December 6, 2020
Home Posts tagged बीजेपी
पुस्तक समीक्षा

राजनैतिक पाठ में काश और कसक के बीच

प्रकाश उप्रेती बहुत दिनों से लंबित ‘विजय त्रिवेदी’ becauseकी किताब ‘बीजेपी कल, आज और कल’ को आखिर पढ़ लिया. इधर के दो दिन किताब को पचाने में लगे और अब उगल रहा हूँ. बीजेपी दस अध्यायों में विभाजित यह किताब ”1 मार्च 2019. रात के 9 बजकर 20 मिनट. अटारी-वाघा-बॉर्डर
समसामयिक

राजनीति में अदला बदली

भाग—2 डॉ. रुद्रेश नारायण मिश्र  राजनीति में परिवर्तन आंतरिक अंतर्विरोध के कारण भी होता है. यह अंतर्विरोध पार्टी विशेष कम होकर व्यक्तिगत रूप में ज्यादा दिखता है, जब एक प्रभावशाली नेता अपनी ही पार्टी से संबंध विच्छेद कर दूसरी पार्टी में शामिल हो जाता है. उस वक्त नेता के समर्थक जितने भी सांसद/विधायक होते हैं, […]