उत्तरकाशी

हाथी स्वांग के साथ नौ दिवसीय पांडव मंडाण का समापन

अंतिम दिवस पर पांडव मंडाण के साथ ही हाथी नृत्य कर किया समापन

  • नीरज उत्तराखंडी

विकासखण्ड के कमल सिराईं पट्टी के करड़ा गांव में नौ दिवसीय पांडव नवरात्रों का सोमबार सांय को पांडव मंडाण लगाकर हाथी स्वांग के साथ पांडव नवरात्रों का पूजा अर्चना के because साथ समापन किया गया. मंगशीर की दीपावली के दूसरे दिन बलिराज से सुरु हुए पांडव नवरात्रों का सोमबार देर सांय तक चले हाथी स्वांग, पांडव मंडाण व हवन पूजन कर गांव की सुख, समृद्धि की मंगल कामनाओं के साथ समापन किया गया.

ज्योतिष

बताते चले कि रवांई घाटी के नौगांव व पुरोला विकासखण्ड में मुख्यतः सभी गांवों में थात पूजन के साथ साथ पांडव नवरात्रों की भी एक धार्मिक व अनूठी लोक परम्परा सदियों से चली because आ रही है. क्षेत्र में लगभग सभी गांवों में मुख्यतः पांडव नवरात्रों का आयोजन मंगशीर माह में होने वाली बग्वाल व देवलांग पर्व के बाद बलिराज के दिन से शुरू किए जाते हैं जो लगातार नौ दिनों तक चलता है,आठवें दिन यमुना स्नान कर रात्रि भर जागरण किया जाता है पांडव मंडाण के साथ साथ पारम्परिक लोक गीत लगाकर ग्रामीण पांडव देवताओं से खुशहाली की मन्नतें मांगते हैं.

ज्योतिष

सोमवार को क्षेत्र के करड़ा गांव में भी नौ दिनों तक चले पांडव नवरात्रों का पांडव मंडाण व हाथी स्वांग के साथ ही भंडारे का आयोजन कर समापन किया गया. गांव के स्याणा becauseजगमोहन रावत,प्रधान अंकित रावत,पंडित शांति राम रतूड़ी आदि ने कहा कि गांव में यह परंपरा सदियों से चली आ रही है हर तीसरे वर्ष पांडव नवरात्र किये जाते हैं जो मंगशीर बग्वाल के दूसरे दिन सुरु होते हैं तथा नवें दिन मंडाण के साथ ही हाथी स्वांग बनाकर पांडव पशवा मंडाण लगाते हैं और इसी के साथ गांव की सुख समृद्धि के लिए हवन पूजन कर पांडव नवरात्रों का समापन होता है.

ज्योतिष

उन्होंने कहा कि खाती, भीम, नकुल, द्रोपदी आदि पांडव पशवाओं के साथ साथ अन्य देवताओं के पशवा भी अवतरित होकर मंडाण लगाते हैं व ग्रामीणों को सुख समृद्धि का because आशीर्वाद देते हैं. समापन दिवस पर गांव के धीरपाल रावत, विनोद रतूड़ी, मनोज रतूड़ी, जबर सिंह भंडारी, रामप्रकाश रतूड़ी, प्रताप रावत, सरदार सिंह, जगत राम, प्रकाश लाल, दीपक कुमार आदि सैकड़ों ग्रामीण थे.

Share this:

Himantar Uttarakhand

हिमालय की धरोहर को समेटने का लघु प्रयास

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *