ऊधमसिंह नगर: “जिन्न” से मुक्ति के लिए जल्लाद बना तांत्रिक पिता, चढ़ा दी दो बेटियों की बलि

0
23

ऊधमसिंह नगर: उत्तराखंड में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। तांत्रिक पिता ने जिन्न से मुक्ति पाने के लिए अपनी दो नाबालिगग बेटियों की बलि दे दी। पुलिस तेजी दिखाते हुए को दो सगी बहनों के शव मिलने के तुरंत बाद एक्शन लिया और आरोपी पिता को गिरफ्तार कर लिया है।

यह पूरा मामला काशीपुर के लक्ष्मीपुर पट्टी की खालिक कॉलोनी का है। दो सगी बहनों की हत्या से क्षेत्र में सनसनी फैल गई। दोनों बहनों के के शव घर में चारपाई पर ही मिले। छोटी बहन का शव तीन से चार दिन पुराना बताया गया है। जबकि बड़ी बहन की हत्या शुक्रवार रात किए जाने की आशंका है।

दोहरे हत्याकांड की सूचना पर पहुंची पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर डॉक्टर्स के पैनल से पोस्टमार्टम कराया है। पुलिस पिता को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। पुलिस के मुताबिक, पिता तंत्र-मंत्र का काम करता था। पुलिस को सूचना मिली कि अली हसन उर्फ सूरज की दो पुत्रियों फरीन (19 वर्ष) और यासीन (11 वर्ष) के शव उसके घर में चारपाई पर पड़े हैं। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने घटनास्थल का निरीक्षण कर वहां मौजूद अली हसन की पत्नी और पुत्री से घटना के संबंध में जानकारी ली।

मकान के बरामदे में खून के निशान पाए गए। घर के दरवाजे पर कथित तौर पर बलि दिए गए मुर्गे के अवशेष और कुछ टोटके का सामान पड़ा था। पूछताछ में परिजनों ने घटना ऊपरी साये के कारण होने की बात कहकर पुलिस को गुमराह करने का प्रयास किया। पुलिस की पड़ताल में तंत्र-मंत्र में विश्वास के कारण दोनों बहनों की हत्या किए जाने की बात सामने आई है। बताया जा रहा है कि दोनों बहनों की पिटाई की गई और गला दबाया गया है, जिससे उनकी मौत हो गई।

खालिक कॉलोनी निवासी अली हसन की पुत्री फरीन पिछले डेढ़ साल से किसी ब्यूटी पार्लर में काम करने जाती थी। छोटी बेटी यासमीन के अपनी बहन फरदीन से रिश्ते बहुत बेहतर थे। यासमीन को यातनाएं दी गईं। उसकी एंड़ी तक आग से दागी गई, जिससे उसके फफोले तक पड़ गए। लगातार यातनाओं के चलते गुरुवार की रात उसकी मौत हो गई। बड़ी बेटी के साथ भी यही हुआ। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here