवा लो उससे. क्या but चाहिए उसे बित्ती भर आकाश अपनी परवाज़ भरने के लिए. बालिश्त भर सेहन अपने मन के संगीत पर थिरकने के लिए किंतु इन सुक्ष्म नपी-तुली अभीष्ट के बावज़ूद भी ज़मींदोज़ होकर रह जाते हैं स्त्रियों के स्वपन्न कहीं.

चाशनी

सौभाग्यकांक्षीणी थी मैं कि मुझे अपने स्वप्नो की टपरी पर पहुंचकर महत्त्वकांक्षा की पताका फहराने के लिए किसी भी हालात से समझौता नहीं करना पड़ा. थोड़ी हार-मनोहार because और अपनी बात  तर्क के साथ रखने पर पति और परिवार से स्वीकृति मिल गयी और मुझे अपने मन के because नीलाभ आकाश में परवाज़ भरने के लिए पंख. घर, गृहस्थी परिवार बच्चों को लादे जीवन की रेलगाड़ी में एक डिब्बा और जुड़ गया जिसमें मेरा सपना भी सफऱ करने लगा. एक ही लय में तान भरती ज़िंदगी में एक नया सुर जुड़ा और मैं तैयार हो गयी अपनी अलग राह पकड़ने के लिए.

मुझे

मैं उसकी उपलब्धि because से बहुत प्रभावित हुई. एक दिन बातों ही बातों में उसने कहा, दी तू भी क्यों नहीं करती है इसी विषय पर एम.बी.ए.? मैंने मन मसोस कर कहा, कहां कर पाऊंगी? लेकिन उसके बहुत ज़ोर देने पर मेरे मन से भी उम्मीदों के शरारे छूटने लगे.

अपने

अंग्रेजी विषय में एम.ए. किया because और पास करते ही शादी हो गयी, दिन मधुमास से फलते-फूलते गुजर रहे थे, दो प्यारी बेटियों की मां भी बन गयी. समय अभी पंख लगाकर उड़ा भी नहीं था कि पारिवारिक जीवन की एकरसता से कहीं न कहीं कुंठा उपजने लगी, महसूस हो रहा था कि मानो मेरा कुछ है शायद जो कहीं बहुत पीछे छूट गया… मन में जिज्ञासा पनपने लगी फिर से उस छूटे हुए को पाने की… so किंतु क्या पुनः समेट पाऊंगी अपने छितरे हुए अस्तित्व को घर गृहस्थी के पाटों के मध्य? उत्कंठा यूं ही नहीं जन्म ले  रही थी, दिलो-दिमाग पर मेरे… किसी भी परिणति तक पहुंचने के लिए कोई न कोई आईना कारक होता है प्रतिबिंब दिखाने के लिए.

पढ़ें— जब एक रानी ने अपने सतीत्व की रक्षा के लिए धर लिया था शिला रूप!

स्वप्न

मेरी छोटी बहन ने  प्रथम श्रेणी में एम.बी.ए (HRD) किया और उसे एक बड़ी कंपनी जॉब भी मिल गई. मैं उसकी उपलब्धि से बहुत प्रभावित हुई. एक दिन बातों ही बातों में उसने कहा, because दी तू भी क्यों नहीं करती है इसी विषय पर एम.बी.ए.? मैंने मन मसोस कर कहा,but कहां कर पाऊंगी? लेकिन उसके बहुत ज़ोर देने पर मेरे मन से भी उम्मीदों के शरारे छूटने लगे. दो या तीन दिन का समय लेने के उपरांत मैंन बहन को रूड़की फोन लगाया और कोर्स के वाबस्ता सारी जानकारी हासिल की और अंतत:  PGDHRD Post Graduate Diploma in Human resources Development Management (PGDHRD) कोर्स के आवेदन के लिए मैंने अपना मन बना लिया, जो मुझे मेरी रूचि के लिए अनूकूल महसूस हुआ.

की

जिस कालेज से मैं PGDHRD करने वाली थी because उस कालेज का नाम जे.वी. जैन स्नाकोत्तर महाविद्यालय, सहारनपुर था so असल में कोर्स का प्रबंधन और परीक्षायें यह कालेज करा रहा था किंतु डिग्री U.P. Rajarshi Tandon Open University Allahabad द्वारा प्रदान की जानी थी.

टपरी

कोर्स के शुभारंभ की पहली घटना यह घटी कि because सबसे पहले मैंने छोटी बहन से फोन नंबर लेकर  PGDHRD के हेड आफ द डिपार्टमेंट से बात कर एडमिशन से संबंधित जानकारी और कालेज के बंद और खुलने के समय के बारे में पूछा सभी जानकारी उन्होंने because यथोचित मुहैया करायीं फोन पर और सकारात्मक प्रतिक्रिया मिलने पर  एक मौन सी उलझन दोबारा से but पढ़ने की जो हावी थी दिलो-दिमाग पर आजकल लगा कम होती जा रही थी धीरे-धीरे.

रिक्शा

एक दिन पहले अजीब-सी असमंजस में थी मैं मन में कहीं अजीब से डर के बादल फेफड़ों में इधर-उधर तैर रहे थे… काम में सही से हाथ नहीं लग रहा था कि ओखल में सिर तो because दे दिया है कर पाऊंगी या नहीं? कठिन होगा तो? पढ़ना भी तो पड़ेगा? और बच्चे, so घर का काम कैसे व्यवस्थित होगा? प्रश्न पर प्रश्न कूद-कूद कर दोबारा पढ़ने के जोश में आजकल हरे-भरे हो गये दिमाग में तबाही मचा रहे थे…

रिक्शा

अब कालेज के हेड आफ द डिपार्टमेंट की सकारात्मक प्रतिक्रिया का नतीजा यह रहा कि तुरंत बात की फोन पर छोटी बहन से और हम दोनों ने निश्चित किया कि बहन रूड़की से आयेगी because और मैं देहरादून से और हम दोनों सहारनपुर के बस अड्डे पर मिलेंगे. और फिर यहां से because शुरू हुई मेरी सकुचाहट और जोश समिश्रित अपने स्वप्नों को मूर्तरूप देने के लिए मेरे अपने मन की मेरी ही जवाबदेही की अविस्मरणीय यात्रा…

रिक्शा

पढ़ें— ग़म-ए-ज़िदगी तेरी राह में

जैसा कि तय हुआ था कल सुबह साढ़े दस और ग्यारह बजे के बीच सहारनपुर बस अडडे में छोटी बहन और मेरे मिलने का. एक दिन पहले अजीब-सी असमंजस में थी मैं because मन में कहीं अजीब से डर के बादल फेफड़ों में इधर-उधर तैर रहे थे… because काम में सही से हाथ नहीं लग रहा था कि ओखल में सिर तो दे दिया है कर पाऊंगी या नहीं? कठिन होगा तो? पढ़ना भी तो पड़ेगा? और बच्चे, घर का काम कैसे व्यवस्थित होगा? प्रश्न पर प्रश्न कूद-कूद कर दोबारा पढ़ने के जोश में आजकल हरे-भरे हो गये दिमाग में तबाही मचा रहे थे, इसी उहापोह में छोटी बहन को because फिर फोन किया… उसने फिर मुझमें उत्साह और आत्मविश्वास जगाया और इसबार मैं कृतसंकल्प हो गयी कि नहीं चाहे कुछ भी हो मुझे आगे पढ़ना है एक और डिग्री लेनी है.

पर

सुबह क्योंकि सहारनपुर के लिए निकलना था इसलिए सब्जी रात ही काटकर रख दी, राजमा भिगोकर भी रख दिये क्योंकि दुपहर के खाने तक की व्यवस्था करके जाना था, आटा भी because मलकर रख दिया और फिर आश्वस्त होकर सोने चली गयी नींद कहां थी मेरी आंखों में..? सिर्फ़ स्वप्नों के  दीप जैसे जलते-बुझते रहे थे मेरी आंखों में रात भर… पांच बजे का अलार्म बजने के साथ ही आंखें खुलीं और सुनाई दिया भोर के because अंधेरे में कर्णों में मधूप घोलता सिख जत्थे का मानो मुझसे दूर-दूर जाता हुआ भजन, कीर्तन…

पहुंचकर

पढ़ें— हीर की फुलकारी…

एक जोश और सकारात्मक अनूभूति सरसरा गयी थी मेरी शिराओं में, बच्चों को उठाया उन्हें स्कूल जाने के लिए टिफिन तैयार किया और घर के अन्य सदस्यों के लिए नाश्ते की व्यवस्था से लेकर because सभी के लिए लंच तक की व्यवस्था करने के उपरांत… सभी ज़िम्मेदारियों से फ़ारिग होकर अपने बैग में पहले से तैयार किये हुए एडमिशन से संबंधित सारे डाक्युमेंटस व कुछ खाली पेपर, पैन भी बैग में रख लिए थे. अंत: because बच्चों को स्कूल भिजवाने के बाद घर में इतला देकर गेट खोलकर मैं सीधी तेज हवा की माफ़िक सरपट निकल पड़ी घर के पीछे पतली संकरी गली की ओर विक्रम पकड़ने आई.एस.बी.टी जाने के लिए…

इतला

ख़ैर… बस चलनी शुरू because हुई क्लेमन टाऊन से आगे पेड़ों के झुरमुट के बीच में से होकर गुज़रती  गीली सर्पीली सड़क पर दौड़ती टनल से होती हुई, डाटकाली से होकर बस हरे-भरे पेड़ों से लकदक पहाड़ों की कमर में रास्ता बनाकर घने जंगल से गुजर रही थी  बीच-बीच में गुर्जरों के मनोरम डेरे, हरी-भरी घास चरते मवेशी, महिलाएं डेरों में घुसती-निकलती दिखाई दे रही थीं.

देकर

आई.एस.बी.टी से झट बस मिल गयी सहारनपुर के लिए फूली नहीं समा रही थी मैं इतना कार्य अपने बूते करने पर, ख़ैर… बस चलनी शुरू हुई क्लेमन टाऊन से आगे पेड़ों के because झुरमुट के बीच में से होकर गुज़रती  गीली सर्पीली सड़क पर दौड़ती टनल से होती हुई, because डाटकाली से होकर बस हरे-भरे पेड़ों से लकदक पहाड़ों की कमर में रास्ता बनाकर घने जंगल से गुजर रही थी  बीच-बीच में गुर्जरों के मनोरम डेरे, हरी-भरी घास चरते मवेशी, महिलाएं डेरों में घुसती-निकलती दिखाई दे रही थीं. यहां एक बात कह रही हूं आप सभी से…

गेट

एक रात पहले और सुबह भी ट्रैवल सिकनेस की दवा खाई है शायद इसीलिए सफ़र से बातें कर पा रही हूं इस उम्मीद में कि लगता है दोबारा से कालेज जाने का  सफ़र ठीक ही रहेगा. because (लेकिन अभी यह संस्मरण लिखते हुए मुझे फिर से ट्रैवल सिकनेस हो रही है उस बस का सफर याद करते हुए आप जान सकते हैं इतना  फोबिया है मुझे) हरे भरे मोड़ों और पहाड़ों को पार कर बस सीधी सपाट सड़क पर पहुंच गयी है because क्योंकि बरसात का मौसम है हवा में नमी और चिपचिपाहट है और बस ने भी तेज रफ़्तार पकड़ ली है बस की गड़गड़ाहट में दिमाग के पेंच-पुर्जे भी हिल गये हैं.

खोलकर

रिक्शा चल रहा था हम दोनों बातों में मशग़ूल थे सहसा रेलवे क्रासिंग से पहले या बाद में याद नहीं ठीक से रिक्शा वाले ने उतरने को कहा क्योंकि वहां पर चढ़ाई थी because और जैसा कि हम देख रहे थे अपने आस-पास सभी रिक्शा वाले ऐसा ही कर रहे थे  थोड़ा चढ़ाई को पार because कर हम रिक्शे में दोबारा बैठ गये और रिक्शा यथावत  दौड़ने लगा हमारे गंतव्य की ओर..

मैं

बगल की सीट में बैठी because आंटी से यूं ही औपचारिक बात हुई उन्हें भी मैंने आरेंज टाफी खाने को दी, पूछने पर पता चला कि वह अपने मायके जा रही हैं सहारनपुर उन्होंने जब मुझसे मेरी वजह पूछी सहारनपुर जाने की तो वह  रोक न सकीं स्वयं को यह कहने से कि बेटे because देहरादून से सहारनपुर आने की क्या ज़रूरत पड़ गयी वहीं कुछ कर लिया होता..? जवाब देते नहीं बन पड़ा मुझसे…, कैसे कहती आंटी मेरा जुनून कहां मेरे दिमाग के नियंत्रण में था?

सीधी

बस तेज़ रफ़्तार के बाद because धीमी-धीमी गति पकड़ती हुई अमरुद की ठेलियों, भुट्टे ले लो, कच्चे नारियल ले लो  की आवाजों के बीच से गुजरती हुई बस सहारनपुर बस अड्डे पर पहुंच गयी थी, सिर में दर्द हो रहा था और निगाहें बहन को ढूंढने लगीं सहसा बहन एक किनारे छतरी because ओढ़े खड़ी मुझे देखकर मुस्करा रही थी और मैं गौरवान्वित महसूस कर रही थी स्वयं पर अपने लक्ष्य के पहले पड़ाव पर विजय हासिल करने पर क्योंकि मैं अकेले अपने बलबूते सहारनपुर जो पहुंच गयी थी.

पढ़ें— लकड़ी जो लकड़ी को “फोड़ने” में सहारा देती

तेज हवा

बस से उतरकर हम because दोनों ने बातें की और मुत्तवज़ेह हुए रिक्शा पकड़कर कालेज की ओर हल्की बारिश की फुहारें भा रही थीं मुझे… रिक्शा चल रहा था हम दोनों बातों में मशग़ूल थे सहसा रेलवे क्रासिंग से पहले या बाद में याद नहीं ठीक से रिक्शा वाले ने उतरने को कहा क्योंकि so वहां पर चढ़ाई थी और जैसा कि हम देख रहे थे अपने आस-पास सभी रिक्शा but वाले ऐसा ही कर रहे थे  थोड़ा चढ़ाई को पार कर हम रिक्शे में दोबारा बैठ गये और रिक्शा यथावत  दौड़ने लगा हमारे गंतव्य की ओर..

क्रमश:


(
लेखिका साहित्यकार हैं एवं विभिन्न पत्रपत्रिकाओं में अनेकbecause रचनाएं प्रकाशित हो चुकी हैं.)

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *