March 5, 2021
स्मृति शेष

कौन कहता है मोहन उप्रेती मर गया है!

लोक के चितेरे मोहन उप्रेती की जयंती (17 फरवरी, 1928) पर विशेष

  1. चारु तिवारी

उस शाम मैं गुजर रहा था उद्दा की दुकान के सामने से, अचानक दुकान की सबेली में खड़े मोहन ने आवाज दी- ‘कहां जा रहा है ब्रजेन्द्र? यहां तो आ.’ क्या है यार? because घूमने भी नहीं देगा.’ और मैं खीज कर उदेसिंह की दुकान के सामने उसके साथ घुस गया. उसके सामने ही लगी हुर्इ लकड़ी की खुरदरी मेज थी. मोहन कुछ उत्तेजित-सा लग रहा था. मेज को तबला मानकर वह उसमें खटका लगाकर एक पूर्व प्रचलित कुमाउनी गीत को नितान्त नई धुन तथा द्रुत लय में गा रहा था. वह बार-बार एक ही बोल को दुहरा रहा था. उस गीत की नर्इ और चंचल because धुन मुझे भी बहुत अच्छी लग रही थी. गीत था-

अपनेपन

बेडू पाको बारामासा
हो नरैण काफल पाको so चैता मेरी छैला.
रूणा-भूणा because दिन आयो
हो नरैण पूजा but म्यारा मैता मेरी छैला.

मोहन बार-बार यही धुन दुहरा रहा था. ‘अरे भाई… आगे तो गा.’ मैं बेसब्र होकर बोला. ‘यार ब्रजेश आगे तो मुझे भी नहीं आता. किसी के मुंह से सुना था. तर्ज भूल गया इसलिये नई धुन because
बनाकर गा रहा हूं. इसके आगे कुछ लिख.’ पास ही लकड़ी की फर्श पर ‘सीजर’ सिगरेट का खाली डिब्बा पड़ा था. मैंने उठाया जोड़ उखाड़ कर खोला… उदेसिंह से पेंसिल लेकर उस बोल को आगे बढ़ाने का प्रयास प्रारंभ कर दिया.’

अपनेपन

ब्रजेन्द्र लाल शाह ने अपने संस्मरण because में ‘अब केवल बिंबो में’ मोहन उप्रेती को याद करते हुये उपरोक्त पंक्तियां लिखी हैं. फिर जो गीत बना वह है-

रौ की रौतेली लै माछी मारी गीड़ा
तेरो खुटो काना बुड़ो मेरो खुटा पीड़ा
हो नरैण मेरो खुटा पीड़ा
सवाई को बाल मेरो so हिया भी औंछ जस नैनीताल
बाकरी की पसी पारा but डाना दिखा हैंछै ब्याण तारा जसी
हो नरैण ब्याण तारा because जसी मेरी छैला
लडि़ मरी के होलो लड़ाई छौ धोखा
हो नरैण लड़ाई छौso धोखा मेरी छैला
हरियो भरियो रई चैंछ because हो नरैण धरती को कोखा
हो नरैण धरती की कोखा मेरी छैला.

अपनेपन

बाद में यह गीत उदेसिंह की दुकान से लेकर सात संमदर पार तक पहुंच गया. हर व्यक्ति उन्हें तभी से जानता है जब से वह ‘बेडू पाको बारामासा…’ गीत सुनता है. दुनिया के because जिस भी कोने में यह गीत बजता है एक पहाड़ सामने खड़ा हो जाता है. सांस्कृतिक चेतना, सामाजिक सरोकार, राजनीतिक समझ, जीवन के संघर्ष, आमजन की पीड़ा, व्यवस्था के खिलाफ प्रतिकार, सामाजिक विकृतियों से टकराने की जिजीविषा, बेहतर समाज बनाने की आंकाक्षा इन सबसे बने व्यक्ति को हम मोहन उप्रेती के नाम से जानते हैं. एक तरह से वे हमेशा हमारी सांस्कृतिक because यात्रा के ब्रांड एम्बेसडर बने रहेंगे. हम उन्हें कर्इ रूपों में जानते हैं. उनका हर रूप समाज के अंदर उठने वाली हर बेचैनी को स्वर देने वाला है. आज उनकी जयंती है. हम सब उन्हें कृज्ञतापूर्वक याद करते हैं.

अपनेपन

सुप्रसिद्ध साहित्यकार विद्यासागर नौटियाल ने अपनी चर्चित पुस्तक ‘मोहन गाता जायेगा’ का शीर्षक उन पर लिखे संस्मरण पर ही रखा. नौटियाल जी ने उन्हें याद करते हुये लिखा है कि- ‘एक ओर राज्य सरकार और जिला प्रशासन हमें तन्हार्इ देकर और हमारे परिजनों को तंग, परेशान कर हमें ठीक करने पर उतारू थे. जिसके दिमाग में because ‘साम्यवाद आवश्यंभावी है’ का महामंत्र गूंजता रहता था, दूसरी ओर जेल के अंदर मोहन की मौजूदगी के कारण हमारी जिन्दगी पूरी तरह बदलने लगी थी. चौथे वार्ड की पहली बैरक. इसमें चैरासी कैदियों को रखा जा सकता है. because हम कुल सात लोग बंद थे. अभी रात खुली नहीं है. जेल में कैदियों की बैरकों को खोले जाने के लिये लगातार बजाये जाने वाला घंटा, जिसे पचासा कहते हैं, के बजाये जाने में अभी पर्याप्त विलंब है. तालों से जकड़ी बैरक के अंदर अपने सख्त बिस्तर पर बैठकर मोहन उप्रेती भैरवी गाने लगा है. शांत जेल की अन्य बैरकों में भी मोहन की आवाज गूंजने लगी है. मिठास से भरी हुर्इ एक महान संगीतकार की आवाज-

अपनेपन

भैरवी कहे मनमानी
कोमल सब सुर कर गुनि गावत
प्रथम पहर की रानी हो.

…जवाहरलाल नेहरू के कार्यकाल because में बुल्गानिन-खु्रश्चोव भारत आये थे. कलकत्ते में उनके स्वागत में जो जन सैलाब उमड़ा था, उसके बारे में पंडित नेहरू ने कहा था- ‘आज मानव इतिहास में सबसे बड़ा जन समूह यहां इकत्र हुआ है. बुल्गानिन-खु्रश्चोव के स्वागत में दिल्ली में किये गये आयोजनमें उप्रेती ने कलाकारों की अपनी टोली के साथ एक गीत प्रस्तुत किया था. गीत के बोल थे- ‘बेडू पाको बारामासा, नरैण because काफल पाको चैता मेरी छैला.’ लोक गीत संगीत की धुन पर बनाया गया मोहन-नर्इमा का यह गीत आज उत्तराखंड के घर-घर का गीत बन गया है.

अपनेपन

… देहरादून में मेरे घर के बाहर because एक बारात चली जा रही है. नौजवान मस्ती में नाच रहे हैं. गीत की धुन मादक है. ‘बेडू पाको बारामासा’ गाया जा रहा है. गीत के बोल वाद्ययंत्र और नृत्य करने वालों की पगध्वनि से उठने वाला सामूहिक नाद जमीन-आसमान को एक करने लगा लगा है.

कौन कहता है मोहन उप्रेती मर गया है?

मोहन जिन्दा है. मेरे घर के बाहर सड़क परbecause गीत गाता जा रहा है. लोग झूम रहे हैं और वह गाता जा रहा है. मोहन उप्रेती अमर है दिल्ली में बैठा शासन तंत्र भूले तो भूले. उत्तराखंड मेें लाखों कंठों से उसके गीतों की स्वरधारा लगातार प्रवाहित होती रहेगी. व शताब्दियों तक जीवित रहेगा.’ (मोहन गाता जायेगा, विद्यासागर नौटियाल)

अपनेपन

मोहन उप्रेती जी का जन्म 17 फरवरी, 1928 में रानीधारा, अल्मोड़ा में हुआ था. उप्रेती जी सुप्रसिद्ध रंगकर्मी और लोक संगीत के मर्मज्ञ थे. कुमांउनी संस्कृति, लोकगाथों को राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय पहचान दिलाने में इनकी अहम भूमिका रही. बर्ष 1949 में एमए करने के बाद 1952 तक अल्मोड़ा इण्टर कालेज में इतिहास के प्रवक्ता पद पर कार्य किया. because 1951 में ‘लोक कलाकार संघ’ की स्थापना की. 1950 से 1962 तक कम्युनिस्ट पार्टी के लिये भी कार्य किया. इस बीच पर्वतीय संस्कृति का अध्ययन और सर्वेक्षण का कार्य किया. सुप्रसिद्ध लोक कलाकार मोहन सिंह बोरा because ‘रीठागाड़ी’ के सम्पर्क में आये.इसके बाद वे लगातार सांस्कृतिक गतिविधियों में शामिल होने लगे. कुमाऊं और गढ़वाल में अनेक सांस्कृतिक कार्यक्रम किये. वामपंथी विचारधाराओं के कारण 1962 में चीन युद्ध के समय इन्हें गिरफ्तार कर लिया गया और नौ महीने का कारावास भी झेला.

अपनेपन

जेल से छूटने के बाद अल्मोड़ा और सारे पर्वतीय क्षेत्र से निष्कासित होने के कारण इन्हें दिल्ली में रहना पड़ा. दिल्ली के ‘भारतीय कला केन्द्र’ में कार्यक्रम अधिकारी के पद पर इनकी तैनाती हुई और 1971 तक इस पद पर रहे. दिल्ली में पर्वतीय क्षेत्र के लोक कलाकारों के सहयोग से 1968 में ‘पर्वतीय कला केन्द्र’ की स्थापना की. because राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय, दिल्ली में 1992 तक प्रवक्ता और एसोसियेट प्रोफेसर भी रहे. विश्व स्तर पर गढ़्वाल और कुमाऊं की लोक कला की पहचान कराने में उप्रेती जी का विशिष्ट योगदान रहा है. अपने रंगमंचीय जीवन में इन्होंने लगभग बाइस देशों की यात्रा की और वहां सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये. अल्जीरिया, सीरिया, जार्डन, रोम आदि देशों की यात्राएं की और वहां पर because सांस्कृतिक कलाकारों के साथ पर्वतीय लोक संस्कृति को प्रचारित किया. पर्वतीय लोक कलाकारों के साथ 1988 में चीन, थाईलैण्ड और उत्तरी कोरिया का भ्रमण किया. ‘श्रीराम कला केन्द्र’ के कलाकारों के साथ लगभग बीस देशों का भ्रमण किया. सिक्किम के राजा नाम्ग्याल ने इन्हें राज्य में सांस्कृतिक कार्यक्रमों को प्रस्तुत करने के लिये विशेष रुप से आमंत्रित किया.

अपनेपन

अल्मोड़ा में अपने अनन्य सहयोगियों ब्रजेन्द्र लाल शाह, बांके लाल शाह, सुरेन्द्र मेहता, तारा दत्त सती, because लेनिन पन्त और गोवर्धन तिवाड़ी के साथ मिलकर ‘लोक कलाकार संघ’ की स्थापना की. अपने रंगमंचीय जीवन में उप्रेती जी ने पर्वतीय क्षेत्रों के लगभग डेढ़ हजार कलाकारों को प्रशिक्षित किया और 1200 के करीब सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये. राजुला-मालूशाही, रसिक-रमौल, जीतू-बगड़वाल, रामी-बौराणी, अजुवा-बफौल जैसी तेरह लोक कथाओं और विश्व की सबसे बड़ी गायी जाने वाली गाथा because ‘रामलीला’ का पहाड़ी बोलियों (कुमाउनी और गढ़वाली) में अनुवाद कर मंच निर्देशन कर प्रस्तुत किया. इसके अतिरिक्त हिन्दी और संस्कृत में मेघदूत और इन्द्रसभा, गोरी-धन्ना का हिन्दी में मंचीय निर्देशन किया.

अपनेपन

मोहन उप्रेती जी भारत सरकार के because सांस्कृतिक विभाग की लोक नृत्य समिति के विशेषज्ञ सदस्य रहे, हिमालय की सांस्कृतिक धरोहर के एक्सपर्ट सदस्य और भारतीय सांस्कृतिक परिषद के भी विशिष्ट सदस्य रहे. देश की प्रमुख नाट्य मंडलियों से इनका सीधा संपर्क रहा, कई नाटकों के संगीतकार रहे, इनमें प्रमुख हैं- घासीराम कोतवाल, अली बाबा, उत्तर रामचरित्त, मशरिकी हूर और अमीर खुसरो.

अपनेपन

लोक संस्कृति को मंचीय माध्यम से अभिनव रूप में प्रस्तुत करने, संगीत निर्देशन और रंगमंच के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिये इन्हें साहित्य कला परिषद, दिल्ली द्वारा 162 में पुरस्कृत किया गया. संगीत निर्देशन पर उन्हें 1981 में भारतीय नाट्य संघ ने पुरस्कृत किया. लोक नृत्यों के लिये संगीत नाटक अकादमी द्वारा 1985 में because पुरस्कृत हुये. हिन्दी संस्थान उप्र सरकार नें उन्हें सुमित्रानन्दन पन्त पुरस्कार देकर सम्मानित किया. वे जोर्डन में आयोजित समारोह में प्रसिद्ध गोल्डन बियर पुरस्कार से भी पुरस्कृत हुये. इण्डियन पीपुल्स थियेटर एसोसियेशन (इप्टा) के भी सदय रहे. सलिल चौधरी, उमर शेख और बलराज साहनी के साथ मिलकर कई कार्यक्रम भी प्रस्तुत किये.

अपनेपन

उत्तराखण्डी लोक संस्कृति के चितेरे का 6 because जून, 1997 को निधन हो गया. उनका गाया और संगीतबद्ध किया गया लोकगीत ‘बेडू पाको बारा मासा’ हमेशा उनकी याद दिलाता रहेगा. जब जवाहर लाल नेहरु जी ने उनके कंठ से यह गीत सुना तो उन्होंने मोहन दा का नाम ‘बेडू पाको ब्वाय’ रख दिया. हम उन्हें कृतज्ञतापूर्वक याद करते हैं.

संदर्भ

  1. Mohan Upreti: The Man and his Art- Diwan Singh Bajeli
  2. मोहन गाता जायेगा, विद्यासागर नौटियाल
  3. लोक का चितेरा: ब्रजेन्द्र लाल शाह, कपिलेश भोज
  4. मेरा पहाड़
    (हमने क्रिएटिव उत्तराखंड-म्यर पहाड़ की ओर से पोस्टर भी जारी किया था. because पोस्टर में उनके निधन की तिथि 8 जून हो गई थी. उसे 6 जून पढा जाये.)

(सोशल एक्टिविस्ट, स्वतंत्र पत्रकार एवं लेखक)

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *