किस्से-कहानियां

दुर्गा मैडम

राजू पाण्डेय

दुर्गा मैडम का स्कूल में पहला दिन था, अब गाँव के प्राइमरी स्कूल में दो अध्यापक हो गये थे, दूसरे मासाब लोहाघाट से रोज बाइक में आते थे, दुर्गा मैडम मासाब को कह रही थी, because मासाब आप तो पुराने हो यहां मुझे गांव में ही कमरा दिला दीजिये कोई.

अरे मैडम! क्या आप भी, मैं रोज आता because हूँ लोहाघाट से बाइक में पीछे वाली सीट खाली रहती है आप आ जाना साथ में, वहां दिला दूँगा कमरा आपको, गांव में क्या रखा है?

ज्योतिष

अरे नहीं सर मुझे गांव ही अच्छा because लगता है रोज रोज की ये दौड़ नहीं होगी मुझसे, आप छुट्टी के बाद चलियेगा मेरे साथ कोई दे देगा एक कमरा.

कुछ नहीं रखा मैडम यहां बोर हो जाओगी because छुट्टी के बाद, वहां रौनक रहती है बहुत सारे स्टाफ के लोग रहते है, और एक से एक प्राइवेट स्कूल भी हैं वहां बच्चों को पढ़ाने के लिए.

नहीं सर मुझे आदत है गांव की, यहीं रहूँगी.

ज्योतिष

छुट्टी के बाद मासाब के साथ गांव में ग्राम प्रधान जी से मुलाकात हुई तो उन्होंने अपनी पत्नी को बुलाया और विचार विमर्श के बाद फैसला हुआ कि प्रधान जी के नये घर का एक कमरा because मैडम का आवास होगा, पार्वती (ग्राम प्रधान की पत्नी) मैडम को कमरा दिखाने ले गयी, उन्होंने एक नजर मैडम पर डाली, चमकदार आंखें, चेहरे में कुछ झुर्रियां, मोटे अनसुलझे बाल, न माथे में बिंदी न हाथ में चूड़ी और न ही माथे में सिंदूर.

ज्योतिष

पार्वती – यो देखो मैडम कमरा, एक जने के लिए मस्त हुआ (एक आदमी के लिए बहुत है).

दुर्गा मैडम – जगह बहुत है पर मेरे साथ दो बच्चें भी होंगें.

पार्वती – अरे सिबोसीब, क्या because हुआ बच्चों के पापा के साथ, (सिंदूर और बिंदी न देखकर पार्वती ने

अंदाजा लगा लिया because कि दुर्गा मैडम विधवा हैं), अभी तो आप छोटे ही दिख रहे ठहरे.

दुर्गा मैडम – अरे because नहीं नहीं जैसा आप सोच रही हो ऐसा कुछ नहीं है, मैंने अभी शादी नहीं कि है वो मेरे

ज्योतिष

भाई के बच्चें हैं जिनको because पढ़ाने के लिए मैं अपने साथ रखूँगी.

पार्वती – अरे ये कि because निकली गया मेरा मुख बठै, बुरा मत मानना हो.

दोनों के चेहरे में हल्की सी मुस्कान तैर गयी.

कुछ दिनों बाद मैडम अपने because साथ दोनों बच्चों को लेकर आ गयी. दोनों बच्चों का अपने ही स्कूल में एडमिशन करा दिया, एक दूसरी में और एक तीसरी में है.

ज्योतिष

जल्दी ही दुर्गा मैडम और पार्वती में दोस्ती हो गयी, पार्वती अपनी हर बात दुर्गा मैडम को बताती पर दुर्गा मैडम अभी अपने बारे में कम ही बात करती. पार्वती उसे अक्सर कुदेरने का because प्रयास करती पर दुर्गा मैडम मुस्कुराकर टाल देती.

इतवार का दिन था, घनघोर बारिश because हो रही थी, पार्वती ने गौत भात बनाये थे तो सोचा थोड़े गौत मैडम को भी दे आऊँ, दुर्गा मैडम दरवाजे पे खड़ी बाहर कुछ निहारे जा रही थी, आँखें बारिश का साथ दे रही थी उन्हें पार्वती के आने का एहसास भी नहीं हुआ. पार्वती ने उनको हिलाया मानो चेतना आ गयी हो दुर्गा मैडम को.

ज्योतिष

दुर्गा मैडम – अरे भाभी आप कब आये?

पार्वती – कति देर because से खड़ी हूँ, जहां होगा तुमरो ध्यान. आँखा बठै आँसू कला आ रहे थे.

दुर्गा मैडम – अरे कुछ because नहीं भाभी कुछ नहीं आओ भीतर आओ.

पार्वती – क्या हुआ ईजा because की याद आ रही है क्या? कुछ बताने वाली तो ठहरी नहीं. अपना मानती ही कहाँ हो तुम मुझे.

ज्योतिष

दुर्गा मैडम – कसि बात कर रही हो भाभी, आप ही तो हो जो इतना प्यार और अपनापन देती है, ईजा के जाने के बाद बिल्कुल अकेली हो गयी थी मैं….

दुर्गा मैडम की आंखें फिर बहने because लगती है और होंठ बंद हो जाते है, पार्वती उसे आगोश में लेकर चुप कराती है, उसके सिर को मसारती है, कुछ देर बाद मानो दुर्गा मैडम के होंठों का बांध टूट पड़ता है.

ऐसे ही बारिश हो रही थी उस रोज भी भाभी, जब ईजा ने आखिरी सांस ली थी, बिल्कुल अकेली पड़ गयी थी मैं, पिताजी चार साल पहले ही चल बसे थे. दाज्यू (बड़ा भाई) की शादी because के बाद ईजा और मुझे अलग कर दिया था, भाभी हमारे साथ नहीं रहना चाहती थी. ईजा और मैं खरक (जानवरों के रहने के लिए बनाया घर) वाले घर में रहते थे, दसवीं में पढ़ती थी मैं और ईजा मुझे पढ़ाना चाहती थी, इंटर तक का स्कूल ज्यादा दूर नही था.

ज्योतिष

ईजा के हिस्से में 2 बकरियां एक गाय because और कुछ खेत आये थे, ईजा दूसरों के यहां भी काम कर आती जिससे थोड़ा आमदनी हो जाती, कभी चुपके चुपके दाज्यू भी पैसे दे जाता था. बारहवीं के पेपर दिये थे मैंने, ईजा की तबियत खराब रहने लगी थी और एक दिन….. वो हो गया जो नहीं होना चाहिए था.

ज्योतिष

ईजा के जाने के बाद दाज्यू मुझे भाभी के साथ रखना चाहते थे पर भाभी की इच्छा नहीं थी, दाज्यू शहर में नौकरी करते थे, गांव के लोगों और रिश्तेदारों ने दाज्यू को समझाया कि because अकेली लड़की रहे ठीक नहीं है, शादी करवा दो इसकी, पर मैं इसके लिए राजी नहीं थी. सबकी बातें अनसुनी करने का दौर आ गया था, बकरियों और गाय की जिम्मेदारी आन पड़ी थी, बारवीं के रिजल्ट में मैं पास हो गयी थी, मुझे आगे पढ़ना था पर कैसे कुछ नहीं पता?

ज्योतिष

गांव के एक मासाब की सहायता से प्राइवेट से BA का फॉर्म भर लिया, दाज्यू चुपचाप पैसे भेजते थे कभी, बकरियां भी बढ़ रही थी, मेहनत भी, लोगों की बातें भी और मेरी पढ़ाई भी, because पता नहीं कहाँ से ताकत आ रही थी मेरे अंदर नहीं मालूम कभी लगता ईजा वो शक्ति दे रही हैं. जितनी मेरी आँखों में चमक बढ़ रही थी उतनी ही चेहरे में झुर्रियां बढ़ रही थी.

ज्योतिष

ऊपर वाला कुछ रास्ते बंद करता है तो कुछ खोल भी देता है, BA पास होते ही कुछ सदजनो के प्रयास से बीएड में एडमिशन भी मिल गया पर जाया कैसे जाय, पर मैंने निश्चय कर because लिया था कि चाहे कुछ भी हो प्रयास जरूर करूँगी, औने पौने दाम में बकरियां और गाय बेच दी और ईजा का एक ग्लोबन्द था वो भी बेच दिया और पहुँच गयी कॉलेज.

ज्योतिष

एक अलग दुनियां में आ गयी थी मैं, गाय और बकरियां भी याद आती अक्सर. एक दिन पता चला कोई मुझसे मिलने आया है, बाहर आकर देखा तो आंखों को यकीन ही नहीं हुआ, because दाज्यू के साथ भाभी भी थी, मुझे लगा ये लोगों की बातों में आकर मुझे वापस लेने आये होंगें, पर आज मैं गलत थी, भाभी ने मुझे गले लगा लिया था और उनकी आँखें बहने लगी थी, मेरे लिए इस बदलाव को हजम कर पाना मुश्किल था. पता नहीं भगवान की ऐसी क्या कृपा हो गयी थी, भाभी ने मुझसे माफी मांगते हुए मेरी हाथ में कुछ रुपये रख दिये और हर महीने मिलने और पैसे भेजने का वादा करके वो चले गये.

पार्वती ने न जाने कब से दुर्गा मैडम का हाथ कस के पकड़ रखा था, आँसुओं की बाढ़ में कब दोनों के कपड़े भी तरबतर हो गये थे पता ही नहीं चला, आत्मा के शोर में बाहर की बारिश because और बादलों की गड़गड़ाहट का शोर फीका जान पड़ रहा था.

ज्योतिष

वो दिन एक सुखद स्वपन सा because प्रतीत हो रहा था, पूरी रात सो नहीं पायी थी मैं. उसके बाद अपने किये वादे से हर महीने मुझे ख़र्चा भेजने लगी थी भाभी और बीच बीच में मिलने भी आती थी, दुनियां अचानक बदल गयी थी मेरी.

ज्योतिष

बीएड करने के बाद मैं वापस गांव आ गयी और भाभी के साथ ही रहने लगी, उनके दो बच्चें हो गये थे और मैं दिनभर उनके साथ ही लगी रहती, बच्चें मुझे बहुत प्यार करने लगे थे, because मैंने प्रण कर लिया था कि मैं इन बच्चों को पढ़ा लिखा बड़ा इंसान बनाऊँगी और अपना जीवन गांव गोठार की उन लड़कियों के लिए समर्पित कर दूँगी जो आगे पढ़ना चाहती हैं पर आर्थिक और सामाजिक कारणों से पढ़ नहीं पा रही हैं.

ज्योतिष

पार्वती ने न जाने कब से दुर्गा मैडम का हाथ कस के पकड़ रखा था, आँसुओं की बाढ़ में कब दोनों के कपड़े भी तरबतर हो गये थे पता ही नहीं चला, आत्मा के शोर में बाहर की बारिश because और बादलों की गड़गड़ाहट का शोर फीका जान पड़ रहा था.

(ग्राम- पो. बगोटी (चम्पावत) यमुना विहार- दिल्ली)

Share this:

Himantar Uttarakhand

हिमालय की धरोहर को समेटने का लघु प्रयास

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *