स्वीटी टिंड्डे

हिंदुस्तान के कई हिस्सों के आलीशान राजाओं और उनके दरबारों का मजा लेते हुए राजकुमार 7 फरवरी 1876 में ट्रेन से मुरादाबाद, नैनीताल और कुमाऊं होते हुए नेपाल because तराई के घने जंगलों में बाघ और हाथी का शिकार करते हुए गुजरना था जो डाकुओं, बाग़ियों, so और ख़ूँख़ार जानवरों के लिए जाना जाता था. नाना साहब समेत 1857 के तमाम बाग़ी (स्वतंत्रता सेनानी) हारने के बाद इन्हीं जंगलों में आकर छुपे और और उनमे से ज्यादातर इस ख़ूँख़ार जंगल के भेंट चढ़ गए थे.

नैनीताल

दावा किया जाता है कि इस शिकार के दौरान राजकुमार ने एक ही दिन में 6 बाघ मार डाले जिनमें से दो बाघ तो एक ही गोली से मर गए थे बिना निशाना चुके. because राजकुमार इतने मंझे हुए शिकारी थे कि हाथी को पकड़कर पहले सजाया जाता था, रंग लगाया जाता था फ़र फिर जंगल में शिकार होने के लिए छोड़ जाता था और राजकुमार उसे ढूँढकर शिकार करते थे.

नैनीताल

कुमाऊं के कमिश्नर रैम्ज़ी (जिनके नाम पर because चमोली का रमणी गाँव बसा हुआ है) ने साहब की ख़िदमत में गोरखा सेना सहित 200 हाथी, 120 घोड़े, 550 ऊँट, 6 बैलगाड़ी, और 1526 नौकर-चाकर लगा दिया. सफेद हिमालय में सफेद रंग के ही टेंट लगे. टेंट क्या एक छोटा सा सफ़ेद क़स्बा चल रहा था उनके साथ.

नैनीताल

क़ाफ़िला जब नेपाल की because सीमा पर पहुँचा तो नेपाल के राजा जंग बहादुर क्यों पीछे रहते. 800 हाथियों और पंद्रह हज़ार सेना के साथ पहुँच गए राजकुमार का स्वागत करने. रैम्ज़ी स्वागत में एक सफेद कस्बा लेकर आए थे, तो राजा जंग बहादुर पूरा का because पूरा रंग-बिरंगा शहर लेकर राजकुमार की ख़िदमत में हाज़िर हो गए.

नैनीताल

दावा किया जाता है कि इस शिकार के दौरान राजकुमार ने एक ही दिन में 6 बाघ मार डाले जिनमें से दो बाघ तो एक ही गोली से मर गए थे बिना निशाना चुके. because राजकुमार इतने मंझे हुए शिकारी थे कि हाथी को पकड़कर पहले सजाया जाता था, रंग लगाया जाता था फ़र फिर जंगल में शिकार होने के लिए छोड़ जाता था और राजकुमार उसे ढूँढकर शिकार करते थे.

नैनीताल

(स्वीटी टिंड्डे अज़ीम प्रेमजी फ़ाउंडेशन (श्रीनगरगढ़वाल) में कार्यरत है. [email protected]
पर इनसे सम्पर्क किया जा सकता है.)

Share this:
About Author

Himantar

हिमालय की धरोहर को समेटने का लघु प्रयास

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *