Tag: यमुना

श्री यमुनोत्री धाम : 22 अप्रैल को 12 बजकर 41 मिनट पर खुलेंगे कपाट

श्री यमुनोत्री धाम : 22 अप्रैल को 12 बजकर 41 मिनट पर खुलेंगे कपाट

उत्तरकाशी
मां यमुना के दशनार्थ श्री यमुनोत्री धाम के कपाट शनिवार 22 अप्रैल को दिन में 12 बजकर 41 मिनट पर अक्षय तृतीया को कर्क लग्न, अभिजीत मुहूर्त, कृतिका नक्षत्र में खुलेंगे. यमुना जयंती चैत्र नवरात्रि के शुभ अवसर पर मां यमुना के शीतकालीन प्रवास खुशीमठ (खरसाली) में मंदिर समिति यमनोत्री द्वारा मां यमुना की पूजा अर्चना के पश्चात विधि विधान पंचाग गणना के पश्चात विद्वान आचार्यों-तीर्थपुरोहितों द्वारा श्री यमुनोत्री धाम के कपाट खुलने की तिथि तथा समय तय किया गया तथा श्री यमुनोत्री मंदिर समिति के सचिव सुरेश उनियाल ने मंदिर समिति पदाधिकारियों तथा तीर्थ पुरोहितों की उपस्थिति कपाट खुलने की तिथि समय की विधिवत घोषणा की. मंदिर समिति के पूर्व सचिव कीर्तेश्वर उनियाल ने बताया कि इस अवसर पर मां यमुना जी की उत्सव डोली के धाम प्रस्थान का भी कार्यक्रम तय हुआ. 22 अप्रैल को मां यमुना की उत्सव डोली, मां यमुना जी के भाई ...
धार, खाळ, खेत से सैंण तक

धार, खाळ, खेत से सैंण तक

साहित्‍य-संस्कृति
विजय कुमार डोभाल पहाड़ी क्षेत्र में जन्मे, पले-बढ़े, शिक्षित-दीक्षित होने के बाद यहीं रोजगार (अध्यापन- कार्य) मिलने के कारण कभी भी यहां से दूर जाने का मन ही नहीं हुआ. वैसे भी हम पहाड़ी-लोगों की अपनी कर्मठता, आध्यात्मिकता तथा संघर्षशीलता अपनी अलग ही पहचान रखती है. हमारा अपना संसार पहाड़ के विभिन्न स्वरूपों धार खाळ, खेत, सैंण से शुरू होकर तराई-भाबर तक ही सीमित हैं. हमारी पढ़ाई-लिखाई, खरीददारी, व्यापार, रिश्ते-नातेदारी आदि भी यहीं तक सीमित होती है. हमारा पहाड़ पावन गंगा-यमुना के उद्गम, पवित्र चार धाम, अन्य तीर्थस्थानों, विश्व प्रसिद्ध पर्यटक-स्थलों, सांस्कृतिक धरोहरों, ब्रह्मकमल, मोनाल, कस्तूरी मृग, बुरांश आदि के कारण देशवासियों ही नहीं वरन् विदेशियों को भी अपनी ओर आकर्षित करता है. हमारा पहाड़ पावन गंगा-यमुना के उद्गम, पवित्र चार धाम, अन्य तीर्थस्थानों, विश्व प्रसिद्ध पर्यटक-स्थलों, स...
पहाड़ों में जल परम्परा : आस्था और विज्ञान के आयाम

पहाड़ों में जल परम्परा : आस्था और विज्ञान के आयाम

जल-विज्ञान
डॉ. मोहन चंद तिवारी दिल्ली विश्वविद्यालय के रामजस कॉलेज से एसोसिएट प्रोफेसर के पद से सेवानिवृत्त हैं। वैदिक ज्ञान-विज्ञान के गहन अध्येता, प्रो.तिवारी कई वर्षों से जल संकट को लेकर लिखते रहे हैं। जल-विज्ञान को वह वैदिक ज्ञान-विज्ञान के जरिए समझने और समझाने की कोशिश करते हैं। उनकी चिंता का केंद्र पहाड़ों में सूखते खाव, धार, नोह और गध्यर रहे हैं। हमारे पाठकों के लिए यह हर्ष का विषय है कि प्रो. तिवारी जल-विज्ञान के संदर्भ में ‘हिमांतर’ पर कॉलम लिखने जा रहे हैं। प्रस्तुत है उनके कॉलम 'भारत की जल संस्कृति' की पहली कड़ी... भारत की जल संस्कृति-1 डॉ. मोहन चन्द तिवारी ‘हिमाँतर’ में जल परंपरा पर चर्चा प्रारम्भ करने से पहले मैं जल की अविरल और निर्मल धारा के सर्जनहार और दिव्य जलों के भंडार देवतात्मा हिमालय को महाकवि कालिदास के निम्न श्लोक से नमन करना चाहता हूं- “अस्त्युत्तरस्यां दिशि दे...
एक ऐतिहासिक-पुरातात्विक नगरी ‘लाखामण्डल’

एक ऐतिहासिक-पुरातात्विक नगरी ‘लाखामण्डल’

धर्मस्थल
इन्द्र सिंह नेगी यमुना को यह वर प्राप्त है कि जिधर से भी इसका प्रवाह आगे बढ़ेगा, वहाँ समृद्ध सभ्यता/संस्कृति का विकास स्वतः ही होता चला जायेगा. उसके उद्भव से लेकर संगम तक के स्थान अपने आप में ऐतिहासिक-सामाजिक- सांस्कृतिक रूप से समृद्धशाली हैं. हिन्दुओं में यह भी मान्यता है कि ‘यम द्वितीया’ के दिन यमुना-स्नान से समस्त पापों से मुक्ति मिल, मोक्ष की प्राप्ति होती है. यमुना के तट पर 1095 मी. की ऊँचाई पर स्थित ‘लाखामण्डल’ नैसर्गिक सौन्दर्य से परिपूर्ण और ऐतिहासिक, सांस्कृतिक-धार्मिक व पुरातात्विक महत्व को सहेजे हुए हैं. देहरादून के जौनसार-बावर परगने की चकराता तहसील के अन्तर्गत ‘लाखामण्डल’ दिल्ली-यमुनोत्तरी राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित जनपद उत्तरकाशी के बर्नीगाड से लगभग 5 किमी. की दूरी पर स्थित है. बर्नीगाड़ देहरादून से मसूरी होकर लगभग 107 किमी. व विकासनगर की ओर से आने पर 122 किमी. की दूर...