• प्रकाश चंद्र

पहाड़ का जीवन, सुख- दुःख और हर्षोउल्लास सब समाया होता है। जीवन का उत्सव प्रकृति का उत्सव है और प्रकृति, जीवन का अविभाज्य अंग। इसलिए पहाड़ी जीवन के रंग में प्रकृति का रंग घुला होता है। बिना प्रकृति के न जीवन है न कोई उत्सव और त्यौहार।

पहाड़ों की रौनक उसके जीवन में है। पहाड़ों का जीवन उसके आस-पास प्रकृति में बसा है। हर ऋतु में पहाड़ों की रौनक, मिज़ाज, खिलखिलाहट अद्भुत एवं रमणीय होती है। इसी में पहाड़ का जीवन, सुख- दुःख और हर्षोउल्लास सब समाया होता है। जीवन का उत्सव प्रकृति का उत्सव है और प्रकृति, जीवन का अविभाज्य अंग। इसलिए पहाड़ी जीवन के रंग में प्रकृति का रंग घुला होता है। बिना प्रकृति के न जीवन है न कोई उत्सव और त्यौहार। पहाड़ों में लंबी सर्दी और बर्फबारी के बाद वसंत के आगमन का संकेत पहाड़ों पर खिलने वाले लाल, हरे, पीले, सफेद, और बैंगनी फूलों से मिल जाता है। अब तक बर्फ की सफेद चादर से ढके पहाड़ों और पेड़ों पर रंगों की रंगत इन किस्म-किस्म के फूलों से आ जाती है। यह जीवन और प्रकृति का विहंगम दृश्य है। इस क्षण, समय, और दृश्य का पहाड़ के जीवन में बड़ा महत्व है। वह प्रकृति के इस उत्सव में स्वयं को शरीक करते हैं या पाते हैं। पहाड़ों और पेड़ों पर आकार ले चुके फूलों के उत्सव और वसंत के आगमन का स्वागत करने वाला त्यौहार है- फूलदेई। आज फूलदेई है। बचपन पहाड़ में बीता, जवानी शहर में। यह फंसना मेरा ही नहीं पहाड़ के कमोबेश सभी लोगों का है।

ईजा सबसे पहले को-बाय (कौऐ के लिए) निकालती थी, फिर गो-ग्रास (गाय के लिए) उसके बाद हम लोगों का नंबर आता था। अपनी टोकरी को देखते और खाने में ही पूरा दिन बीत जाता। इससे एक अलग तरह का उत्सव, सुख, संतुष्टि मिलती थी जो शब्दों से परे अनुभव की चीज है। अब वह बस स्मृतियों में शेष है।

अब बचपन छूटा तो वो बचपना, मस्ती, त्यौहार की उत्सुकता और रौनक भी गुम हो गई। शहर कभी हमारी चॉइस नहीं बल्कि मजबूरी ही रहे। शहरों ने गांव छीना, बचपना छीना, फूल छीने, फूलदेई की टोकरी छीनी, ईजा के हाथों की ‘दौड़ लघड़'(पूरी) छीनी, अम्मा के हाथों की लापसी छीनी, ज्येठी, काकी, अम्मा, बुबू के हाथों के गुड़ और चावल भी छीन लिए। इन सब की कीमत पर जो दिया वह अस्थाई संतोष और पहाड़ों की स्मृतियां। पहाड़ और शहर के लेन-देन पर फिर कभी आज तो बचपन की शान और रौनक के त्यौहार फूलदेई पर बात करते हुए।

एक दिन पहले से ही बुरांश, फ्योंली, रातरानी, गेंदा, चमेली, मेहंदी के फूल लाकर उन्हें टोकरी में सजा देना। टोकरी में थोड़ा चावल, 1 रुपया और किस्म-किस्म के फूल होते थे। छोटी, गहरी और फूलों से सजी टोकरी को लेकर गांव नापने निकल पड़ते थे। एक से दो, दो से चार ऐसे सब बच्चे इकठ्ठा जाते थे। एक पूरी टोली होती थी। हर कोई अपनी टोकरी और फूलों पर इतरा रहा होता था। एक दूसरे की टोकरी देखने की उत्सुकता भी रहती थी। बस फिर क्या, टोली गांव के घर-घर, द्वार-द्वार जाती, देहरी पर थोड़ा फूल डालते और कहते-
फूल देई, छम्मा देई,
जातुका देई ओतुका सही
हमर टुकर भरी जो
तूमर भकार भरी जो।

इसे सभी एक लय के साथ बोलते और बोलते ही रहते जब तक कि चाची, अम्मा, ज्येठी जो भी घर हो वो आकर हमारी टोकरियों में चावल न डाल दें। इस तरह एक घर से दूसरे घर, एक देहरी से दूसरी देहरी जाते और वही फूलदेई, छम्मा देई बोलते, जैसे ही चावल मिलते टोली आगे बढ़ जाती। एक घर से दूसरे घर या एक बाखली से दूसरी बाखली जाते हुए। सब आपस में बात भी करते कि किसको कितना मिला और किसकी टोकरी ज्यादा भरी है। पूरा दिन यही मस्ती करते घर लौटते तो गर्व के साथ अपनी टोकरी, ईजा और अम्मा को दिखाते और बताते भी कि उसकी अम्मा या ईजा ने इतना दिया और यह कह रहीं थीं। उसने इतना कम दिया या उसने ज्यादा। यह बताते हुए चेहरा रोमांच और उत्सुकता से भरा रहता था।

जब टोकरी सजाई जाती थी तो उसमें घर में आए हर नए सदस्य की टोकरी भी लगती थी। उसे भी पूरे गांव में घुमाया जाता था। नए सदस्य की टोकरी में अमूमन लोग ज्यादा चावल और कुछ पैसे भी रखते थे। एक तरह से गांव के साथ प्रकृति के माध्यम से यह उसका परिचय था। उसको ज्यादा चावल देना गांवों के लोगों द्वारा उसका खुशी के साथ स्वागत करना था।

गांव में फूल खेलने के बाद घर आते तो ईजा के हाथ के दौड़ लघड़, भुड़ आज के दिन स्पेशल बनने वाले खज (चावलों को तेल में फ्राई कर के बनते हैं) मिलते। ईजा सबसे पहले को-बाय (कौऐ के लिए) निकालती थी, फिर गो-ग्रास (गाय के लिए) उसके बाद हम लोगों का नंबर आता था। अपनी टोकरी को देखते और खाने में ही पूरा दिन बीत जाता। इससे एक अलग तरह का उत्सव, सुख, संतुष्टि मिलती थी जो शब्दों से परे अनुभव की चीज है। अब वह बस स्मृतियों में शेष है। आज शहर के 2bhk में कैद जब यह सब लिख रहा हूं तो वह बचपन अंदर ही अंदर कहीं जी रहा हूं जो शहर में कहीं खो गया था।

(सभी फोटो प्रकाश चंद उप्रेती)
(लेखक दिल्ली विश्वविद्यालय में असिस्टेंट प्रोफेसर हैं। पहाड़ के सवालों को लेकर मुखर रहते हैं।) 

Share this:

Himantar Uttarakhand

हिमालय की धरोहर को समेटने का लघु प्रयास

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *