स्मृति-शेष

और, उसके बाद उन्होने जीवन में अंग्रेजी में बात नहीं की

प्यारी दीदी एलिजाबेथ व्हीलर 

  • डॉ. अरुण कुकसाल

‘‘जीवन तो मुठ्ठी में बंद रेत की तरह है, जितना कसोगे उतना ही छूटता जायेगा. होशियारी इसी में है कि जिन्दगी की सीमायें खूब फैला दो, तभी तुम जीवन को संपूर्णता में जी सकोगे. डर कर जीना तो रोज मरना हुआ.’’

एलिजाबेथ व्हीलर दीदी ने इसी जीवन-दर्शन को मूल-मंत्र मानकर अपना संपूर्ण जीवन समाज सेवा को समर्पित कर दिया था. लोकहित की उनकी अदभुत भावना ने हजारों जिन्दगियों को संवारा. because वे जीवन में अविवाहित रही. परन्तु जीवन-भर सैंकड़ों बच्चों का लालन-पालन उनकी नवजात अवस्था से उन्होने किया था. आज वे बच्चे समर्थ होकर सुखमय जीवन-यापन कर रहे हैं.

ज्योतिष

सामाजिक सेवा कार्यों के लिए त्याग, because समर्पण, स्नेह और कर्तव्य-निष्ठा की जीती-जागती हमारी दीदी एलिजाबेथ व्हीलर (84 वर्ष) का काठगोदाम (नैनीताल) में 20 अक्टूबर, 2021 को निधन हो गया. कुछ समय से वे बीमार थी.

ज्योतिष

दीदी एलिजाबेथ व्हीलर का जन्म धन-धान्य because और प्रतिष्ठा से सम्पन्न परिवार में 14 अगस्त, 1938 को अल्मोड़ा नगर से 15 किमी. दूर जलना-पौंधार स्टेट (लमगड़ा) में हुआ था. बचपन से ही कुछ नया, कठिन एवं लोकल्याणकारी कार्यों को करने की ललक ने उनको समाज सेवा के लिए प्रेरित किया. छोटी सी उमर में ही उन्होने उन निजी सुख-सुविधाओं एवं सफलताओं से अपने को अलग कर लिया, जिनके लिए लोग पूरा जीवन स्वाह कर देते हैं.

ज्योतिष

भवाली, जलना एवं पौंधार स्टेट के मालिक व्हीलर परिवार का पूरे कुमाऊं में उच्च मान-सम्मान रहा है. व्हीलर जाति विश्व में कुशल एवं जांबाज सैनिकों के रूप में विख्यात रही हैं. एलिजाबेथ because दीदी के पूर्वज भी सेना के उच्च अधिकारी रहे. उनके पितामह ‘सर ह्यू व्हीलर’ भारत में ब्रिटिश सेना के प्रथम गर्वनर जनरल रहे तथा ‘दादा पैट्रिक व्हीलर’ भी आर्मी में जनरल के पद पर थे. पिता ‘वाल्टर व्हीलर’ आर्मी में कर्नल थे.

ज्योतिष

संयोग से ‘वाल्टर व्हीलर’ की शादी because अल्मोड़ा के खन्तोली गांव के पंत परिवार में हुयी थी. सेना से अवकाश के बाद  वाल्टर व्हीलर पौंधार (अल्मोड़ा) में रहने लगे थे. वाल्टर व्हीलर ज्योतिष विद्या में पारंगत थे. दूर-दराज के लोग उनके पास ज्योतिष गणना के लिए आया करते थे.

ज्योतिष

बचपन से ही क्रिश्चियन एवं हिन्दू धर्म के because आदर्श समन्वित स्वरूप में एलिजाबेथ एवं उनके बड़े भाई आर. व्हीलर का पालन-पोषण हुआ. दोनों धर्मों के रीति-रिवाजों और संस्कारों ने भाई-बहन की सोच और सामाजिक  व्यवहार के दायरे को व्यापकता में विकसित किया.

ज्योतिष

… हारना उनको मंजूर नहीं था.because इसलिए हमेशा अपने प्रयासों को और बेहतर करती रहती. और, यह आदत जीवन-भर उनके साथ रही.  अनावश्यक डर और संकोच से वह काफी दूर थी.

ज्योतिष

एलिजाबेथ दीदी ने एडम्स स्कूल, अल्मोड़ा से हाईस्कूल (सन् 1958), लालबाग, लखनऊ से इण्टरमीडिएट (सन् 1960), आईटी. कालेज, लखनऊ से बीए (सन् 1960) एमए अंग्रेजी (सन् 1964) because और एमए (हिन्दी) की शिक्षा प्राप्त की थी. विद्यार्थी जीवन में खेल एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों में वे अव्वल थी. हारना उनको मंजूर नहीं था. इसलिए हमेशा अपने प्रयासों को और बेहतर करती रहती. और, यह आदत जीवन-भर उनके साथ रही.  अनावश्यक डर और संकोच से वह काफी दूर थी.

ज्योतिष

पौंधार से अल्मोड़ा आने-जाने के लिए 15 किमी. का घने जंगल एवं विकट उतराई-चढ़ाई के because रास्ते को वह अक्सर अकेले दौड़ कर तय करती थी. जंगली जानवरों से हुयी मुठभेड़ को वह सामान्य घटना मानती थी.

ज्योतिष

एलिजाबेथ दीदी के व्यक्तित्व का एक because प्रमुख गुण यह भी रहा कि वे कठोर अनुशासन प्रिय थी. जो तय कर लिया उसे पूरे मनोयोग से पूरा करके ही छोड़ती थी.

ज्योतिष

पढ़ाई के बाद सामाजिक because सेवा कार्यों की तरफ उन्मुख हुई तो किसी स्थानीय व्यक्ति ने व्यंग के लहजे में एलिजाबेथ दीदी से सीधे कह दिया कि ‘अंग्रेज जाति और अंग्रेजी बोलने वाली, आप हमारा भला क्यों करेंगी?’

ज्योतिष

तब एलिजाबेथ ने प्रति-उत्तर में शांत because तरीके से कहा कि ‘मैं अंग्रेज जाति की हूं, उसको तो मैं चाह कर भी नहीं बदल सकती पर आज से मैं कभी भी अंग्रेजी में नहीं बोलूंगी.”

ज्योतिष

सार्वजनिक तौर पर अंग्रेजी में न बोलने के because इस प्रण का उन्होने जीवन-भर पालन किया. इसी जिद्द पर उन्होने एमए हिन्दी की डिग्री हासिल की. वे हिन्दी भी बहुत जरूरी हुआ तभी बोलती थी. कुमाऊंनी ही उनकी अभिव्यक्त का माध्यम था. आकाशवाणी से उनकी कुमाऊंनी वार्ताएं प्रसारित होती थी.

एलिजाबेथ दीदी ने पढ़ाई के दौरान ही ग्रामीण महिलाओं की भलाई के लिए कार्य करना शुरू कर दिया था. वे प्रयास करती कि महिलायें जीवन में शारीरिक एवं मानसिक तौर पर सर्मथवान हों. because उसके लिए वह गांव की लड़कियों को शिक्षा, खेल, स्वास्थ्य तथा अपनी रक्षा के लिए राइफल्स चलाना सीखने के लिए उत्साहित करती. इसी को अमल में लाने के लिए उन्होने एसएसबी में 25 वर्ष तक स्वैच्छिक रूप में बिना वेतन के स्वयंसेवी सीओ के पद पर अपनी सेवायें प्रदान की थी. इस दौरान उन्होने हजारों महिलाओं को न केवल राइफल चलाना सिखाया वरन् उनके दुःख-दर्दों में अग्रज की भूमिका में भी वे सक्रिय रही थी.

ज्योतिष

अपनी युवा अवस्था में एलिजाबेथ व्हीलर के जीवन में अप्रत्याशित रूप में वह दिन भी आया जब एक अज्ञात नवजात शिशु को वे अपने घर ले आयी थी. घर-परिवार वालों ने उन्हें बहुत समझाया because कि अनजान और पराये बच्चे को पालना बहुत कठिन है. परन्तु परिवार के बड़े-बुजुर्गों की इन दलीलों का व्हीलर दीदी पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा.

ज्योतिष

‘वाल्टर व्हीलर सेवा समिति, because पौंधार’ (सन् 1982) के माध्यम से उन्होने अपने कार्यों को संगठित स्वरूप प्रदान किया. होम स्टे तथा डे-केयर सैंटर संचालित करने के उनके प्रयास कारगर सिद्ध हुए. जरूरतमंद महिलाओं एवं बच्चों को सुरक्षा, न्याय तथा आर्थिक संबल देकर वे जीने का मजबूत आधार प्रदान करती थी.

ज्योतिष

और, उन्होने तब एक क्षण भी नहीं गवांया और प्रण किया कि वह शादी नहीं करेंगी तथा समाज में बेसहारा बच्चों का जीवन-भर का सहारा बनेगीं. उनके इस दृड-संकल्प को परिवार की because अतंतः स्वीकृति मिल ही गयी. तब से एक के बाद एक अनेक बच्चे उनके आंचल में मातृ सुख-चैन की छांव पाते गए.

ज्योतिष

वह सैकड़ों बच्चों की ईजा, मौसी, दीदी, फूफू, दादी और नानी थी.

‘वाल्टर व्हीलर सेवा समिति, पौंधार’ (सन् 1982) के माध्यम से उन्होने अपने कार्यों को संगठित स्वरूप प्रदान किया. होम स्टे तथा डे-केयर सैंटर संचालित करने के उनके प्रयास कारगर because सिद्ध हुए. जरूरतमंद महिलाओं एवं बच्चों को सुरक्षा, न्याय तथा आर्थिक संबल देकर वे जीने का मजबूत आधार प्रदान करती थी. गांवों में होने वाले विवादों के सरल समाधान, गरीबों को कानूनी सहायता और जानकारी के लिए ‘परिवार परामर्श केन्द्रों’ का उन्होने सफलतापूर्वक संचालन किया था.

ज्योतिष

स्वःरोजगारपरक कार्यक्रमों के माध्यम से उन्होने सैकड़ों स्थानीय युवाओं को स्वः उद्यम प्रेरित किया था. उन्हीं के मजबूत प्रयासों से ‘पौंधार दुग्ध सहकारी समिति’ का गठन कर स्थानीय because दुग्ध व्यवसाय को नया संगठित आयाम प्रदान किया गया था. उत्तराखंड के वन, शराब और पृथक राज्य आन्दोलन में वे सक्रिय रहीं थी. पौंधार में उनका घर सामाजिक और आर्थिक चेतना और प्रशिक्षण का प्रमुख केंद्र था.

ज्योतिष

‘‘सबसे पहले बेसहारा हुए महिला एवं बच्चे के मन-मस्तिष्क में असुरक्षा, डर और हीन भावना से उनको आजाद करने का प्रयास करना चाहिए. ‘जीना है तो डरना कैसा.’ because सब ठीक हो जायेगा की प्रेरणा हमेशा असहाय हुए लोगों को देनी चाहिए. इससे उनका स्वतः ही शारीरिक एवं बौद्धिक विकास होने लगेगा. इस नेक काम में हम तो मात्र एक माध्यम बनते हैं. प्रयास तो वे खुद ही करते हैं.’’

ज्योतिष

बेसहारा महिलाओं और बच्चों की तो अभिभावक थी. व्हीलर दीदी सामाजिक कार्यकर्ताओं को समझाती कि ‘‘सबसे पहले बेसहारा हुए महिला एवं बच्चे के मन-मस्तिष्क में because असुरक्षा, डर और हीन भावना से उनको आजाद करने का प्रयास करना चाहिए. ‘जीना है तो डरना कैसा.’ सब ठीक हो जायेगा की प्रेरणा हमेशा असहाय हुए लोगों को देनी चाहिए. इससे उनका स्वतः ही शारीरिक एवं बौद्धिक विकास होने लगेगा. इस नेक काम में हम तो मात्र एक माध्यम बनते हैं. प्रयास तो वे खुद ही करते हैं.’’

ज्योतिष

धन-दौलत, पद, प्रतिष्ठा, राजनीति, सम्मान और पुरस्कार की लालसा से दूर वह ‘एकला चलो’ की रीति और नीति पर अपने जीवन कर्तव्यों का निर्वाह करते हुए इस दुनिया because से चुपचाप अलविदा हो गई. नमन दीदी नमन. आपका स्नेह मिलना हमारी पीढ़ी की एक अमूल्य निधि है जो तुम्हारी मधुर याद की तरह हमारे मन-मस्तिष्क में रह कर हमेशा जीवनीय प्रेरणा प्रदान करती रहेगी.

(लेखक एवं प्रशिक्षक)

Share this:

Himantar Uttarakhand

हिमालय की धरोहर को समेटने का लघु प्रयास

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *