October 26, 2020
Home Posts tagged अंतर्देशीय
संस्मरण

एक दौर ऐसा भी था- गुजरे जमाने की चिट्ठी-पत्री का

भुवन चन्द्र पन्त गुजरे जमाने के साथ ही कई रवायतें अतीत के गर्भ में दफन हो गयी,  इन्हीं में एक है- चिट्ठी-पत्री. एक समय ऐसा भी था कि गांव में पोस्टमैंन आते ही लोगों की निगाहें उस पर टिक जाती कि परदेश में रह रहे बच्चों अथवा रिश्तेदारों की कुशल क्षेम वाला पत्र पोस्टमैन ला […]