घुल्यास की दुनिया

घुल्यास की दुनिया

मेरे हिस्से और पहाड़ के किस्से भाग—28 प्रकाश उप्रेती आज बात- ‘घुल्यास’ की. घुल्यास मतलब एक ऐसी लकड़ी जो पहाड़ की जिंदगी में किसी बड़े औजार से कम नहीं थी. लम्बी और आगे से मुड़ी हुई यह लकड़ी खेत से जंगल तक हर काम में आगे रहती थी. बगीचे से आम, माल्टा, और अमरूद की […]

Read More