Home Posts tagged घासीराम कोतवाल
स्मृति-शेष

कौन कहता है मोहन उप्रेती मर गया है!

लोक के चितेरे मोहन उप्रेती की जयंती (17 फरवरी, 1928) पर विशेष चारु तिवारी उस शाम मैं गुजर रहा था उद्दा की दुकान के सामने से, अचानक दुकान की सबेली में खड़े मोहन ने आवाज दी- ‘कहां जा रहा है ब्रजेन्द्र? यहां तो आ.’ क्या है यार? because घूमने भी नहीं देगा.’ और मैं खीज […]