ट्रैवलॉग

हरिद्वार की यात्रा बिना ऋषिकेश जाए पूरी नहीं होती…

  •   
  • डॉ. कायनात काजी
    फोटोग्राफर, ट्रैवल राइटर और ब्लॉगर, देश की पहली सोलो फिमेल ट्रैवलर

 

हरिद्वार की यात्रा बिना ऋषिकेश जाए पूरी नहीं होती, आप जब भी हरिद्वार जाएं एक दिन एक्स्ट्रा लेकर जाएं जिससे ऋषिकेश भी घूम आएं. ऋषिकेश हरिद्वार से 25 किमी दूर है. because तीन दिशाओं से पहाड़ियों से घिरा, जिसके बीचों बीच से पावन नदी गंगा बहती है. इसे देवभूमि भी कहते हैं. जहां हरिद्वार लोगों से भरा हुआ लगता है जैसे वहां हमेशा एक मेला लगा हो वहीं ऋषिकेश एक शांत जगह है. हिमालय की चोटियों से निकल कर गंगा मैदानों में यहीं से प्रवेश करती है.यहीं पर लक्ष्मण झूला स्थित है. ऐसी मान्यता है कि यहां श्री लक्ष्मण जी ने कभी जूट की रस्सियों से बने झूले से गंगा नदी को पार किया था.

ज्योतिष

लक्ष्मण झूला करीब 1929 में बना था. because यह झूला शहर को एक सिरे से दूसरे सिरे तक जोड़ता है. इसकी लम्बाई लगभग 450 फीट और चौड़ाई 6 फीट है. ऋषिकेश विश्व मानचित्र पर योग कैपीटल के लिए मशहूर है.यहां लोग दूर-दूर से योग साधना के लिए आते हैं. अगर आप प्रकृति की गोद में मन की शान्ति चाहते हैं तो यहां जरूर जाएं.

ज्योतिष

अगर योग सीखने में आपकी दिलचस्पी है तो फिर कई योग और ध्यान केंद्र आपको मिल जाएंगे. इनमें प्रमुख हैं: शिवनन्दा आश्रम, ओंकारनन्दा गंगा सदन, साधना मंदिर, संस्कृति योग पीठ, योग निकेतन, स्वामी दया नंदा आश्रम, फूल चट्टी आश्रम, अनंदा प्रकाश आश्रम और ओशो गंगा आश्रम, कैलाश आश्रम ब्रह्माविद्यापीठ, विट्ठल आश्रम और योग केंद्र, शंकराचार्य मेडिटेशन सेंटर, वनमाली गीता योगाश्रम, वेदांत आश्रम, वेदनिकेतन दयानंद, वानप्रस्थ आश्रम, योग निकेतन, परमार्थ निकेतन आदि.

ज्योतिष

ओंकारानंद आश्रम में दक्षिण की कामाख्या देवी का सुन्दर मन्दिर स्थित है. परमार्थ निकेतन की गंगा आरती हरिद्वार से थोड़ी विभिन्न है यहां काफी शांति है. आप परमार्थ निकेतन में because ठहर भी सकते हैं. परमार्थ निकेतन ऋषिकेश का सबसे बड़ा आश्रम है. ठहरने की सुविधाओं के अलावा परमार्थ निकेतन आयुर्वेदिक और संगीत द्वारा भी उपचार करता है. यह गंगा नदी के तट पर महान हिमालय के बीच स्थित है.

ज्योतिष

त्रिवेणी घाट वह स्थान है जहां तीनों पवित्र नदियां गंगा, यमुना और सरस्वती का संगम होता है. ऋषिकेश के मन्दिरों में जाने से पूर्व श्रृद्धालुओं घाट के पवित्र जल में डुबकी लगाते हैं. because ऐसी मान्यता है कि यहां पर डुबकी लगाने से पापों से मुक्ति मिलती है. संध्या के समय हजारों तीर्थयात्री घाट पर महाआरती को लिए एकत्रित होते हैं. त्रिवेणी घाट से ही गंगा नदी दायीं ओर मुड़ जाती है. त्रिवेणी घाट के एक छोर पर शिवजी की जटा से निकलती गंगा की मनोहर प्रतिमा है तो दूसरी ओर अर्जुन को गीता ज्ञान देते हुए श्री कृष्ण की मनोहारी विशाल मूर्ति और एक विशाल गंगा माता का मन्दिर हैं.

पढ़ें— हंगरी से उत्तराखंड की विहंगम यात्रा

ज्योतिष

घाट पर चलते हुए जब दूसरी ओर because की सीढ़ियां उतरते हैं तब यहां से गंगा के सुंदर रूप के दर्शन होते हैं. र्थयात्री पत्ते के दोने में श्रृद्धास्वरूप फूल और दीपक रखकर नदी में प्रवाहित करते हैं. इस जगह पर गतात्मा की शांति के लियह पिण्ड श्राद्ध नामक कर्मकाण्ड भी किया जाता है.

ज्योतिष

ऋषिकेश में कई अच्छे कैफे भी मौजूद हैं जहां बैठ कर आप गंगा के विशाल प्रवाह को निहारते हुए कोई पसंदीदा किताब पढ़ सकते हैं. ऋषिकेश जहां एक ओर आध्यात्म का केन्द्र है वहीं दूसरी ओर रोमान्च से भरी एक्टिविटीज के लिए भी मशहूर है.

ज्योतिष

व्हाइट वाटर रिवर राफ्टिंग (River Rafting) लोगों के बीच तेजी से विकसित होता एक रोमांचकारी टूरिज्म एक्टिविटी है. गोमुख (Gomukh) से निकली गंगा जैसे-जैसे आगे बढ़ती है उसकी लहरों में तूफानी तेजी because आ जाती है. यही हाल ऋशिकेश में देखने को मिलता है और इन्हीं लहरों के बीच में नाव चलाने के खतरनाक खेल को ही राफ्टिंग का नाम दिया गया. तूफानी लहरों के बीच का यह रोमांचक खेल इन दिनों भारत में खूब लोकप्रिय होता जा रहा है. ऋषिकेश व्हाइट वाटर रिवर राफ्टिंग के केंद्र के रूप में मशहूर है. यहां रिवर राफ्टिंग के अलावा कैम्पिंग, ट्रेक्किंग, बोटिंग, स्कीइंग, डाइविंग, स्नोर्कलिंग, पैराग्लाइडिंग आदि सम्मिलित हैं.

ज्योतिष

रिवर राफ्टिंग. सभी फोटो : डॉ. कायनात काजी

ऋषिकेश से थोड़ा ऊपर जाने पर जगह-जगह बीच पर आपको कैम्प्स मिल जाएंगे. रिवर राफ्टिंग के लिए शिवपुरी तक जाना होता है. शिवपूरी से राम झूले तक की राफ्टिंग लगभग because 12 किमी लम्बी है जिसमे 13 रैपिड्स आते हैं. इन रैपिड्स (नदी का तेज लहरों वाला भाग) के नाम भी काफी अलग हैं, जैसे- रिटर्न टू सेंडर, रोलर-कोस्टर, गोल्फ कोर्स, डबल र्ट्वल, टी आफ गोल्फ कोर्स आदि. यह खेल रोमान्च से भरा हुआ है. ऋषिकेश के लोकल लोग ही इन एडवेंचर स्पोर्ट्स को चलाते हैं.

ज्योतिष

ऋषिकेश में रिवर राफ्टिंग की शुरूआत शहर से 18 किलोमीटर दूर शिवपुरी से शुरू होती है खत्म होती है ऋषिकेश के लक्ष्मणझूला पर. बेस कैंप से रंग बिरंगी राफ्ट सभी सेफ्टी उपकरणों से सुसज्जित हो सैलानियों या कहें दुस्साहसी नाविकों को ले गंगा में उतरती है. पानी बड़ा ही निर्मल और शान्त गति से बह रहा है. कोई सोच भी नहीं because सकता की थोड़ा आगे जा कर पानी का बहाव इतना तेज हो जाएगा कि कलेजा मुँह को आने लगेगा. ऋषिकेश में राफ्टिंग के लिए फरवरी जून और फिर अक्तूबर से दिसंबर मध्य तक का समय आदर्श माना जाता है. मानसून में वॉटर स्पोर्ट्स बंद हो जाते हैं, इसलिए अगर कोई इनकी पेशकश भी करता है तो आप खुद अपनी सुरक्षा की खातिर उनसे दूर रहें ताकि एडवेंचर आपकी जरा- सी लापरवाही से मिसएडवेंचर में न बदल जाए.

ज्योतिष

राफ्टिंग के अलावा आप यहां कैम्पिंग का आनंद ले सकते हैं. गंगा नदी के किनारे किनारे बने यह सुन्दर सुन्दर कैंप आपका मन मोह लेंगे. आप चाहे तो शिवपुरी में कैम्प करें या फिर नीलकण्ठ because मंदिर के रास्ते पर बने कैम्पो में रुकें. यह सभी कैम्प लोकल लोगों द्वारा संचालित कियह जाते हैं. इनमे से कुछ कैम्प हैं हवेल रिवर कॉटेज एंड राफ्टिंग कैम्प, राफ्टिंग मस्ती, गंगा बीच रिसोर्ट आदि

ज्योतिष

कैंप में लंच के समय पधारेंगे, उसके उपरांत कैंप में उपलब्ध खेलों का आनंद लेंगे या अन्य पैदल पथ भ्रमण हेतु निकटस्थ मंदिर या जंगल में ट्रैकिंग के लिए जा सकते हैं या रैपलिंग या नदी में कयाकिंग कर सकते हैं. इन कैम्पों में रात को कैंप फायर ( मौसम की अनुकूलता को देखते हुए ही लगायी जाती है) की व्यवस्था की जाती है. because कैम्प संचालक एक रात और एक दिन का पैकेज उपलब्ध करवाते हैं. यह खाने पीने और विश्राम की अच्छी व्यवस्था होती है. ऋषिकेश से कैम्प तक पहुंचने की व्यवस्था भी अनुरोध पर उपलब्ध होती है. इन वादियों में ट्रैकिंग का अपना अलग मजा है. यहां आपको जगह-जगह वाटर फॉल मिल जाएंगे. जिनके नजदीक किसी लोकल की चाय की दुकान होगी जो कि गरमा गर्म मैग्गी भी बना रहा होगा.

ऋषिकेश में खाना खाने के लिए चोटीवाला रेस्टोरेन्ट बहुत मशहूर है. लोग यहां दूर-दूर से खाना खाने आते हैं. रेस्टोरेन्ट के बाहर एक व्यक्ति चोटीवाले महाराज का रूप धार कर because आने वालों को आकर्षित करता है. यह रेस्टोरेन्ट लक्ष्मण झूले के नजदीक पड़ता है. अगर आप शहर में अच्छा भोजन करना चाहते हैं तो मुख्य बाजार में त्रिवेणी घाट के पास विशाल भोजनालय में भरवाँ करेले जरूर खाएँ.

ज्योतिष

क्षेत्र के लोकप्रिय ट्रेकिंग मार्गों में गढ़वाल हिमालय क्षेत्र, बुवानी नीरगुड, रूपकुण्ड, कालिन्दी थाल, कनकुल थाल और देवी राष्ट्रीय पार्क शामिल हैं. फरवरी से अक्तूबर के मध्य का समय इस क्षेत्र में ट्रेकिंग के लियह सर्वश्रेष्ठ होता है. उत्तराखण्ड पर्यटकों के लिए बहुत सुरक्षित स्थान है. जब मैं रैपिड के फोटो खींचने नदी के किनारे because किनारे दूर तक घूम रही थी तब मैंने 2 रूसी लड़कियों को रेत पर धूप सेंकते देखा. वह दोनों बड़े आराम से इस निर्जन स्थान पर बैठी प्रकृति को निहार रही थीं. मेरे लिए यह बात हैरान करने वाली थी. मैंने उनसे बात की वह पास ही किसी आश्रम में योग की शिक्षा लेने आई थीं. आपको जंगल में ट्रेक्किंग करते हुए कई लोग अकेले घूमते दिख जाएंगे पर उनको कोई परेशानी नहीं होती. यहां के लोग मित्रतापूर्ण और मिलनसार हैं.

ज्योतिष

ऋषिकेश में खाना खाने के लिए चोटीवाला रेस्टोरेन्ट बहुत मशहूर है. लोग यहां दूर-दूर से खाना खाने आते हैं. रेस्टोरेन्ट के बाहर एक व्यक्ति चोटीवाले महाराज का रूप धार कर because आने वालों को आकर्षित करता है. यह रेस्टोरेन्ट लक्ष्मण झूले के नजदीक पड़ता है. अगर आप शहर में अच्छा भोजन करना चाहते हैं तो मुख्य बाजार में त्रिवेणी घाट के पास विशाल भोजनालय में भरवाँ करेले जरूर खाएँ. यह एक साधारण भोजनालय है जिसका खाना बहुत स्वाद है. ऋषिकेश में एक मिठाई की दुकान है- रजिस्थानी मिष्ठान भण्डार यहां से मिठाई जरूर लेकर जाएं.

Share this:

Himantar Uttarakhand

हिमालय की धरोहर को समेटने का लघु प्रयास

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *