पर्यटन

ट्रैकर्स के आकर्षण का केन्द्र बन रहा है पीपलकोटी पांचुला ट्रैक

जेपी मैठाणी

सरकार की उदासीनता के बावजूद शोध अध्ययन कर किया जा रहा है प्रचारित-प्रसारित

देहरादून से लगभग 265 किमी0 की दूरी पर राष्ट्रीय राजमार्ग 58 पर लगभग 4000 फीट (1300 मीटर) की ऊँचाई पर स्थित है एक पर्यटक स्थल पीपलकोटी. पीपलकोटी अपनी खूबसूरत घाटी, पीपल के पेड़ों,  सीढ़ीनुमा खेतों के साथ-साथ अच्छी व्यवस्था वाले होटलों, ढाबों, पर्यटक आवास गृह के लिए जाना जाता है. because पीपलकोटी में ही प्रदेश के पहले बायोटूरिज़्म पार्क (जिसकी स्थापना 1999-2001 में हुई थी) भी स्थित है. पुरातन समय से ही पीपलकोटी बद्रीनाथ यात्रा मार्ग की एक प्रमुख चट्टी/ पड़ाव रहा है.

ज्योतिष

पीपलकोटी से अनेक ट्रैकिंग रूट्स जो कि कम जाने जाते हैं या नहीं जाने जाते हैं उनका प्रचार-प्रसार एवं मार्केटिंग का कार्य आगाज़ संस्था कर रही है. इन्हीं में से एक because महत्वपूर्ण ट्रैकिंग पीपलकोटी से हस्तशिल्प ग्राम किरूली होते हुए पांचुला बुग्याल पहुंचता है. पांचुला बुग्याल जनपद चमोली के दशोली विकासखण्ड के बण्ड पट्टी के रिंगाल हस्तशिल्प ग्राम किरूली का छानी/मरोड़ा बुग्याल क्षेत्र है. यहाँ बड़े-बड़े शानदार सीढ़ीनुमा खेत हैं जिनमें ग्रामीण आलू, चौलाई, राजमा के अलावा जड़ी-बूटी जैसे- कुटकी और जटामासी की खेती करते हैं.

ज्योतिष

कैसे पहुंचे पांचुला बुग्याल

पांचुला बुग्याल जाने के लिए पीपलकोटी से 4 किमी पहले गडोरा नामक स्थान से राष्ट्रीय राजमार्ग के दाहिनी ओर से लगभग 4 किमी की दूरी पर किरूली गाँव तक सीधी चढ़ाई वाला because थका देने वाला ट्रैक है. वैसे अब  किरुली गाँव तक जीप, ट्रेकर और दुपहिया वाहन जाने लगे हैं. गडोरा से  लगभग 4 किलोमीटर  किरूली गाँव में बण्ड पट्टी के नगर पंचायत पीपलकोटी और आस पास की 6 से अधिक ग्राम पंचायतों के भूमि के देवता बण्ड भूमियाल का मंदिर है. जो दो तरफ से बांज, बुरांस और देवदारों के पेड़ों से घिरा हुआ है. यहीं से शुरू होता है पांचुला का असली ट्रैक.  पिट्ठू कस लीजिए, पानी को बोतलें भर लीजिए, सामान की लिस्ट चैक कर लीजिए अब आगे सिर्फ जंगल और प्रकृति का साथ है.

ज्योतिष

किरूली गाँव के ऊपर कौंटा नामक स्थान पर स्थित बण्ड भूमियाल के दर्शन करते हुए हम घने रिंगाल, बांज, बुरांस, because अयांर, काफल, लोध आदि के जंगल से एक शानदान स्थान पर पहुँचते हैं और थोड़ी देर के लिए सुस्ताने लगते हैं. इस स्थान को कहते हैं बचणी बांज. बचणी बांज नामक स्थान पर बांज के विशाल वृक्ष हैं जिनकी उम्र सौ वर्ष से अधिक होगी. ऐसे विशाल बांज के वृक्ष गढ़वाल में कम ही देखने को मिलते हैं. इस स्थान की ऊँचाई लगभग 1900 मीटर होगी.

ज्योतिष

जंगल के बीच चिड़ियों और झिंगुरों की आवाज मन मोह लेती है. अब हमें यहाँ से बद्रीनाथ और नंदा देवी क्षेत्र की हिमालय की हिमाच्छादित चोटियां दिखाई देने लगती हैं. जो यहाँ आने वाले ट्रैकर्स के हृदय और मनोमस्तिष्क को बरबस अपनी ओर आकर्षित करते हैं. नीचे अलकनन्दा घाटी में गडोरा, गड़ी, नौरख पीपलकोटी, हाट, जैंसाल because और बटुला मायापुर की शानदार सीढीनुमा खेती दिखाई देती है. लेकिन सामने की पहाड़ियों जैसे रामचरण चोटी (रमछाणा डांडा) पर वर्तमान में गोपेश्वर से बेमरू और हाट की तरफ और हाट में बन रही जल विद्युत परियोजना के द्वारा बनाये गये सड़क और खनन के घाव और ढाल पर बेतरतीब फेंके गये मलबे के दृश्य मन को थोड़ा उदास करते हैं. पूरा हिमालय आजकल अवैज्ञानिक तरीके से हो रहे विकास कार्यों से उत्पन्न होने वाले पर्यावरणीय संकटों को भी झेल रहा है.

ज्योतिष

पांचुला ट्रैक पर है because बण्ड क्षेत्र का कौणी के प्रसाद वाला कौणजाख देवता का मंदिर

मेरी तरह आप भी चौंक गये होंगे न कि ऐसा मंदिर जो सिर्फ सिम्बोलिक है लेकिन उसमें प्रसाद के रूप में पहाड़ में उगने वाला मोटे अनाज कौणी की बालियां चढ़ाई जाती हैं. because यह उत्तराखण्ड में खाद्यान्न अनाजों और जैव विविधता संरक्षण के अंतर्सम्बन्धों को दर्शाता है.

ज्योतिष

बचणी बांज से आगे अब सुंदर ट्रैक लगभग 2000 मीटर की ऊँचाई पर दूसरे पड़ाव कौणजाख देवता पड़ाव पर पहुँचता है. यहाँ से बण्डीधूर्रा, डुमक कलगोठ, बेमरू के ऊपरी क्षेत्रों की बर्फ से because आच्छादित कई अनाम चोटियां दिखने लगती हैं. ऐसा लगने लगता है जैसे हम हिमालय की उपत्यका में भ्रमण कर रहे हों. कौणजाख नामक स्थान पर एक छोटा सा मंदिर है जो एक तरह से वन देवी-देवताओं के प्रति अपनी श्रद्धा प्रकट करने के लिए एक सुनिश्चित स्थान है.

ज्योतिष

किरूली के रिंगाल हस्तशिल्प गुरू प्रदीप कुमार बताते हैं कि हमारे पूर्वज बताते थे कि जब भी हमारे गाँव के आसपास धान, because कोदा, झंगोरा, तिल और कौणी की फसल तैयार हो जाती थी तब कौणी जिसे कि अंग्रेजी में फॉक्सटेल मिलेट कहते हैं. और इसका वानस्पतिक नाम Setaria italica है. कौणी की नयी फसल तैयार होने पर उसकी बालियां कौणजाख में चढ़ाई जाती हैं. वहाँ एक बंदर आता है और वो स्थानीय ग्रामीणों द्वारा प्रसाद के रूप में चढ़ाई गई प्रसाद के रूप में नई कौणी की बालियों को लेकर पूजा के लिए चला जाता है.

ज्योतिष

कौणजाख से अब पांचुला की दूरी सिर्फ आधा किमी रह जाती है किरूली से पांचुला तक पहुंचने की थकान पांचुला के बुग्याल क्षेत्र में प्रवेश करते ही गायब हो जाती है. पूरब, उत्तर और दक्षिण दिशा because में शानदार हरियाली से भरे पर्वत श्रृंखलायें दिखाई देती हैं और पश्चिमोत्तर दिशा में अलकनन्दा नदी की घाटी. घाटी के उस पार हाट, जैंसाल, बजनी, झड़ेता, मठ, बेमरू और शाम के धुंधलके में सुदूर उत्तर में डुमक कलगोठ की टिमटिमाती रोशनी.

ज्योतिष

आओ चलो टेंट लगायें

अब हम लगभग 2000-2100 मीटर की ऊँचाई पर स्थित घास के मैदान पांचुला पर पहुँच गये हैं. जहाँ जिध नज़र दौड़ाओ हरे-भरे तप्पड़ दिखाई देते हैं, ऊपर नीला आसमान है. दक्षिण पूर्व दिशा में घने बांज बुरांस के जंगल हैं, कई प्रकार के जंगली पक्षियों की चहचहाहट, हरे घास के मैदानों में उछलती कूदती भेड़-बकरियां, because गाय-भैंसो के गले में बंधी घंटियों की टुनटुन की आवाज़ मन को सुकून पहुँचाती है. ऐसा विश्वास ही नहीं होता कि भीड़-भाड़ और हो हल्ले से भरे हुए बद्रीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग और कस्बों से सिर्फ 7-8 किमी की दूरी पर इतना सुंदर बुग्याल होगा.

ज्योतिष

खेतों में खड़ी लाल चौलाई की फसलें ऐसी लगती हैं मानों फूलों के बुके खेतों में खड़े हों. यहाँ आप खाली स्थान पर टैंट लगा सकते हैं. वैसे तो यहाँ स्थानीय ग्रामीणों की गौशालायें, because छानी हैं लेकिन पर्यटकों का पर्याप्त मात्रा में पानी और रहने के लिए टेंट लेकर आना बेहतर होगा. पांयुला बुग्याल किरूली गाँव के ग्रामीणों की निजी भूमि है इसलिए वन विभाग की अनुमति नहीं लेनी पड़ती. आसपास से आप लकड़ियां एकत्र कर चूल्हा जलाकर खाना बना सकते हैं, कैम्प फायर कर सकते हैं. लेकिन ध्यान रहे सोने से पहले मिट्टी डालकर आग पूरी तरह बुझा दें. जहाँ भी जाएं, ग्रुप में जाएं अकेले कभी न जाएं. अभी यहाँ टॉयलेट और पीने के पानी की समुचित व्यवस्था नहीं है.

ज्योतिष

रात्रि को पांचुला बुग्याल (Panchula Bugyal) से आप स्टार गेजिंग कर सकते हैं. अक्सर आसमान बिल्कुल साफ रहता है, चांद मानों ऐसा लगता है आप छू लेंगे. अलसुबह सूर्योदय का because शानदार दृश्य दिखता है. पांचुला से एक-डेढ़ किमी ऊपर जाकर बिरही घाटी दिखाई देती है. यही नहीं पांचुला होते हुए आप सात ताल ट्रैक और रूपकुण्ड का ट्रैक भी कर सकते हैं.

ज्योतिष

पीपलकोटी के आसपास बहुत कम दूरी पर because और कम समयावधि के पांचुला ट्रैक को लोकप्रिय बनाने और पांचुला में मूलभूत आवश्यकताओं  से सम्बन्धित अध्ययन करने के लिए हाल ही में आगाज़ फैडरेशन के इकोटूरिज़्म समन्वयक अनुज नम्बूद्री और सह समन्वयक भूपेन्द्र कुमार और धीरज कुमार के नेतृत्व में एक टीम ने अध्ययन कार्य प्रारम्भ किया  है. टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस (Tata Institute of Social Science), मुम्बई की इस because टीम में मणिपुर से निंगथाउजम सोनम चानू, महाराष्ट्र से नीता पागी, प्रियंका काले, दीपक सासने और रूपाली अंबोने पीपलकोटी के आसपास के ट्रैकिंग रूट्स पर शोध कार्य कर रहे हैं.

ज्योतिष

रास्ते में क्या-क्या देखें

जब आप पांचुला के ट्रैक के लिए प्रस्थान करते हैं तो रिंगाल हस्तशिल्पी गाँव किरूली में जनपद चमोली के कुशल रिंगाल हस्तशिल्पियों के द्वारा बनाये गये रिंगाल के सुंदर उत्पादों को because देख सकते हैं साथ ही साथ उन उत्पादों को खरीद भी सकते हैं.

साथ ही पहाड़ों में उगने वाले अनाज because जैसे मंडुवा, झंगोरा, राजमा, आलू की खेती देख सकते हैं. वर्तमान में किरूली में संतरा, अखरोट के अतिरिक्त जड़ी-बूटी की खेती को भी प्रोत्साहित किया जा रहा है.

ज्योतिष

नंदादेवी राज जात के लिए बण्ड क्षेत्र की भोजपत्र और रिंगाल से बनी छंतौली भी किरुली गाँव से ही बन कर जाती है. किरूली गाँव प्रदेश में ही नहीं बल्कि देश में रिंगाल मास्टर ट्रेनरों के लिए जाना जाता है. पिछले दो दशकों से आगाज़ फैडरेशन और उत्तराखण्ड बांस एवं रेशा विकास परिषद के माध्यम स इस गाँव में रिंगाल because हस्तशिल्प सम्बन्धी कार्यक्रम होते रहे हैं. अब वर्तमान में उत्तराखण्ड सरकार द्वारा जिला उद्योग केन्द्र के माध्यम से पीपलकोटी में ग्रोथ सेन्टर का संचालन हिमालयी स्वायत्त सहकारिता द्वारा किया जा रहा है.

क्या सामान लेकर जाएँ- रात्रि because विश्राम के लिए टेंट, रूकसैक, पानी की बोतलें, अच्छे जूते, जुराब, टोपी, टोर्च, लाइटर, भोजन सामग्री, सनग्लास जरूरी हैं .

ज्योतिष

क्या न करें

कहीं भी प्लास्टिक पोलीथीन, पानी बोतलें, because टॉफी और चॉकलेट के रैपर न फेकें, रात को कैम्प फायर कर आग भली भाँति बुझा दें, अकेले कहीं न जाएँ, बच्चों को रस्ते में टॉफी आदि का लालच न दें! जंगल की वनस्पति को नुक्सान न पहुंचाएं, शोरगुल न करें !

ज्योतिष

सभी फोटो : टीस अध्ययन दल, मुंबई

राष्ट्रीय राजमार्ग से इतने निकट होने के because बावजूद पांचुला ट्रैक थोड़ा गुमनाम सा रहा है. लेकिन अब धीरे-धीरे इसका प्रचार प्रसार हो रहा है. प्रदेश सरकार को चाहिए कि पांचुला में जैविक खेती के अलावा एग्रो टूरिज़्म के लिए जल आपूर्ति या वर्षा जल संरक्षण के संसाधन विकसित करे. ताकि पांचुला ट्रैक जनपद चमोली में अपनी पहचान स्थापित  कर सके.

ज्योतिष


बण्ड भूमियाल के बारे में किंवदंती है कि गढ़वाल हिमालय में होने वाली नंदा देवी राजजात जब रूपकुण्ड से ज्यूंरागली को पार कर रही थी तो यात्रा ज्यूंरागली पर अटक गयी थी because कोई मार्ग नहीं मिल रहा था. तब ढोल दमाऊ और रणसिंगा के आहवाह्न पर बण्ड भूमियाल अवतरित हुए और बण्ड भूमियाल ने अपनी कटार से ही रूपकुण्ड के कठोर पहाड़ी वाले ज्यूंरागली में पांव रखने का ट्रैक बना दिया. ज्यूंरागली के ठीक दूसरी ओर शिला समुद्र है जहाँ से नंदा घूंघटी चोटी से आने वाली नंदाकिनी नदी का जलागम क्षेत्र बनता है.

ज्योतिष

बण्ड विकास संगठन के वर्तमान because अध्यक्ष श्री शम्भू प्रसाद सती बताते हैं कि वर्ष 1988 की राजजात यात्रा के दौरान कनोल के ग्रामीण एक तरह का अप्रत्यक्ष कर या दान मांग रहे थे, लेकिन राजजात यात्रा के दौरान इस तरह की कर व्यवस्था का कोई लिखित प्रमाण नहीं है. लेकिन because वे भी बताते हैं कि प्राचीन समय में जब राजजात रूपकुण्ड से ऊपर बढ़ रहीं थी और रास्ता नहीं मिल रहा था तब बण्ड भूमियाल ने अवतरित होकर अपनी कटार से ज्यूंरागली में राजजात के लिए रास्ता बना डाला. तब से आज तक बण्ड पट्टी के निवासियों से रूपकुण्ड से आगे लगान या कर नहीं लिया जाता.

ज्योतिष


पीपलकोटी से अनेकों because उच्च हिमालयी ट्रैकिंग रूट्स के लिए जाया जा सकता है. कुछ प्रमुख ट्रैक निम्नलिखित है. इनका आयोजन आगाज़ फैडरेशन की इको टूरिज़्म की टीम करती है-

ज्योतिष

  1. पीपलकोटी-कनणी तोली because ताल रूद्रनाथ ट्रैक (लगभग 23 किमी)
  2. पीपलकोटी-बंशीनारायण because पांडव सेरा ट्रैक (लगभग 37 किमी)
  3. पीपलकोटी-बंडीधूर्रा so लार्डकर्ज़न पास ट्रैक (लगभग 35 किमी)
  4. पीपलकोटी-बण्ड but भूमियाल पांचुला ट्रैक (लगभग 11 किमी)
  5. पीपलकोटी-पाताल because गंगा शिलाखर्क ट्रैक (लगभग 32 किमी)
  6. पीपलकोटी-गैराड़ so छानी ट्रैक (लगभग 18 किमी0)
  7. पीपलकोटी-दुर्मी but सात ताल ट्रैक (28 किमी0)
  8. पीपलकोटी-लक्ष्मी because नारायण मंदिर हाट ट्रैक (लगभग 8 किमी)
  9. पीपलकोटी-बेमरू so बिल्लेश्वर महादेव शिवालय ट्रैक ( लगभग 10 किमी)
  10. पीपलकोटी-सल्ला-सोडीयाणी ट्रैक (9 किमी)but/span> सोड़ियाणी ट्रैक (लगभग 9 किमी)

Share this:

Himantar Uttarakhand

हिमालय की धरोहर को समेटने का लघु प्रयास

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *