Tag: कांग्रेस

कांग्रेस सेवादल कार्यकारिणी का ऐलान, इनको मिली जगह

कांग्रेस सेवादल कार्यकारिणी का ऐलान, इनको मिली जगह

उत्तराखंड हलचल
हरिद्वार: उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष करण महारा, प्रदेश प्रभारी मैडम प्यारी जान और प्रदेश कांग्रेस सेवा दल अध्यक्ष हेमा पुरोहित के निर्देशानुसार हरिद्वार महानगर कांग्रेस सेवादल की 33 सदस्यीय कार्यकारिणी घोषित कर दी गई है। सेवादल महानगर अध्यक्ष अश्विन कौशिक को को बनाया गया है। उनको प्रदेश अध्यक्ष समेत अन्य नेताओं और कार्यकर्ताओं ने बधाई दी है। इस कार्यकारिणी में सोशल मीडिया प्रभारी समेत कई नए युवाओं को भी मौका दिया है। कार्यकारिणी की लिस्ट को जारी करते हुए सेवादल प्रदेश अध्यक्ष हेमा पुरोहित ने कहा की इस कार्यकारिणी में समाज के हर वर्ग एवं आयु के कार्यकर्ताओं को शामिल कर सेवादल को नई ऊर्जा देने का कार्य महानगर अध्यक्ष अश्विन कौशिक द्वारा किया गया है। जिसका परिणाम आगामी चुनावों में अवश्यदे खने को मिलेगा। बता दें कि अश्विन कौशिक एक ऑटोमोटिव इंजीनियर हैं और हरिद्वार के तीर्थ पुरोहित सम...
बागेश्वर उपचुनाव : 7 राउंड की काउंटिंग पूरी, BJP को 1542 वोटों की बढ़त

बागेश्वर उपचुनाव : 7 राउंड की काउंटिंग पूरी, BJP को 1542 वोटों की बढ़त

बागेश्‍वर
बागेश्वर: बागेश्वर उपचुनाव के लिए वोटों की गिनती जारी है। मतगणना के दौरान जहां कांग्रेस प्रत्याशी बसंत कुमार ने शुरूआत बढ़ती बनाई। वहीं, अब भाजपा प्रत्याशी पार्वती दास को 1500 से अधिक वोटों की बढ़त मिल चुकी है। अब देखना होगा कि कांग्रेस वापसी कर पाती है या फिर भाजपा की यह बढ़त और बढ़कर उसे जीत की दहलीज तक ले जाती है। पहला चरण  बीजेपी       पार्वती दास             2191 कांग्रेस       बसंत कुमार          2945 यूकेडी         अर्जुन देव              52 एसपी          भगवत प्रसाद        27 यूपीपी         भागवत कोहली    10 दूसरा चरण  बीजेपी       पार्वती दास             4359 कांग्रेस       बसंत कुमार          4554 यूकेडी         अर्जुन देव                106 एसपी          भगवत प्रसाद           72 यूपीपी         भागवत कोहली       28 नोटा                                          155 तीसरा...
राजनीति में अदला बदली

राजनीति में अदला बदली

समसामयिक
भाग—2 डॉ. रुद्रेश नारायण मिश्र  राजनीति में परिवर्तन आंतरिक अंतर्विरोध के कारण भी होता है. यह अंतर्विरोध पार्टी विशेष कम होकर व्यक्तिगत रूप में ज्यादा दिखता है, जब एक प्रभावशाली नेता अपनी ही पार्टी से संबंध विच्छेद कर दूसरी पार्टी में शामिल हो जाता है. उस वक्त नेता के समर्थक जितने भी सांसद/विधायक होते हैं, वह भी विरोधी हो जाते हैं. ऐसे में राजनीति की परिवर्तनशील प्रक्रिया चरित्रहीन हो जाता है. जिससे स्थिति अस्थिर हो जाती है और यह अस्थिरता राजनीति के उन सवालों को खड़ा करता है, जिसे देखने की कोशिश कभी संवैधानिक रूप में हुई ही नहीं. इसके कई उदाहरण अलग-अलग राज्यों के राजनीतिक उतार-चढ़ाव में मिल जाता है. इसलिए जिस राजनीति में आत्ममंथन की जरूरत है, कारणों की समीक्षा की जरूरत है, वहां सिर्फ राजनीतिक आलोचनाओं के अलावा कुछ नहीं है. आरोप-प्रत्यारोप के बीच राजनीतिक नैतिकता खत्म होती नजर ...