देश—विदेश

गोवा में 53वें अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव का शुभारंभ

चिरंजीवी को मिला ‘इंडियन फिल्म पर्सनैलिटी ऑफ द ईयर पुरस्कार’

राष्ट्रीय फिल्म विकास निगम और एंटरटेनमेंट सोसायटी ऑफ गोवा द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित इस फिल्म फिएस्टा के इस संस्करण में 79 देशों की 280 बेहतरीन फिल्में दिखाई जाएंगी. भारतीय पैनोरमा खंड में प्रविष्टियों की एक विस्तृत श्रृंखला के तहत 25 फीचर और 20 गैर-फीचर फिल्में दिखाई जाएंगी.

अनुराग ठाकुर ने विस्तार से बताया, ‘इफ्फी के लिए मेरा विजन केवल एक आयोजन तक ही सीमित नहीं है, बल्कि इस बात से भी संबंधित है कि इफ्फी का स्वरूप उस समय क्या होना चाहिए जब अमृत महोत्सव से अमृत काल में प्रवेश करने के बाद भारत अपनी आजादी के 100वें वर्ष का उत्सव मनाएगा! हमारा लक्ष्य क्षेत्रीय फिल्म महोत्सवों का स्तर बढ़ाकर भारत को कंटेंट सृजन, विशेषकर क्षेत्रीय सिनेमा का एक पावरहाउस बनाना है.’

केन्द्रीय सूचना एवं प्रसारण ने कहा, “आईएफएफआई युवा और स्थापित फिल्म निर्माताओं को अपना नेटवर्क बनाने, अपने विचार पेश करने, आपस में सहयोग करने और सिनेमा की दुनिया से सर्वश्रेष्ठ अनुभव प्राप्त करने के लिए अद्वितीय अवसर और अभूतपूर्व संभावनाएं प्रस्तुत कर रहा है. सिनेमा किसी भी देश की समृद्ध संस्कृति, विरासत, धरोहर, आशाओं एवं सपनों, आकांक्षाओं, महत्वाकांक्षाओं और सबसे महत्वपूर्ण रूप से इतिहास के किसी विशेष समय में वहां के लोगों की सामूहिक अंतरात्मा के संगम को पेश करता है और तराशता है.”

एशिया के इस सबसे पुराने फिल्म महोत्सव की स्मृति को रेखांकित करते हुए अनुराग ठाकुर ने कहा कि भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव की अवधारणा ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ की थीम में निहित है, जो शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व के सार का प्रतीक है जिसके अनुसार पूरी दुनिया को एक परिवार माना जाता है. उन्होंने कहा ‘‘भारत की बढ़ती वैश्विक भूमिका और जी20 की अध्यक्षता प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कुशल नेतृत्व में ‘एक धरती, एक परिवार, एक भविष्य’ की इसी थीम पर केंद्रित है.’’

सूचना और प्रसारण मंत्री ने इस वर्ष सत्यजीत रे लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड जीतने के लिए प्रसिद्ध स्पेनिश फिल्म निर्माता कार्लाेस सौरा को बधाई दी. उन्होंने यह भी घोषणा की कि इंडियन फिल्म पर्सनैलिटी ऑफ द ईयर पुरस्कार दक्षिण भारतीय अभिनेता चिरंजीवी को प्रदान किया जाएगा. अनुराग ठाकुर ने यह भी कहा कि आईएफएफआई का यह संस्करण प्रमुख मणिपुरी फीचर फिल्मों और गैर-फीचर फिल्मों के विशेष रूप से तैयार किए गए पैकेज को प्रदर्शित करके मणिपुरी सिनेमा के 50 साल पूरे होने का उत्सव मनाएगा.

इस अन्तर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में लगभग 79 देशों के साथ ही भारत के विभिन्न राज्यों के प्रतिनिधियों द्वारा प्रतिभाग किया जा रहा है. इस महोत्सव में उत्तराखंड द्वारा भी प्रतिभाग किया जा रहा है, जिसमे राज्य का प्रतिनिधित्व अभिनव कुमार, विशेष प्रमुख सचिव सूचना द्वारा किया जा रहा है.

अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित इस महत्वपूर्ण आयोजन से उत्तराखंड के नैसर्गिक प्राकृतिक सौन्दर्य एवं पर्यटन स्थलों की पहुंच देश व दुनिया तक पहुंचेगी तथा राज्य में फिल्म एवं पर्यटन व्यवसाय को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी. साथ ही देश के फिल्मकार फिल्मों की शूटिंग के लिये उत्तराखंड के प्राकृतिक सौन्दर्य के प्रति और अधिक आकर्षित होंगे. इस महोत्सव में 22 नवंबर 2022 को उत्तराखंड राज्य की फ़िल्म नीति पर चर्चा की जाएगी. इस परिचर्चा में केंद्रीय फ़िल्म बोर्ड के अध्यक्ष प्रसून जोशी भी प्रतिभाग करेंगे. फ़िल्म महोत्सव में सूचना एवं लोक सम्पर्क विभाग के उप निदेशक/नोडल अधिकारी उत्तराखंड फिल्म विकास परिषद डॉ. नितिन उपाध्याय द्वारा भी प्रतिभाग किया जा रहा है.

Share this:

Himantar Uttarakhand

हिमालय की धरोहर को समेटने का लघु प्रयास

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *