September 28, 2020
वीडियो

जहां ढोल की थाप पर अवतिरत होते हैं देवता

हमारी संस्कृति हमारी विरासत

उत्तराखंड का रवांई क्षेत्र अपने सांस्कृतिक वैशिष्टय के लिए सदैव विख्यात रहा है. लोकपर्व, त्योहार, उत्सव, मेले—थोले यहां की संस्कृति सम्पदा के अभिन्‍न अंग रहे हैं. कठिन दैनिकचर्या के बावजूद ये लोग इन्हीं अवसरों पर अपने आमोद-प्रमोद, मनोरंजन, मेल-मिलाप हेतु वक्त चुराकर न केवल शारीरिक, मानसिक थकान मिटाकर तन-मन में नयी स्फूर्ति का संचार करते हैं, बल्कि जीवन के लिए उपयोगी सामग्री का संग्रह भी करते हैं. सुदूर हिमालयी क्षेत्र में होने वाले मेले, शहरी मेलों से पूरी तरह अलग लोक के विविध रंगों से रंगे नजर आते थे किन्तु वर्तमान में वैश्वीकरण की आबो-हवा के चलते लोक संस्कृति के संवाहक रूपी मेले से वर्तमान पीढ़ी का मोहभंग होता जा रहा है, जिसके चलते इनके अस्तित्व पर ही संकट के बादल मंडराने लगे हैं. वर्षों पूर्व अपार हर्षोल्लास के साथ सम्पन्न होने वाले कई मेले जहां अपने अस्तित्व के लिए जूझ दिख रहे हैं, तो कई विलुप्त प्राय: होकर जुबानी इतिहास बन मात्र स्मृतियों में शेष रह गये हैं. जो कि एक गम्भीर चिंतन का विषय है.
हम हिमालयी राज्यों की वर्षों पुरानी संस्कृति और सभ्यता को बचाए, बनाए रखने के लिए प्रयासरत हैं. आप से आग्रह है कि आप भी हमारे इस प्रयास में भागीदार बनें. अपने क्षेत्र की सांस्कृति, लोक और परंपरा को हमारे साथ साझा करें.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *