Home Posts tagged faiz poetry
समसामयिक

कौन कह रहा है फैज़ साहब नास्तिक हैं? 

ललित फुलारा फैज़ साहब की मरहूम आत्मा अगर ये सब देख रही होगी तो जरूर सोच रही होगी कि मैं जब नास्तिक था और मार्क्सवादी था तो ‘अल्लाह’ काहे लिख दिया। अल्लाह लिखने से ही तो सारा खेल बिगड़ा है। मुझसे कोई कह रहा था कि इस शायरी/गाने को गुनगुनाने वाले लोग बस ‘नाम रहेगा […]