November 25, 2020
ट्रैवलॉग

बज उठेंगी हरे कांच की चूडियाँ…! 

मंजू दिल से… भाग-5

  • मंजू काला

चूडियाँ पारंपरिक गहना है,because जिसका प्रयोग अमूनन हर भारतीय नारी करती है और जब तक उनकी कलाइयों पर ये सुंदर-सा गहना सज नहीं जाता, तब तक श्रंगार भला कैसे पूरा होगा!

प्यारे

हम भारतीय नारियाँ रंग-बिरंगी because चमकीली चूड़ियाँ कलात्मक एव सुरुचिपूर्ण ढंग से पहनकर अपनी कोमल कलाइयों का श्रंगार करती हैं. यह शृंगार शताब्दियों से कुमारियों एवं नारियों को रुचिकर प्रतीत होता है, साथ ही स्वजन-परिजन भी हर्षित होते हैं. हाथ की चार चूड़ियाँ उनके अहिवात को सुरक्षित रखने के लिए ही पर्याप्त हैं. कवि देव के शब्दों में नारियों की प्रभु से चिर प्रार्थना यही है-

संग ही संग becauseबसौ उनके अंग अंगन देव तिहरे लूटीए.
साथ में राखिए नाथ उन्हें हम हाथ में because चाहती चार चुरिए..

प्यारे

बचपन की बात है जब मैं because खरीदारी करने बाजार जाती माँ के साथ, बाजार जिद् करके चली जाती तो, विभिन्न बिसात- खानों में सजी चूडियाँ देखकर मचल जाती थी व माँ से चूडियाँ दिलवाने की जिद करती,और माँ भी ये सोचकर दिला देतीं,   की चलो अब  ये खरीदारी करने तक मेरा दिमाग नहीं चाटेगी!

लेकिन मैं कच्ची गोली थोडे़ न खेलती थी. घर आ के फिर शुरू हो जाती थी! तब माँ मुझे बहलाने के लिए गाँव का because जिक्र करते हुए  बताती थी कि कैसे विवाहोत्सव से पूर्व गाँव  में (बेडि़न पहनाती है पहाड़ में चूडियाँ) मनिहारिन की आवाज़ “खोलों”  में सुनाई देने लग जाती थी! लो चूड़ियाँ लाल, हरी, पीली, नीली गृह बनिताओं, और ग्राम वधुओं और बड़ी-बूढ़ियों के कानों में भी यह ध्वनि गूँज उठती थी , और वे सब श्रंगार मग्न हो, (बेडि़न) मनिहारिन को घेर कर,  चौक में  एकत्र होकर बैठ जाती थी… !

प्यारे

वे कहती  थीं कि तब because मनिहारिन भी हँस-हँस कर दो चूड़ियाँ आशीष की अधिक  पहनाती थीं और वधुएँ, सास, जिठानी के चरणस्पर्श करती थी और आशीर्वाद पाती थी, सदा सुहागिन रहो, फूलो, फलो..! “

प्यारे

हमारी संस्कृति  में प्रत्येक पर्व because एवं शुभ कार्य से पूर्व चूड़ियों को प्रधानता दी जाती है. मनिहारिन विभिन्न प्रकार की चूड़ियाँ पहनाकर, वधुएँ रंग-बिरंगी चूड़ियाँ पहनकर और बड़ी-बूढ़ियाँ आशीर्वाद देकर प्रसन्न होती हैं. चारों ओर मधुर झंकार और चूड़ियों की खनकार सुनाई देती है. विवाहित नारियों के लिए भारत के कोने-कोने में चूड़ियों का विशेष महत्व है!

प्यारे

महाभारत में शंख की because चूड़ियों का उल्लेख है. मेघदूत में यक्षप्रिया पालित मयूरों को अपनी चूड़ियों की मधुर खनकार पर नचाती हैं. कादंबरी में …सरस्वती की शंख की चूड़ियों का वर्णन है और नारियों की रत्नजटित चूड़ियाँ भी प्राप्त होती हैं. शिशुपाल-वध में भी शंख की चूड़ियों because का उल्लेख है. मुनि-कन्या शकुंतला वन में रहकर भी कमलनाल से अपनी कलाइयों को सुसज्जित करती हैं.

प्यारे

भारत के प्रागैतिहासिक काल because की नारी मूर्तियाँ भी कराभरणों से अलंकृत हैं. यह मोहनजोदड़ो एवं हड़प्पा से प्राप्त वसुओं से सिद्ध होता है. because उज्जैन, अमरावती और मथुरा के उत्खनन से प्राप्त नारी मूर्तियों से ज्ञात होता है कि उनके करों के अलंकार सोने व चाँदी के कंगन होते थे.

प्यारे

मौर्य, शुंग और सातवाहन काल में भारतीय महिलाएँ दोनों हाथों में बहुत-बहुत चूड़ियाँ धारण करती थीं. ये सोने-चाँदी की धातु से निर्मित होती थीं. उनमें कलात्मक ढंग से कटाव भी होते थे.because साँची से प्राप्त नारी मूर्तियों के हाथों में चूड़ियाँ हैं. कुषाण काल की महिलाएँ अनेक चूड़ियाँ पहनती थीं. मथुरा से प्राप्त नारी मूर्तियों में घुंडीदार कड़े और महीन चूड़ियाँ प्राप्त होती हैं. गुप्तकालीन प्राप्त नारी-मूर्तियों के हाथों में तीन-चार चूड़ियाँ हैं. अजंता से प्राप्त नर्तकी के चित्र में अधिक चूड़ियाँ सुशोभित हैं. खजुराहो की नायिका के दोनों हाथों में रत्नजटित दो-दो चूड़ियाँ हैं. because लक्ष्मण मंदिर की नारी मूर्ति बीच में पाँच चूड़ियाँ पहने हुए हैं. गांधार शैली की तक्षशिला से प्राप्त मूर्तियाँ कड़े और चूड़ियों से युक्त हैं. नालंदा से प्राप्त नारी-मूर्ति के हाथ पाँच चूड़ियों से सुशोभित हैं!

प्यारे

रामायण काल के …हस्ताभरण मणि-मुक्ताओं से सुसज्जित थे. महाभारत में शंख की चूड़ियों का उल्लेख है. मेघदूत में यक्षप्रिया पालित मयूरों को अपनी चूड़ियों की मधुर खनकार पर because नचाती हैं. कादंबरी में …सरस्वती की शंख की चूड़ियों का वर्णन है और नारियों की रत्नजटित चूड़ियाँ भी प्राप्त होती हैं. शिशुपाल-वध में भी शंख की चूड़ियों का उल्लेख है. मुनि-कन्या शकुंतला वन में रहकर भी कमलनाल से अपनी कलाइयों को because सुसज्जित करती हैं. सिद्ध हेमशब्दानुशासन में काँच की चूड़ियों का वर्णन विरह के समय किया गया है-

प्यारे

जिसके एक श्लोक का अर्थ है कि, because विरहिणी बाला कपोल पर हथेली धरे बैठी है…गाल से सटी चूड़ियाँ उत्तप्त साँसों से तप्त होकर आँसुओं के संसर्ग में आते ही टूट जाती है. ये टूटनेवाली चूड़ियाँ काँच की ही हो सकती हैं!

प्यारे

नारियों की चूड़ियाँ धान because कूटते समय कर्णप्रिय और मधुर झनकार कराती हैं. गीत अति आनंददायक प्रतीत होते हैं. हेमचंद ने अपभ्रंश व्याकरण में अनेक उदाहरण प्रस्तुत किए गए हैं जिनमें चूड़ी का उल्लेख स्पष्ट सुंदर और सर्वप्रथम किया गया है. उन्होंने ‘वलय’ because और ‘चूड्डिलऊ’ दोनों ही शब्दों के प्रयोग किए हैं जो अत्यंत सार्थक हैं और साथ ही विषाद एवं हर्ष के मिश्रित सजीव चित्रण भी.

प्यारे

नारियों की चूड़ियाँ धान कूटते समय because कर्णप्रिय और मधुर झनकार कराती हैं. गीत अति आनंददायक प्रतीत होते हैं. हेमचंद ने अपभ्रंश व्याकरण में अनेक उदाहरण प्रस्तुत किए गए हैं जिनमें चूड़ी का उल्लेख स्पष्ट सुंदर और सर्वप्रथम किया गया है. उन्होंने ‘वलय’ because और ‘चूड्डिलऊ’ दोनों ही शब्दों के प्रयोग किए हैं जो अत्यंत सार्थक हैं और साथ ही विषाद एवं हर्ष के मिश्रित सजीव चित्रण भी. ‘वलय’ का सुंदर प्रयोग देखिए-

प्यारे

वायसु उड्डावंति अए पिउ विहउ सहसत्ति.
अद्धा वलया महिहि गय अद्धा फूटि तड़त्ति..

अर्थात कौवे को उड़ाती हुई विरहिणीbecause ने सहसा प्रिय को देखा. इतने में उसकी आधी चूड़ियाँ विरह-कृशता से ढीली होने के कारण पृथ्वी पर गिर गई और प्रिय को देखने से जो हर्ष हुआ, उसके कारण कृशता जाती रही और आधी चूड़ियाँ कड़ी होकर तड़-तड़ टूट गईं.

प्यारे

चूड्डल्लउ चुण्णी होइ अए मुद्धि कवेलि निहितउ.
सासा सनल जाल पलक्किड़ बाहर सलिल संसितउ.

अर्थात हे मुग्धे! तेरी चूड़ियाँ गरम because साँसों की आग से तपकर और आँसुओं की धारा से भीग कर स्वयं ही टूट रही हैं.

सोमेश्वर कृत ‘मानसोल्लास’ में स्वर्ण-निर्मित,because रत्न, मुक्ता-माणिक्य से जटित ‘चूड़क’ शब्द का उल्लेख है. ‘वर्णरत्नाकर’ में चुलि (चूली) शब्द सोने-चाँदी की चूड़ियों के लिए प्रयुक्त किया गया है.because यह ‘चुलि’ शब्द ही प्राकृत अपभ्रंश के ‘चूड़’ का विकसित रूप है. ‘सभाशृंगार’ में भी चूड़ी का उल्लेख है. ‘निंबार्क’ संप्रदाय के प्रसिद्ध ग्रंथ ‘महावाणी’ because में पोइंची के साथ चूरा-चूरी का वर्णन आया है-

कबहू बाहु निहारि बारिके बाजूबंध सुधारै जू.

प्यारे

कबहुंक चूरा-चूरी पहुँची हैकरि है रस सारै जू..

पंद्रहवीं शताब्दी के प्रारंभ में श्री राजशेखर सूरि ने because ‘नेमी नाथ फागु’ में बाहु के शृंगार में ‘चूड़िय’ का उल्लेख किया है-

कंचन कंकण चूड़िय बाहू शृंगार.’

प्यारे

मध्यकाल में भारतीय नारियों के सौभाग्यपूर्ण because श्रंगार के रूप में चूड़ियों की उनके विभिन्न प्रकार से रसमय चर्चा की गई है. सूरदास ने चार-चारर के जोड़े के रूप में सुंदर वर्णन किया है-

‘डारनि चार-चार चूरी बिराजति.’ because परमानंद सागर में चूड़ियों के साथ गजरा और पहोंची का प्रयोग दृष्टव्य है- नवग्रह गजरा जगमगै नव पाहौंची चुरियन आगे”

प्यारे

(मंजू काला मूलतः उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल से ताल्लुक रखती हैं. इनका बचपन प्रकृति के आंगन में गुजरा. पिता और पति दोनों महकमा-ए-जंगलात से जुड़े होने के कारण,because पेड़—पौधों, पशु—पक्षियों में आपकी गहन रूची है. आप हिंदी एवं अंग्रेजी दोनों भाषाओं में लेखन करती हैं. आप ओडिसी की नृतयांगना होने के साथ रेडियो-टेलीविजन की वार्ताकार भी हैं. लोकगंगा पत्रिका की संयुक्त संपादक होने के साथ—साथ आप फूड ब्लागर, बर्ड लोरर, टी-टेलर, बच्चों की स्टोरी टेलर, ट्रेकर भी हैं. नेचर फोटोग्राफी में आपकी खासी दिलचस्‍पी और उस दायित्व को बखूबी निभा रही हैं. आपका लेखन मुख्‍यत: भारत की संस्कृति, कला, खान-पान, लोकगाथाओं, रिति-रिवाजों पर केंद्रित है.)

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *