November 27, 2020
समसामयिक

राजनीति में लोकतांत्रिक संस्कार की जरूरत

  • गिरीश्वर  मिश्र

राजनीति सामाजिक जीवन की व्यवस्था चलाने की एक जरूरी आवश्यकता है जो स्वभाव से ही व्यक्ति  से मुक्त हो कर लोक की ओर उन्मुख होती है. because दूसरे शब्दों में वह सबके लिए साध्य न हो कर उन बिरलों के लिए ही होती है जो निजी सुख को छोड़ कर लोक कल्याण के प्रति समर्पित होते हैं. स्वतंत्रता संग्राम के दौर में राजनीति में जाना सुख की लालसा से नहीं बल्कि अनिश्चय और जोखिम के साथ देश की सेवा की राह चुनना था. स्वतंत्रता मिलने के बाद धीरे-धीरे राजनीति की पुरानी स्मृति धुंधली पड़ने लगी और नए अर्थ खुलने लगे जिसमें देश. लोक और समाज हाशिए पर जाने लगे और अपना निजी हित प्रमुख होने लगा. यह प्रवृत्ति हर अगले चुनाव में बलवती होती गई और अब सत्ता, अधिकार और अपने लिए धन संपत्ति का अम्बार लगाना ही राजनीति का प्रयोजन होने लगा है.

विचारधारा

राजनैतिक विचारधारा because और आदर्श तो अब पुरानी या दकियानूसी बात हो चली है. विचार स्वातंत्र्य इतना की अब तो मुद्दों पर सहमति हो जाय तो कोई भी दल किसी भी दल यहाँ तक कि अपने धुर विरोधी दल के साथ भी सरकार बना लेने को आतुर रहता है. नेताओं के चित्त इतने उदात्त कि उनके लिए केंद्र में साथ और राज्य में विरोध भी सहजता से ग्राह्य हो जाता है. इसी तरह लगभग हर राजनैतिक दल अपनी कार्य प्रणाली में लोकतांत्रिक तौर तरीकों को पीछे छोड़ता जा रहा है.

विचारधारा

राजनेता अपने आचरण because में लोक से दूर होते जा रहे हैं और नए नेताओं के बीच  सेवा और त्याग जैसे विचार अपनी चमक खो रहे हैं. अब राजनीति करना महँगा सौदा बन चुका है और किसी साधारण आदमी के बस से बाहर हो चुका है. मजबूरी में राजनीति सौदेबाजी पर टिक जाती है और  जो लोग धन देते हैं उसकी कीमत भी वसूलते हैं.

विचारधारा

मसलन अब because सुप्रीमो और हाई कमान ही हर काम के लिए अधिकृत  होने लगा है और दल के कार्यकर्ताओं की भूमिका भी जमीन से नहीं ऊपर से तय होने लगी है. सत्ता की बन्दरबाँट और सौदेबाजी हर स्तर दिखने लगी है और दिक्कत होती है तो एक छोटे राज्य में कई कई उप मुख्यमंत्री बना दिए जाते हैं. इस  तरह सत्ता के समीकरण अपने पक्ष में करने के लिए हर संभव युक्ति अपनाया जाना स्वीकार्य हो चुका है. .

विचारधारा

सिद्धांत में लोकतंत्र की व्यवस्था में  because जनता ही प्रमुख होती  है.  फलत:  राजनीति जन जीवन में उपजती है और वहीं से जीवन ग्रहण करती है . परन्तु  भारतीय जन जीवन में राजनीति पर राजनेताओं का एकाधिकार होता जा रहा है. राजनेता अपने आचरण में लोक से दूर होते जा रहे हैं और नए नेताओं के बीच  सेवा और त्याग जैसे विचार अपनी चमक खो रहे हैं. अब राजनीति करना महँगा सौदा बन चुका है और किसी साधारण आदमी के बस से बाहर हो चुका है. मजबूरी में राजनीति सौदेबाजी पर टिक जाती है और  जो लोग धन देते हैं उसकी कीमत भी वसूलते हैं.

विचारधारा

सांकेतिक तस्वीर. गूगल से साभार

निर्वाचन आयोग ने चुनाव खर्च की जो because सीमा तय की है वह अवास्तविक है. ऐसे में राजनीति  का प्रवेश द्वार उन चुनिंदे लोगों के लिए होता है जो खर्च बर्च में समर्थ होते हैं. इस तरह नैतिकता और जन सेवा आदि के मूल्य पृष्ठ भूमि में चले जाते हैं.  भारतीय राजनीति की इस बदलती संस्कृति में  उदारता  है और  उसमें किसी का भी प्रवेश हो सकता है और जो लोग प्रवेश पा लेते हैं वे पूरी व्यवस्था को अपने लायक बना डालते हैं और अपने सरीखे लोगों को अधिकाधिक प्रश्रय देते हैं. यह अद्भुत विसंगति है कि जहां राजनीति देश के लिए आवश्यक ही नहीं अनिवार्य है वहीं राजनीतिज्ञ होने लिए किसी तरह की योग्यता अनिवार्य नहीं है. समावेशी होने के लिए इस तरह के बंधन अमान्य हो जाते हैं और कोई भी जीत कर सिकंदर बन सकता है.

विचारधारा

शिक्षा संवैधानिक पद के because कार्यभार को संभालने के लिए जरूरी है इससे सहमति के बावजूद मुख्य मंत्री और राष्ट्रपति पद तक के लिए व्यवस्था ने समझौते किए हैं और व्यवहार के स्तर पर देखें तो यह बात साफ़ जाहिर हो रही है कि राजनीति में आ कर मंत्री पद को संभालने के लिए अब किसी तरह के ज्ञान और कौशल की जरूरत नहीं रह गई है और कई भी नेता किसी भी मंत्रालय को संभाल सकता है.

विचारधारा

जिन लोगों में राजनीति के प्रति आकर्षण because और रुझान दिख रही है वे सत्ता और अधिकार के भूखे हैं. विभिन्न पार्टियों के दफ्तर में चुनाव में प्रत्याशी होने के लिए टिकटार्थियों की भीड़ देखने से इसका अंदाजा लगता है. अंतत: जिनको पार्टी टिकट देती है वे वे होते हैं जिनकी योग्यता से अधिक जीतने की संभावना होती है. यहाँ जाति, धन और असर के बाद योग्यता का नंबर आता है. शिक्षा संवैधानिक पद के कार्यभार को संभालने के because लिए जरूरी है इससे सहमति के बावजूद मुख्य मंत्री और राष्ट्रपति पद तक के लिए व्यवस्था ने समझौते किए हैं और व्यवहार के स्तर पर देखें तो यह बात साफ़ जाहिर हो रही है कि राजनीति में आ कर मंत्री पद को संभालने के लिए अब किसी तरह के ज्ञान और कौशल की जरूरत नहीं रह गई है और कई भी नेता किसी भी मंत्रालय को संभाल सकता है. जब कि परिस्थतियों की जटिलता ज्ञान के अधिकाधिक वैशिष्ट्य के और संकेत करती हैं.

विचारधारा

आज राजनीति में शामिल लोगों की आम आदमी के जो छवि बनती जा रही है उसमे अपराध, अनधिकार चेष्टा, बल प्रयोग और अपने लाभ के अवसर बढाना आदि प्रमुख होते जा रहे हैं. because उनके लिये जनता का अर्थ अपने परिजन, अपनी जाति बिरादरी और अपने क्षेत्र तक सीमित होता जा रहा है. स्थिति यह है अब नेता  लोगों को देश दुनिया के बारे में  भी जानकारी नहीं होती और सार्वजनिक स्थलों पर हास्यास्पद स्थिति पैदा हो जाती है.

विचारधारा

राजनीतिज्ञ के लिये सुशिक्षित होना because जरूरी नहीं होने से नहत्वाकांक्षा ही एक मात्र आधार बचा है. राजनीति और शिक्षा का सम्बन्ध टूटता जा रहा है क्योंकि राजनीति में सफलता के सूत्र सेवा, ज्ञान और कौशल की जगह धन बल, जन बल और बाहु बल होते जा रहे हैं .

विचारधारा

 बंश वाद की बेल जिस तरह तेजी से विभिन्न दलों पर काबिज हो रही है उससे राजनीति को निजी सत्ता में तब्दील करने की प्रवृत्ति को बल मिल रहा है. नेता गण अपने को जनता के बीच कम सहज पाते हैं. सुरक्षित  रहने और अपने हितों को सुरक्षित करने के लिए  परिवार के बीच सत्ता को अधिकार में रखने को उद्यत रहते हैं. because यह निरा संयोग नहीं कहा जा सकता कि जेल में रह कर भी कई बाहुबली चुनाव में विजयी हो जाते हैं और शुद्ध अपराधी चरित्र के लोग राजनैतिक शक्ति हासिल कर लेते हैं. राजनीति की इस तरह की मजबूरियां अंतत: निहित स्वार्थ की ही पूर्ति करती नजर आती हैं. राजनीति के द्वार ऐसे जनों के लिये ही खुलते हैं. ताजे चुनाव में हर दल में ऐसे उम्मीदवार अप्रत्याशित रूप से बड़ी संख्या में हैं जिनकी आपराधिक गतिविधियों में शामिल होने की प्रवृति रही है.

विचारधारा

चुनावी समर में उनके व्यवहार because और बातचीत से भी इसका सहज अनुमान लगाया जाता है कि समाज के हित के लिए उनकी संलग्नता कितनी सतही है. प्रत्याशी लोग झूठ सच कुछ भी बोल कर मतदाताओं को रिझाते हैं. इस दौर में शराब और रूपयों की वैध अबैध खपत और पुलिस की पकड़ धकड़ के किस्से भी सुनाई पड़ते हैं मानों वोट न हो कोई जिन्स हो बाजार में  जिसकी खरीद फरोख्त हो रही हो. आरोप – प्रत्यारोप, दावे  और वादे के साथ धनबल, जातिबल और बाहुबल की सहायता से सत्ता पर काबिज होने की हर संभव जुगत की जाती है ताकि सत्ता को अपने पाले में भगा कर लाया जा सके. ऐसा करते हुए आजकल सहिष्णुता के अभाव में चुनाव प्रचार संघर्ष में भी बदल जाता है और अपराध की हद में चला जाता है.

विचारधारा

देश-दुनिया because और समाज की समस्याओं और नीतियों पर चर्चा छोड़  जन सभाएं वोट की बोली लगाने जैसे माहौल में आयोजित होने लगी हैं. यह राजनैतिक सरगर्मी जिसमें नेता जी अपने इलाके की सुधि ले पाते हैं अल्पकालिक ही होती है क्योंकि  जीतने या हारने के बाद नेता जी प्राय: लुप्त हो जाते हैं. कुल मिला कर चुनावी और गैर चुनावी राजनैतिक आचरण लोकतांत्रिक मूल्यों की दृष्टि से असंतोष जनक होती जा रही है.

विचारधारा

आए दिन ये राजनैतिक करतब because यहां-वहां दुहराए जाने लगे हैं. देश-दुनिया और समाज की समस्याओं और नीतियों पर चर्चा छोड़  जन सभाएं वोट की बोली लगाने जैसे माहौल में आयोजित होने लगी हैं. यह राजनैतिक सरगर्मी जिसमें नेता जी अपने इलाके की सुधि ले पाते हैं अल्पकालिक ही होती है क्योंकि  जीतने या हारने के बाद नेता जी प्राय: लुप्त हो जाते हैं. कुल मिला कर चुनावी और गैर चुनावी राजनैतिक आचरण लोकतांत्रिक मूल्यों की दृष्टि से असंतोष जनक होती जा रही है. यह खेद की बात है कि छोटे बड़े नेता अल्पकालिक निजी लाभ के सामने देश के नुकसान की अनदेखी करने में कोई संकोच नहीं करते. लोक तंत्र को चलाने के लिए लोकतांत्रिक जीवनशैली भी जरूरी है इसलिए राजनैतिक दलों की संस्कृति में लोकतंत्र के संस्कार स्थापित करने आवश्यक हैं.

विचारधारा

(लेखक शिक्षाविद् एवं पूर्व कुलपति, महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय वर्धा हैं.)

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *