Home Posts tagged Chameleon
संस्मरण

गिरगिट की तरह रंग बदलने पर मज़बूर हो रही थी मैं!

जवाबदेही की अविस्मरणीय यात्रा – अंतिम किस्‍त सुनीता भट्ट पैन्यूली वक़्त की हवा ही कुछ इस तरह से बह रही है because कि किसी अपरिचित पर हम तब तक विश्वास नहीं करते जब तक कि हम आश्वस्त नहीं हो जायें कि फलां व्यक्ति को हमसे बदले में कुछ नहीं चाहिए वह नि:स्वार्थ हमारी मदद कर […]