वीडियो

चित्रकला की दुनिया में जगमोहन बंगाणी

चित्रकला की दुनिया में जगमोहन बंगाणी एक सुपरिचित और प्रतिष्ठित नाम है। कैलीग्राफी और रंगों के अद्भुत  समायोजन के कारण उसकी एक अलग पहचान है। उसके चित्रों में संगीत की लय और शब्दों की ध्वनि है। वह स्वयं रंगों और शब्दों की दुनिया में जीने वाला कलाकार है। तभी तो वह कहता है कि ‘मैं रंगों से चित्रों की निर्मिति को निर्माण से ज्यादा एन्जॉय करता हूँ”। जगमोहन ने कैलीग्राफी में अभिनव प्रयोग किए हैं। वह एक अलहदा आर्टिस्ट है जिसने मंत्रों को रंगों की दुनिया में उतारा है। वह हिंदी, संस्कृत, पंजाबी और अन्य भाषाओं के शब्दों के माध्यम से कला की एक नई दुनिया रच रहा है। उत्तराखंड का एक सुदूरवर्ती गाँव मौंडा, हिमाचल और उत्तराखंड के बॉर्डर पर स्थित है। जगमोहन इसी मौंडा गाँव से कला (आर्ट) का पीछा करते-करते देहरादून, दिल्ली होते हुए लंदन तक पहुँच जाता है। कला का स्वभाव उसने हिमालय की छाँव से जाना तो उसके आयाम यूरोप भ्रमण के दौरान समझे। उसकी कला जड़ों की तरफ लौटने की द्योतक है। उसकी कला में सांस्कृतिक नाद अंतर्निहित है। इस नाद को आप उसकी पेंटिग्स को देखते हुए महसूस कर सकते हैं।

Share this:

Himantar Uttarakhand

हिमालय की धरोहर को समेटने का लघु प्रयास

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *