Home Posts tagged श्रीनगर गढ़वाल
संस्मरण

अपनेपन की मिठास कंडारी बंधुओं का ‘कंडारी टी स्टाल’

डॉ. अरुण कुकसाल चर्चित पत्रकार रवीश कुमार ने अपनी किताब ‘इ़श्क में शह़र होना’ में दिल से सटीक बात कही कि ‘’मानुषों को इश्क आपस में ही नहीं वरन किसी जगह से भी हो जाता है. और उस जगह के किन्हीं विशेष कोनों से तो बे-इंतहा इश्क होता है. क्योंकि बीते इश्क की कही-अनकही बातें […]