Home Posts tagged पशुपालन
खेती-बाड़ी

पहाड़ की कृषि आर्थिकी को संवार सकता है मंडुआ

चन्द्रशेखर तिवारी उत्तराखण्ड में पृथक राज्य की मांग के लिए जब व्यापक जन-आंदोलन चल रहा था तब उस समय यह नारा सर्वाधिक चर्चित रहा था – ’मंडुआ बाड़ी खायंगे उत्तराखण्ड राज्य बनायेंगे’. because स्थानीय लोगों के अथक संघर्ष व शहादत से अलग पर्वतीय राज्य तो हासिल हुआ परन्तु विडम्बना यह रही कि
उत्तराखंड हलचल

पलायन  ‘व्यक्तिजनित’ नहीं ‘नीतिजनित’ है

भाग-एक पहले कृषि भूमि तो बचाइये! चारु तिवारी  विश्वव्यापी कोरोना संकट के चलते पूरे देश में लॉक डाउन है. अभी इसे सामान्य होने में  समय लगेगा. इसके चलते सामान्य जन जीवन प्रभावित हुआ है. देश में नागरिकों  का एक बड़ा तबका है जो अपनी रोटी रोजगार के लिए देश के महानगरों या देश से बाहर […]
साहित्‍य-संस्कृति

पिठाड़ी—पिदें की बाकर्या अर बाकर्यों कु त्यार

लोक पर्व दिनेश रावत वर्ष का एक दिन! जब लोक आटे की बकरियाँ बनाते हैं. उन्हें चारा—पत्ती चुंगाते हैं. पूजा करते हैं. धूप—दीप दिखाते हैं. गंध—अक्षत, पत्र—पुष्ठ चढ़ाते हैं. रोली बाँधते हैं. टीका लगाते हैं. अंत में इनकी पूजा—बलि देकर आराध्य देवी—देवताओं को प्रसन्न करते हैं. त्यौहार मनाते हैं, जिसे ‘बाकर्या त्यार’ तथा संक्रांति जिस […]