September 28, 2020
शिक्षा

हिंदी का श्राद्ध अर्थात ‘हिंदी दिवस’  

हिन्‍दी दिवस (14 सितंबर) पर विशेष

  • प्रकाश उप्रेती

हर वर्ष की तरह आज फिर से हिंदी पर गर्व और विलाप का दिन आ ही गया है. हिंदी के मूर्धन्य विद्वानों को इस दिन कई जगह ‘जीमना’ होता है. मेरे एक शिक्षक कहा करते थे कि “14 सितंबर को हिंदी का श्राद्ध होता है और हम जैसे  हिंदी के पंडितों का यही दिन होता जब हम सुबह से लेकर शाम तक बुक रहते हैं”. कहते तो सही थे. because इन 67 वर्षों में हिंदी प्रेत ही बन चुकी है. तभी तो स्कूल इसकी पढाई कराने से डरते हैं और अभिभावक इस भाषा को पढ़ाने में संकोच करते हैं. सरकार ने इसके लिए खंडहर बना ही रखा है. अब और कैसे कोई भाषा प्रेत होगी.

because हिंदी का बूढ़ा और नौजवान विद्वान (वैसे तो हिंदी पट्टी का हर व्यक्ति अपने को हिंदी का विद्वान माने बैठा होता है) जिसको की विद्वान होने की मान्यता विश्वविद्यालयों में चलने वाले हिंदी के विभाग, राजेन्द्र यादव इन्हें ‘ज्ञान की कब्रगाह कहते थे’ और गमों-रंजिश में ढहते हिंदी के लेखक संगठन आदि से मार्का प्रमाण-पत्र मिल चुका होता है वो सभी पूरे वर्ष भर इसी एक दिन की आश में गुजार देते हैं. इसलिए यह प्रक्रिया सामान्य नहीं है.

अखबारों

हिंदी पर सेमिनार, संगोष्ठी, अखबारों के लंबे-लंबे संपादकीय और गंभीर मुद्रा में चिंतन व चिंता का आखिर यही एक दिन है. कैलेंडर की तारीख में हर साल यह दिन 14 सितंबर के रूप आता है और बृहत हिंदी समाज को चिंतनमय करके फिर अगले वर्ष के कैलंडर में लौट जाता है. यह आवागमन की प्रक्रिया इतनी भी आसान नहीं जितना लग रही है. because हिंदी का बूढ़ा और नौजवान विद्वान (वैसे तो हिंदी पट्टी का हर व्यक्ति अपने को हिंदी का विद्वान माने बैठा होता है) जिसको की विद्वान होने की मान्यता विश्वविद्यालयों में चलने वाले हिंदी के विभाग, राजेन्द्र यादव इन्हें ‘ज्ञान की कब्रगाह कहते थे’ और गमों-रंजिश में ढहते हिंदी के लेखक संगठन आदि से मार्का प्रमाण-पत्र मिल चुका होता है वो सभी पूरे वर्ष भर इसी एक दिन की आश में गुजार देते हैं. इसलिए यह प्रक्रिया सामान्य नहीं है.

संस्कार

अब सवाल उठता है कि क्या जन-जन में भाषा का संस्कार और उसके प्रति अभिरुचि एक दिन के जलसे से पैदा की जा सकती है या भाषा हर दिन के परिश्रम से गतिशील व जन सामान्य की अभिरुचि का हिस्सा बनती है? but अगर पहली बात को becauseही सही मान लिया जाए तो राष्ट्र भाषा प्रचार समिति वर्धा के प्रस्ताव पर 14 सितंबर 1953 से हर वर्ष सितंबर माह की 14 तारीख को हिन्दी दिवस के रूप में मनाए जाने के संकल्प के बाद हिंदी के विकास का कोई आंकलन है या फिर यह तारीख, मात्र रस्म अदायगी भर रह गई है. थोड़ा ठहर के सोचने की जरूरत है क्योंकि हिंदी आज भी ज्ञान और रोजगार की भाषा से ज्यादा मनोरंजन और उपभोक्ता की भाषा है. बड़ी–बड़ी कंपनियाँ और हिंदी सिनेमा इसका भरपूर उपयोग कर रहा है. उसके लिए भाषा बाय-प्रोडक्ट है.

प्रमाण

इस  बात का प्रमाण यह है कि हिंदी के विकास के नाम पर जो बात होती है वह सिनेमा और बाजार को केंद्र में रखकर ही होती है . हिंदी के विकास के नाम पर वह आँकड़े होते हैं जिनसे यह पता चलता है कि हिंदी फिल्मों को देखने के so लिए दुनिया के मुल्कों में कितनी संख्या में लोग हिंदी सीख रहे हैं या फिर भारत इतना बड़ा उपभोक्ता बाजार है कि बहुत सारी बहुराष्ट्रीय कंपनियों के मालिक अपने कर्मचारियों को हिंदी सीखने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं ताकि वे भारत के बाजार में आसानी से अपना उत्पाद भेज सकें. इसके अतिरिक्त हिंदी के विकास पर छाती फुलाने के लिए  और क्या है!

क्या आठ दशकों के ‘हिंदी दिवस’ या हिंदी पखवाड़े की कोई उपलब्धि देवकीनन्दन खत्री जैसी है? क्या इन 67 वर्षों में हम, हिंदी में ऐसा ज्ञान सृजित कर पाएँ हैं कि उसे पढ़ने और जानने के becauseलिए लोगों ने हिंदी सीखी हो! या कोई ऐसा गल्प ही रच डाला हो जिसको हम हिंदी की उपलब्धि कहें और दुनिया भी हिंदी को बाजार की भाषा के रूप में न देखकर ज्ञान की भाषा के रूप में देखे. but ऐसी कोई उपलब्धि तो मेरी नज़र में नहीं है.

देवकीनन्दन

क्या आठ दशकों के ‘हिंदी दिवस’ या हिंदी पखवाड़े की कोई उपलब्धि देवकीनन्दन खत्री जैसी है? क्या इन 67 वर्षों में हम, हिंदी में ऐसा ज्ञान सृजित कर पाएँ हैं कि उसे पढ़ने और जानने के becauseलिए लोगों ने हिंदी सीखी हो! या कोई ऐसा गल्प ही रच डाला हो जिसको हम हिंदी की उपलब्धि कहें और दुनिया भी हिंदी को बाजार की भाषा के रूप में न देखकर ज्ञान की भाषा के रूप में देखे. but ऐसी कोई उपलब्धि तो मेरी नज़र में नहीं है. हाँ, एक बात जरुर है कि हिंदी ‘हार्ड लैंड’ में 8 लाख बच्चे हिंदी में ही फ़ैल हो जाते हैं. हम फिर भी हिंदी दिवस पर गर्वोक्ति से भरे रहेंगे और रस्मी आयोजन सरकारी, गैर सरकारी दफ़्तरों में हिंदी का पखवाड़े में होंगे ? इस दौर में यह कारोबार ऑनलाइन में सिमट जाएगा.

भाषा

हिंदी दिवस की इस यात्रा में हिंदी जन-जन की भाषा या फिर ज्ञान व रोजगार की भाषा भले ही न बन पाई हो लेकिन अनुवाद की भाषा जरूर बन गई है. यह हिंदी दिवस की उपलब्धि है. चाहे तो राष्ट्रभाषा आयोग इस उपलब्धि पर गर्व कर सकता है और आने वाले 100 वर्षों तक इसी उपलब्धि के सहारे हिंदी दिवस और पखवाडा मना सकता है. because इसके साथ ही इधर के कुछ वर्षों में यह देखने को मिला है कि हिंदी के प्रचार-प्रसार के लिए बनी संस्थाएं हिंदी में ज्ञान निर्माण की प्रक्रिया में कुछ हद तक जुटी हैं लेकिन इसमें हिंदी दिवस और उस दिवस के अवसर पर सारगर्भित व गरिष्ठ व्याख्यान देने वाले विद्वानों की कोई भूमिका नहीं है. सरकार के हिंदी दिवस ने सिर्फ अनुवादक पैदा किए न की पाठक और भाषाई संस्कार से युक्त सामाजिक मनुष्य.

दिवस

हिंदी दिवस पर बात करते हुए हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि हिंदुस्तान किसी एक भाषा का नहीं बल्कि मातृ भाषाओं का देश है. यहाँ हर प्रांत की भाषा और उप-भाषाएँ हैं. becauseमैं जानबूझकर उन्हें बोली नहीं कह रहा हूँ क्योंकि वह व्याकरण शास्त्रियों के but लिए बोली हो सकती है लेकिन उसे बोलने के लिए वह मातृ भाषा है. भाषा की इन्हीं विविधताओं के कारण यह उक्ति भी प्रचलित हुई कि ‘कोस- कोस पर बदले पानी, चार कोस पर वाणी. इस वाणी को हिंदी की एक विराट सत्ता में समाहित नहीं किया जा सकता है.

भाषा

इस बार मंचों के मठाधीश हिंदी दिवस पर व्याख्यान दें तो वह हिंदी को हाथी और प्रांतीय भाषाओं को चींटी न समझे. सबको पाँव तले रोंदा नहीं जा सकता कोई सूंड पर भी चढ़ सकती है. so इसलिए हिंदी दिवस की सार्थकता और भाषा के सवाल पर नए तरह से विमर्श की आवश्यकता है. भाषा का वर्चस्ववाद कहीं से भी उपनिवेशवाद से कम खतरनाक नहीं है. हिंदी को इस वर्चस्ववाद से भी बचना होगा. तभी ज्ञान के नए आयाम और कला, साहित्य, संगीत का वैविध्य हिंदी से जुड़ पाएगा. इसी बात में हिंदी दिवस की सार्थकता को देखना चाहिए न की दुनिया के कितने लोग हिंदी बोल रहे हैं और कहाँ- कहाँ हिंदी पढ़ाई जा रही के भ्रामक आँकड़ों के संदर्भ में. इसी में हिंदी की समृद्धि भी है.

हिंदी

   (लेखक दिल्ली विश्वविद्यालय में असिस्टेंट प्रोफेसर हैं। पहाड़ के सवालों को लेकर मुखर रहते हैं।)

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *