हमास-इजरायल विवाद में नहीं किया जा सकता आंतकी संगठन का समर्थन

0
97
Prof Krishna Sharma, PG DAV College DU.
Prof Krishna Sharma, PG DAV College DU.
  • हिमांतर ब्यूरो, नई दिल्ली

दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रतिष्ठित पीजीडीएवी कॉलेज में “इज़रायल-हमास विवाद, इतिहास और समाधान” विषय पर विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया। इस आयोजन में वक्ता के रूप में रक्षा विशेषज्ञ कमर आगा और अंतरराष्ट्रीय विशेषज्ञ अतुल अनेजा ने विषय पर विस्तृत रूप से प्रकाश डाला। कॉलेज की प्राचार्य प्रो. कृष्णा शर्मा ने विषय प्रवर्तन करते हुए हमास द्वारा इज़रायल पर किए गए हमले को शांति विश्वभर में शांति के मूल्य पर दाग बताया। आगे उन्होंने कहा कि हमें शांति के लिए शक्ति का सही प्रयोग करना चाहिए।

अतुल अनेजा ने इस विवाद का कारण खाड़ी देशों और मध्य एशिया में हो रहे सत्ता परिवर्तन के संघर्ष को माना, साथ ही इस्लामिक जगत में नेतृत्व का भी यह एक संघर्ष है, जिसमें ईरान अपना वर्चस्व स्थापित करना चाहता है। इसी संदर्भ में इस विवाद को देखा जा सकता है।

वहीं कमर आगा ने अपनी बात रखते हुए कहा कि इसका कारण वैश्विक शक्तियों के बदलते स्वरूप, अमेरिका और चीन के बीच बढ़ता टकराव है। इसी टकराव के कारण यह घटना युद्ध का रूप लेती जा रही है।

कार्यक्रम में प्रो. अवनिजेश अवस्थी ने इस विषय को लेकर फैलाए जा रहे झूठ से बचने की बात कही। साथ हीं उन्होंने भारत सरकार और आम जनता का इज़रायल को नैतिक समर्थन का कारण भारत का अतीत में आतंकवाद के द्वारा पीड़ित होना बताया। राजनीतिक विवाद के कारण आतंकियों द्वारा मासूमों की जान लेना किसी भी स्थिति में ठीक नहीं माना जा सकता है।

साथ ही इन विवादों की आड़ में आतंकी घटना और आतंकवादी संगठन को समर्थन बिलकुल नहीं किया जाना चाहिए, यह स्पष्ट संदेश इस सेमिनार से निकाला है। इस ज्वलन्त विषय को लेकर विद्यार्थियों में बड़ी उत्सुकता देखने को मिली। कॉलेज के विद्यार्थियों ने वक्ताओं से विषय पर कई गंभीर सवाल पूछे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here