April 11, 2021
Home Posts tagged रव्वा-रो
संस्मरण

चौमासेक गाड़ जैसी…

मेरे हिस्से और पहाड़ के किस्से भाग—29 प्रकाश उप्रेती आज बात- ‘सडुक’ (सड़क) और ‘गाड़’ (नदी) की. हमारा गाँव न सड़क और न ही नदी के किनारे है. सड़क और नदी से मिलने के मौके तब ही मिलते थे जब हम दुकान, ‘ताहे होअ बहाने'(नदी के करीब के खेतों में हल चलाने) और ‘मकोट (नानी