अध्यात्म, शौर्य, साहस और कर्तव्यपालन देवभूमि की पहचान : कृपा शंकर

0
124
RSS Kripa Shankar Chaube

नई दिल्ली : देवभूमि उत्तराखंड अपने अध्यात्म, शौर्य, साहस और कर्तव्यपालन के लिए भारत में ही नहीं दुनियाभर में प्रसिद्ध है. चारधामों सहित यहां अनेकों दिव्य सिद्धपीठ हैं जो आत्मिक शांति के केंद्र हैं. देशरक्षा हेतु सीमाओं पर डटे सैनिक वीरता के पर्याय हैं तो आज भी घर और बाहर दोनों जगह पुरुषार्थ में लगी माता-बहनें शक्ति का स्रोत हैं. यह सब सात्त्विक गुण इस पावन भूमि को विरासत में मिले हैं. इसी का प्रभाव है कि आज भी देवभूमि की प्रतिभाशाली संतानें प्रत्येक क्षेत्र में अपनी महत्ता और विश्वसनीयता प्रमाणित कर रही हैं. स्वतंत्रता सेनानी श्रीदेव सुमन जैसे इतिहास पुरुष के पराक्रम को विद्यालयी पाठ्यक्रम का अभिन्न हिस्सा बनाना चाहिए ताकि हमारी नई पीढ़ी अपने महान पूर्वजों के यश से परिचित हो सके.

ये विचार गढ़वाल भवन, झंडेवालान नई दिल्ली में अमर शहीद श्रीदेव सुमन की पुण्यतिथि पर आयोजित  कार्यक्रम में वरेण्य अतिथि के रूप में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ प्रचारक एवं उत्तर क्षेत्र प्रचार प्रमुख श्री कृपा शंकर जी ने व्यक्त किए.

मुख्य अतिथि उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि श्रीदेव सुमन जी ने अत्याचार और दमन के विरुद्ध साहस के साथ संघर्ष किया,वे हमारे इतिहास में प्रेरक व्यक्तित्व हैं. आज उत्तराखंड सरकार देवभूमि की संस्कृति और अपने इतिहास पुरुषों के द्वारा  दिखाए हुए मार्ग पर चलकर  राज्य को देश के विकसित राज्यों में अग्रणी बनाने को कृतसंकल्पित है. चाहे बुनियादी सुविधा हों,निवेश हो,रोजगार,शिक्षा,स्वास्थ्य, इन्फ्रास्ट्रक्चर,पर्यटन अथवा कोई भी अन्य विकास से जुड़ा कार्य ,उत्तराखंड निरंतर प्रगति के पथ पर बढ़ रहा है. समान नागरिक कानून लागू करने के लिए हमारी सरकार प्रतिबद्ध है और इसके साथ ही हम देवभूमि की मूल पहचान को बनाए और बचाए रखने के लिए भी प्रतिबद्ध हैं.

कार्यक्रम के प्रारंभ में अतिथियों ने भारतमाता और श्रीदेव सुमन जी के चित्रों पर पुष्पांजलि अर्पित की. दिल्ली विश्वविद्यालय की छात्राओं मेघा और अर्पिता द्वारा प्रस्तुत वैदिक मंगलाचरण के साथ दीप प्रज्वलित किया गया. इस अवसर पर श्रीदेव सुमन जी पर निर्मित गढ़वाली फिल्म “पहाड़ी रतन,श्रीदेव सुमन” के प्रोमो और पोस्टर का भी श्री पुष्कर सिंह धामी ने लोकार्पण किया. फिल्म के निर्माता विक्रम नेगी और निर्देशक ब्रिज रावत हैं. इस अवसर पर विश्व हिंदू परिषद दिल्ली प्रांत के संगठन मंत्री आचार्य सुबोध पुरोहित, द्वारका जिला संघचालक श्री प्रेम सिंह नेगी,जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी के पीवीसी प्रो.सतीश चंद्र गड़कोटी और गढ़वाल हितैषिणी सभा के अध्यक्ष श्री अजय बिष्ट ने भी श्रीदेव सुमन जी पर अपने विचार रखे.

कार्यक्रम का संचालन करते हुए सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय के मीडिया सलाहकार एवं पर्वतीय लोकविकासमिति के संयोजक प्रो.सूर्य प्रकाश सेमवाल ने कहा कि जिस प्रकार देश की स्वाधीनता के उपरांत केवल एक राजनीतिक परिवार ने अपना इतिहास लिखवाया उसी तरह टिहरी के सुपात्र इतिहास नायकों का नाममेट कर यहां की दमनकारी राजसत्ता ने अपने जयकारे लगवाए. आज जब अमृतकाल में गुलामी के प्रतीकों को मिटाकर प्रधानमंत्री जी मौलिक इतिहास लिखने का आहवान  कर रहे हैं तो श्रीदेव सुमन जी की पुण्यतिथि पर सुमन की टिहरी के मौलिक और वास्तविक इतिहास के पुनर्लेखन का संकल्प लेना होगा. पर्वतीय लोकविकास समिति केंद्र सरकार से विगत 5 वर्षों से स्वतंत्रता सेनानी  इतिहास पुरुष श्रीदेव सुमन जी पर डाक टिकट जारी करने की मांग कर रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here