November 27, 2020
जल विज्ञान

“बृहत्संहिता में जलाशय निर्माण की पारम्परिक तकनीक”

भारत की जल संस्कृति-22

  • डॉ. मोहन चंद तिवारी

पिछले लेखों में बताया गया है कि एक पर्यावरणवादी जलवैज्ञानिक के रूप में आचार्य वराहमिहिर द्वारा किस प्रकार से वृक्ष-वनस्पतियों की निशानदेही करते हुए, जलाशय के उत्खनन because स्थानों को चिह्नित करने के वैज्ञानिक तरीके आविष्कृत किए गए और उत्खनन के दौरान भूमिगत जल को ऊपर उठाने वाले जीवजंतुओं के बारे में भी उनके द्वारा महत्त्वपूर्ण जानकारियां दी गईं.

जलविज्ञान

जलविज्ञान के एक प्रायोगिक और प्रोफेशनल उत्खननकर्त्ता के रूप में वराहमिहिर ने भूगर्भीय कठोर शिलाओं के भेदन की जिन रासायनिक विधियों का निरूपण किया है,वे वर्त्तमान जलसंकट के because इस दौर में परम्परागत जलस्रोतों के लुप्त होने की प्रक्रिया और उनको पुनर्जीवित करने की दृष्टि से भी बहुत महत्त्वपूर्ण हैं.यानी हम जब इन नौलों और जल संस्थानों को पुनर्जीवित करने का संकल्प ले रहे हैं तो हमारे लिए यह जानना भी बहुत आवश्यक है कि हम इन जलाशयों के निर्माण और उनके संरक्षण की पुरातन परंपरागत तकनीक को समझें और तदनुरूप उसका समाधान भी खोजें.इसी प्रयोजन से इस लेख में विशेष रूप से परम्परागत जलाशयों की निर्माण प्रक्रिया और उस अवसर पर किए जाने वाले कार्यों और उत्खनन सम्बन्धी औजारों और उपकरणों के सम्बन्ध में जानकारी दी गई है.

 

जलाशय उत्खनन के औजार

वराहमिहिर की ‘बृहत्संहिता’ में उन यंत्रों और उपकरणों की धार को तेज करने का विशेष विवरण मिलता है,जिनके द्वारा जलाशय को खोदने का कार्य किया जाता था.बृहत्संहिता के ये उपकरण सम्बन्धी उल्लेख इसलिए भी बहुत उपयोगी हो जाते हैं कि वर्त्तमान समय में पुरातत्त्व विभाग के द्वारा जैसे कुछ खास उपकरणों की सहायता से because बहुत सावधानी के साथ किसी खास चिह्नित स्थान का उत्खनन किया जाता है,उसी प्रकार से कूप उत्खनन के दौरान भी तेज और धारदार उपकरणों का प्रयोग करते हुए बहुत सावधानी बरती जाती थी ताकि भूगर्भीय जलनाड़ियों पर प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़े. केवल उसी चट्टान को पैने और तेजधार हथियार से तोड़ा जाता था जो जल का अवरोधक होता था और पार्श्ववर्ति अन्य जल शिलाओं को छेड़ा नहीं जाता था.

जलविज्ञान

जलाशय उत्खनन का यह कार्य उस समय बहुत वैज्ञानिक यानी ‘प्रोफेशनल’ तरीके से किया जाता था जब आज की तरह बिजली से चलने वाली मशीनें नहीं होती थीं. इस जलाशय because उत्खनन के अवसर पर जो छैनीं, हथौड़े, कुदाल, तलवार आदि धारदार हथियारों का प्रयोग किया जाता था उनकी धार तेज करने के उपाय भी बृहत्संहिता में बताए गए हैं, ताकि जलाशय या कूप उत्खनन के समय कठोर तथा न टूटने वाले विशाल चट्टानों को तेज धारदार हथियारों द्वारा आसानी से तोड़ा जा सके. इस सम्बंध में वराहमिहिर ने भूमिगत कठोर शिलाओं और चट्टानों को तोड़ने वाले उपकरणों को मजबूत और धारदार बनाने के लिए जो अनेक प्रकार के रासायनिक फार्मूले बताए हैं,वे इस प्रकार हैं-

जलविज्ञान

1.  हुडुमेष की श्रृंगभस्म को कबूतर because तथा चूहे की विष्ठा में पीस कर लगाने और तेल से स्निग्ध पाषाण भेदक यंत्र ‘टंक’ पर पान देने से पत्थर तोड़ने वाले औजार की धार तेज हो जाती है-

“आर्कं पयो हुडुविषाणमषीसमेतं
पारावतऽखुशकृता च युतः प्रलेपः.
टङ्कस्य तैलमथितस्य ततोऽस्य पानं
पश्चात्शितस्य न शिलासु भवेद्विघातः..”
-बृहत्संहिता, 54.116

2. केले के खार को छाछ because में मिलाए गए रासायनिक घोल का लेप लगाने से पाषाण भेदी यंत्र-उपकरणों की धार को तेज और मजबूत किया जा सकता है-

“क्षारे कदल्या मथितेन युक्ते
दिनोषिते पायितमायसं यत्.
सम्यक् शितं चाश्मनि नैति भङ्गं न चान्यलौहेष्वपि तस्य कौण्ठ्यम्॥”
-बृहत्संहिता, 54.117

नौलों की चिनाई और काष्ठबन्धन

वापी की मजबूती के because लिए यह आवश्यक माना गया था कि उसके चारों ओर पत्थर-ईंट से बनी दीवारों की ऊपर तक चिनाई की जाए और उसके किनारों को मजबूत काष्ठ खण्डों से बांध दिया जाए. वापी के किनारे की मिट्टी की प्रत्येक तह को हाथी,घोड़ों आदि पशुओं से रौंदवा दिया जाता था ताकि जल के टकराने से उसके किनारे टूटें नहीं –

“तां चेदिच्छति सारदारुभि-
रपां सम्पातं आवारयेत्.
पाषाणऽदिभिरेव वा प्रतिचयं
क्षुण्णं द्विपार्श्वाऽदिभिः..
-बृहत्संहिता, 54.118

दीवारों की चिनाई का प्लास्टर

प्राचीन काल में दीवार की चिनाई करने, प्रासाद, कूप,आदि के निर्माण हेतु रासायनिक विधि से जो मसाला या प्लास्टर तैयार किया जाता था उसे ‘वज्रलेप’ की संज्ञा दी गई है. because वराहमिहिर की ‘बृहत्संहिता’ और राजा भोज के ‘समराङ्गणधार’ तथा ‘मयमतम्’ नामक ग्रन्थों में हमें भवन निर्माण और जलाशय निर्माण करते समय पत्थर और ईंटों को जोड़ने वाले ऐसे मजबूत और प्रभावशाली लेपों अथवा प्लास्टरों के प्रयोग होने का वर्णन मिलता है. इस सम्बंध में वराहमिहिर ने अपने ग्रन्थ ‘बृहत्संहिता’ के 57वें अध्याय में वज्रलेप बनाने की चार प्रकार की रासायनिक विधियां बताई हैं,उनमें से एक महत्त्वपूर्ण विधि का उल्लेख यहां अवश्य करना चाहेंगे, जिसे कूप आदि की दीवारों की चिनाई के लिए विशेष रूप से प्रयोग में लाया जाता था-

जलविज्ञान

“आमं तिन्दुकं आमं कपित्थकं
पुष्पं अपि च becauseशाल्मल्याः.
बीजानि becauseशल्लकीनां
धन्वनवल्को becauseवचा चैति..
एतैः becauseसलिलद्रोणः क्वाथयि-
तव्योsbecauseअष्टभागशेषश्च.
अवतार्योsbecauseअस्य च कल्को
द्रव्यैरेतैः becauseसमनुयोज्यः..
श्रीवासकरसगुग्गुलुभल्लातक becauseकुन्दुरूकसर्जरसैः.
अतसीबिल्वैश्च becauseयुतःकल्कोsयं
वज्रलेपाख्यः..because
प्रासादहर्म्यवलभीलिङ्ग-because
प्रतिमासु becauseकुड्यकूपेषु.
सन्तप्तो becauseदातव्यो
वर्षसहस्रायुतस्थायी..”
– बृहत्संहिता, 57.1-4

जलविज्ञान

अर्थात् तेन्दु के कच्चे फल,कैथ के कच्चे फल, सेमर के फूल,शल्लकी वृक्ष के बीज, धन्वन वृक्ष की छाल, वच, इन सबसे एक द्रोण जल में डालकर सबसे पहले काढ़ा बना because लेना चाहिए. जब यह अष्टमांश रह जाय तब उसको आंच से उतार लेना चाहिए.उसके बाद उस काढ़े में श्रीवासक वृक्ष का गोंद,अलसी, बेल की गिरी, इन सबको पीसकर डाल देना चाहिए इस प्रकार यह ‘वज्रलेप’ नामक काढ़ा या प्लास्टर तैयार हो जाएगा.इस गर्म ‘वज्रलेप’ (प्लास्टर) का प्रयोग यदि प्रासाद,देवमन्दिर,दीवार और कूपादि के निर्माण में किया जाए तो यह लेप हजार वर्षों तक नहीं छूटता है.

जलविज्ञान

वराहमिहिर ने जलप्रबन्धन because और जलवितरण की प्रक्रिया को सुव्यवस्थित करने के प्रयोजन से जलाशय से जल निकासी हेतु पत्थरों से बनी पक्की नालियों के निर्माण का भी विधान किया है.नाली बनाने के बाद उसे लकड़ी के तख्तों से ढक दिया जाना चाहिए और ऊपर से उन तख्तों पर मिट्टी डालकर उन्हें अच्छी तरह से दबा देना चाहिए-

“द्वारं च नैर्वाहिकमेकदेशे
कार्यं शिलासं becauseचितवारिमार्गम्.
कोशस्थितं becauseनिर्विवरं कपाटं
कृत्वा because ततःपांसुभिरावपेत्तम्..”
-बृहत्संहिता,54.120

नौला परिसर में छायादार वृक्ष

एक पर्यावरणवादी जलवैज्ञानिक because के रूप में वराहमिहिर ने दीर्घकाल तक जल की उपलब्धि बनाए रखने के लिए जलाशय के तटों पर अनेक प्रकार के छायादार और फलदार वृक्षों को लगाने का भी विधान किया है ताकि भविष्य में कभी जलाशय सूखे नहीं और भूमिगत जल नाड़ियां सदैव सक्रिय रहें. जलाशय के किनारों पर लगाए जाने वाले वृक्ष हैं- अर्जुन, बड़, आम, पिलखन,कदम्ब‚ निचुल‚ जामुन‚ बेंत‚ नीम‚ कुरबक‚ ताल‚अशोक‚ महुआ‚मौलसिरी आदि-

“ककुभवटाम्रप्लक्षकदम्बैः
सनिचुलजम्बूवेतसनीपैः. becauseकुरबकतालाशोकमधूकै-
र्बकुलविमिश्रैश्चावृततीरम्.because.”
-बृहत्संहिता‚ 54-119

भूमिगत जलशुद्धि के उपाय

कूप‚बावड़ी,नौला आदि खोदने के because बाद उसमें से निकले भूमिगत जल को शुद्ध करना भी आवश्यक है.उसके लिए भी वराहमिहिर ने अनेक आयुर्वैदिक उपाय बताए हैं.अंजन‚ मोथा‚ खस‚ बड़ी तुरई‚आंवला‚ कतक इन सबका चूर्ण कूप, वापी या नौला में में डालने से कड़वा, खारा‚ प्रदूषित और बेस्वाद जल भी शुद्ध‚मीठा‚सुस्वादु तथा उत्तम गुणों से युक्त हो जाता है-

“अंजनमुस्तोशीरैः सराज- कोशातकामलकचूर्णैः.
कतकफलसमायुक्तैर्योगः
कूपे प्रदातव्यः..
“कलुषं कटुकंbecause लवणं विरसं
सलिलं यदि becauseवा शुभगन्धि भवेत्.
तदनेन becauseभवत्यमलं सुरसं
सुसुगन्धिगुणैरपरैश्चbecause युतम्..”
-बृहत्संहिता‚ 54.121-22

जलविज्ञान

भारतवर्ष में पुराण,धर्मशास्त्र आदि ग्रन्थों में नौला,वापी कूप, तालाब आदि के निर्माण के सम्बन्ध में जो परंपरागत और शास्त्रीय मान्यताएं रही हैं, उनसे आधुनिक जलविज्ञान के अध्येता और शोधकर्त्ता प्रायःअनभिज्ञ ही रहे हैं. because इसलिए यह मानना होगा कि प्राचीन नौलों,धारों और जलस्रोतों के लुप्त होने के साथ साथ आज भारतीय जलविज्ञान के हजारों वर्ष प्राचीन जलाशय उत्खनन और उनके निर्माण की तकनीक भी लुप्त होने के कगार पर है.इसलिए जब हम भारत के महान खगोलशास्त्री,भूविज्ञानी और जल वैज्ञानिक वराहमिहिर द्वारा प्रतिपादित परंपरागत जलविज्ञान के सिद्धांतों और मान्यताओं और उन जलाशयों के निर्माण सम्बन्धी तकनीक के बारे में चर्चा करते हैं तो वह परम्परागत जलस्रोतों के संरक्षण और उनके पुनर्जीवित करने की ही बात है.

जलविज्ञान

आधुनिक जलवैज्ञानिक because और जल-अभियंता इन परंपरागत जलस्रोतों की रक्षा करने में इसलिए भी असमर्थ सिद्ध हो रहे हैं, क्योंकि उन्हें इन परंपरागत जलाशयों के उत्खनन और निर्माण तकनीक की पर्याप्त जानकारी नहीं है. आधुनिक जलवैज्ञानिकों द्वारा जलागम क्षेत्रों में किए गए सर्वेक्षण और शोधपरक आंकड़े वर्त्तमान जलसंकट की समस्याओं और उनके कारणों को समझने की दृष्टि से तो उपयोगी हो सकते हैं किन्तु इन सर्वेक्षणों से भूमिगत गिरते जलस्तर को रोकने में कोई मदद नहीं मिलती.

जलविज्ञान

आधुनिक जलवैज्ञानिक और जल-अभियंता इन परंपरागत जलस्रोतों की रक्षा करने में इसलिए भी असमर्थ सिद्ध हो रहे हैं, क्योंकि उन्हें इन परंपरागत जलाशयों के उत्खनन और निर्माण तकनीक because की पर्याप्त जानकारी नहीं है. आधुनिक जलवैज्ञानिकों द्वारा जलागम क्षेत्रों में किए गए सर्वेक्षण और शोधपरक आंकड़े वर्त्तमान जलसंकट की समस्याओं और उनके कारणों को समझने की दृष्टि से तो उपयोगी हो सकते हैं किन्तु इन सर्वेक्षणों से भूमिगत गिरते जलस्तर को रोकने में कोई मदद नहीं मिलती. उसके लिए भूगर्भीय जलविज्ञान की नाड़ियों को समझने की जरूरत है,जिस पर भारत के परम्परागत जलाशयों का समग्र जलविज्ञान आधारित है.

जलविज्ञान

आगामी लेख में पढ़िए- जलाशय निर्माण में वास्तु संरचना और ग्रह-नक्षत्रों की भूमिका 

(लेखक दिल्ली विश्वविद्यालय because के रामजस कॉलेज से एसोसिएट प्रोफेसर के पद से सेवानिवृत्त हैं. एवं विभिन्न पुरस्कार व सम्मानों से सम्मानित हैं. जिनमें 1994 में संस्कृत शिक्षक पुरस्कार’, 1986 में विद्या रत्न सम्मान’ और 1989 में उपराष्ट्रपति डा. शंकर दयाल शर्मा द्वारा आचार्यरत्न देशभूषण सम्मान’ से अलंकृत. साथ ही विभिन्न सामाजिक संगठनों से जुड़े हुए हैं और देश के तमाम पत्रपत्रिकाओं में दर्जनों लेख प्रकाशित.)

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *