Tag: सोशल मीडिया

आभासी दुनिया के बेगाने परिन्दे

आभासी दुनिया के बेगाने परिन्दे

सोशल-मीडिया
भुवन चन्द्र पन्त जमीनी हकीकत से दूर आज हम एक ऐसे काल खण्ड में प्रवेश कर चुके हैं, जहां हमारे चारों तरफ सब कुछ है भी, और नहीं भी. बस यों समझ लीजिए कि आप दर्पण के आगे खड़े हैं, दर्पण में आपकी स्पष्ट छवि दिख रही है, आपको अपना आभास भी हो रहा है, लेकिन हकीकत ये है कि आप उसमें हैं नही. कुछ इसी तरह की हो चुकी है, हमारी सोशल मीडिया की आभासी दुनिया. फेसबुक जैसे प्लेटफार्म पर आपके सैंकड़ो मित्रों की लम्बी फेहरिस्त होगी, लेकिन बमुश्किल गिने-चुने ही ऐसे मित्र होंगें, जो हकीकत की दुनिया में आपकी मित्र मण्डली से ताल्लुक रखते होंगे. ऐसे बेगाने मित्रों से गुलजार दुनिया में उनका रिश्ता केवल लाइक और कमेंट्स से ज्यादा कुछ नहीं है. सोशल मीडिया की दुनिया में प्रवेश के कई रास्ते हैं- फेसबुक, व्हाट्सऐप, इन्स्टाग्राम, ट्वीटर आदि-आदि. अब तो कोरोना काल में वेबिनार, वर्क फ्रॉम होम, ऑन लाइन कक्षाएं और मन्दि...
जिसकी कलम में गाँठ….

जिसकी कलम में गाँठ….

संस्मरण
‘बाटुइ’ लगाता है पहाड़, भाग—4 रेखा उप्रेती छोटे थे तो किसी भी बात पर सहज विश्वास कर लेते. हवा, पानी, पेड़, पहाड़- जैसे हमारे लिए साक्षात थे वैसे ही बड़ों से सुने हुए किस्से-कहानियाँ-कहावतें भी…. उन दिनों बाँस की कलम प्रयोग में लायी जाती थी और कलम मोटी, पतली, टेड़ी-मेड़ी भले ही हो पर गाँठ वाली न हो, इस बात का हम पूरा ध्यान रखते. क्योंकि कहावत थी- “जिसकी कलम में गाँठ, उसकी बुद्धि नाश”. तब हमें बुद्धि भले नहीं थी पर उसके नाश होने की कल्पना से हम घबराते थे. लिहाज़ा पुरानी कलम जब टूट जाती, तो बाँस के झुरमुटों में से सही नाप-तोल की सूखी टहनी टटोल कर लाना बड़ी लियाक़त माँगता था. दो गाँठों के बीच की साफ़-सुथरी टहनी खोजनी पड़ती. उसकी लम्बाई और मोटाई का अनुपात ठीक होना भी जरूरी था. बाँस न कच्चा हो न इतना सूखा कि दरार पड़ जाए. कलम उतनी ही स्याही सोखे कि अक्षर को आकार मिले वरना स्याही की बूँद टपक ...
लॉक डाउन से पहले मिले बड़े लेखक का बड़ा इंटरव्यू

लॉक डाउन से पहले मिले बड़े लेखक का बड़ा इंटरव्यू

साहित्यिक-हलचल
ललित फुलारा धैर्य से पढ़ना पिछली बार हिमांतर पर आपने 'ईमानदार समीक्षा' पढ़ी होगी. अब वक्त है 'बड़े लेखक' का साक्षात्कार पढ़ने का. लेखक बहुत बड़े हैं. धैर्य से पढ़ना. लेखक बिरादरी की बात है. तीन-चार पुरस्कार झटक चुके हैं. राजनीतिज्ञों के बीच ठीक-ठाक धाक है. सोशल मीडिया पर चेलो-चपाटों की भरमार. संपादकों से ठसक वाली सेटिंग. महिला लेखिकाओं के बीच लोकप्रियता चरम पर. विश्वविद्यालयों में क्षेत्र और जात वाला तार जुड़ा हुआ है. कई संगठनों का समर्थन अलग से. अकादमी से लेकर समीक्षकों तक फुल पैठ. पूरी फौज है. बौद्धिक टिप्पणी के लिए अलग. गाली-गलौच के लिए छठे हुए. सेल्फी और शेयरिंग के लिए खोजे हुए. फिजिकल अटैक के लिए कभी-कभार वाले. साक्षात्कारकर्ता से टकरा गए थे किसी रोज लॉकडाउन से पहले. मार्च का महीना था. गले में गमछा और हाथ में किताबें लिए सरपंच बने फिर रहे थे. थोड़ी-सी नोंकझोक के बाद ऐसी दोस्ती ...