मासिक धर्म स्वच्छता दिवस (28 मई) पर विशेष

  • नीलम पांडेय ‘नील’

कुछ सालों पहले उत्तराखण्ड के गाँवों में कोई नई दुल्हन जब ससुराल में प्रवेश करती थी – उसकी पहली माहवारी, जिसे लोक भाषा में धिंगाड़ होना, छूत होना, अलग होना, because दिन होना या मासिक आदि नामों से जाना जाता है, के लिए एक अलग ही माहौल तैयार किया जाता था.

माहवारी

माहवारी के पहले दिन से ही उसे पता चल जाता था कि अब जब भी उसे माहवारी आती रहेगी, उसको माहवारी के नियमों को ओढ़ना होगा और खुद को उसमें रचना, बसाना होगा. because अपने दर्द और स्त्री सम्मान को भूलकर उसे अपनी सदियों से चली आ रही परंपराएं जीवित रखनी होंगी. शायद इन्हीं परंपराओं के कारण उस स्त्री को कभी अपने दर्द और सम्मान का अहसास भी नहीं हुआ या उसको उस समय इन नियमों के विरूद्ध जाने की हिम्मत नहीं हुई होगी.

माहवारी

गावों में इन प्रथाओं को खूब अच्छे से मानने वाली, वही बहू जब शहर गई तो काफी कुछ बदल गया, लेकिन फिर उसके बाद जब भी वह गांव में आती तो माहवारी के because प्रचलित नियमों का पालन करने का ढोंग भी करती, ताकि बड़े बुजुर्गो को यह सोचकर संतुष्टि मिलती रहे कि सब कुछ नियमों के अनुसार ही हो रहा है.

माहवारी

समय उपरांत, इनका पालन because वह खुद से ही करने लगी थी जैसे यह समाज की नहीं, उसकी अपनी ही जरूरत थी. वह जैसे खुद पालन करती जाती, आने वाली पीढ़ी से भी उम्मीद करती कि वे सब भी इसका पालन करें. आज भी कुछ स्थानों पर ये मान्यताएं वैसे ही प्रचलन में हैं जैसे तब थीं.

माहवारी

सभी फोटो टाटा ट्रस्ट के ट्वीटर से साभार

गावों में इन प्रथाओं को खूब अच्छे से मानने वाली, वही बहू जब शहर गई तो काफी कुछ बदल गया, लेकिन फिर उसके बाद जब भी वह गांव में आती तो माहवारी के प्रचलित because नियमों का पालन करने का ढोंग भी करती, ताकि बड़े बुजुर्गो को यह सोचकर संतुष्टि मिलती रहे कि सब कुछ नियमों के अनुसार ही हो रहा है. हालांकि वे भी समझने लगे थे कि अब कुछ तो है जो अधिक समय निभाया नहीं जाएगा.

लीपना

इन नियमों के तहत महिला को माहवारी के लगभग चार से पांच दिन तक अपना लोटा, गिलास, तश्तरी और ओढ़न-बिछौना अलग रखना होता था. माहवारी के दौरान इस्तेमाल किए कपड़े को धोने के बाद वह उसी गोठ के पीछे किसी कपड़े के नीचे अपने इस्तेमाल किए हुए कपड़ों और अंगवस्त्रों को छुपा कर सुखाती थी, ताकि because किसी की नजर न पड़े, फिर चाहे वहां सूरज की रोशनी पहुंचे या ना पहुंचे. सीमित मात्रा में सूती कपड़ा होने के कारण अधिकतर अधसुखा कपड़ा भी इस्तेमाल हो जाता था. कभी गलती से तार में सूखता कपड़ा किसी को दिखाई दे जाए तो उसे निर्लज्ज स्त्री होने के ताने सुनने को मिलते थे. यही ताने घर में किसी धार्मिक कार्य अवसर पर माहवारी आ जाने पर भी मिलते थे और स्त्री बहुत ग्लानि महसूस करती थी.

गोबर से

माहवारी से निवृत होते ही उस because महिला को इस दौरान इस्तेमाल किए गए कपड़े, बिछौना आदि धोकर, उस स्थान को लीपने के बाद पूरा घर भी मिट्टी, गोबर से लीपना होता था. फिर गौ मूत्र छिड़क कर और स्वयं गौ मूत्र चखकर घर में प्रवेश करना होता था, तभी उसका प्रवेश शुद्ध माना जाता था.

महिला

विडम्बना यह थी कि जिन दिनों महिला को पोषक आहार की बहुत जरूरत होती और मन भी करता कि कुछ गरम-गरम और चरपरा सा खाने को मिले उन्हीं दिनों में उससे कहा जाता था because कि माहवारी के चार से पांच दिन तक उसको बिल्कुल सादा तथा और दिनों की अपेक्षा थोड़ा कम मात्रा में भोजन मिलेगा. वह भोजन उसे सबसे अलग बैठकर उसी स्थान पर करना होता जहां उसे लगभग चार से पांच दिन रहना है. अधिकतर वह स्थान तब जानवरों के रहने का स्थान यानी कि गोठ होता था. वहां ओढ़ने-बिछाने के लिए ज्यादा बिस्तर नहीं मिलता था. उन चार से पांच दिनों तक घर के अंदर प्रवेश वर्जित रहता, क्योंकि घर में देवी देवताओं को किसी भी प्रकार से छू कर छुत्याना (छूत फैलाना) नहीं होता है.

घर के किसी सदस्य

माना जाता कि इससे सारे घर में अघोर हो जाएगा. घर के किसी सदस्य को भी छूना नहीं है, अगर गलती से छू लिया तो उसको किसी सदस्य द्वारा गो मूत्र छिड़क कर ही अंदर आने दिया जाता. माना तो यह भी जाता है कि यदि इस तरह से घर का कोई भी सदस्य उस महिला को छू लेता है तो सारे घर में अघोर फैल जाएगा. because जिससे घर के सदस्य के शरीर में अवतरित होने वाले देवी-देवता नाराज हो जाएंगे या कुछ विघ्न हो जाएगा. इससे घर के कुछ लोग, खासकर बुजुर्ग, बीमार भी हो सकते हैं. इस मान्यता के प्रति अंधविश्वास इतना अधिक होता कि वास्तव में लोग बीमार होने लगते. शायद तीव्र मनोवैज्ञानिक प्रभाव के कारण ऐसा होता है.

माहवारी

माहवारी के दौरान अलग बैठने because और सोने का ये मतलब भी नहीं होता है कि महिला को काम से छुट्टी मिल गई है. ऐसा बिल्कुल नहीं है क्योंकि उसको अन्दर के काम नहीं करने होते हैं तो घर में उसकी उतनी जरूरत भी नहीं होती है. लेकिन उस दौरान वह जंगल में घास-पात, लकड़ी-पतड़ी लाना, जानवरों को नहलाना-धुलाना आदि सभी बाहरी काम किया करती है. घर की कोई बड़ी महिला पुराने बक्से से या कभी किसी ओने-कोने से तलाश कर कुछ मैले, पुराने कपड़े के टुकड़े उसकी ओर उछाल जाती ताकि अगर वह चाहे तो माहवारी में उन कपड़े के टुकड़ों का इस्तेमाल कर ले.

मोनिटर लिजर्ड

किसी बहू को यदि अधिक सुरक्षा की चाहना होती थी तो उसे समझाया जाता था कि पहाड़ों में हर घर के गोठ और पाखों में गौल (मोनिटर लिजर्ड) रहता है, जो पहरू का because काम करता है. गौल के कारण कोई सांप-कीड़ा घर में जल्दी से प्रवेश नहीं कर सकता है. गौल छिपकली प्रजाति का बड़ा जानवर है. जहरीला होने के कारण इसे खतरनाक माना जाता है किन्तु यह बहुत शर्मीला होता है तथा इंसान से एक निश्चित दूरी बनाकर उसके आसपास ही रहता है.

स्त्री

चूंकि स्त्री चार से पांच दिन गोठ के एक कोने में ही रहती थी और दूसरी ओर घरेलू जानवर भी होते थे तब यदि बिछाने को मोटी गुदड़ी नहीं है तो नीचे गरम रखने के लिए पराली का उपयोग कर सकती थी. ताकि खाली खौड़ (खाली जमीन) में न सोना पड़े. वह धान की पराली बिछा कर वह उसके ऊपर अपनी चादर, गुदड़ी या because बोरे के टुकड़े बिछा लिया करती. कमरे में उजाला करने के लिए एक लालटेन या मिट्टी तेल (घासलेट) का दिया जला लेती थी. यदि सांप, बिच्छू सोते हुए काट जाए और महिला मर जाए तो ज्यादा खोजबीन न करके यह भी मान लिया जाता था कि जरूर किसी अघोर के कारण ही ऐसा हुआ होगा.

सुरक्षा

किसी बहू को यदि अधिक सुरक्षा की चाहना होती थी तो उसे समझाया जाता था कि पहाड़ों में हर घर के गोठ और पाखों में गौल (मोनिटर लिजर्ड) रहता है, जो पहरू का काम करता है. because गौल के कारण कोई सांप-कीड़ा घर में जल्दी से प्रवेश नहीं कर सकता है. गौल छिपकली प्रजाति का बड़ा जानवर है. जहरीला होने के कारण इसे खतरनाक माना जाता है किन्तु यह बहुत शर्मीला होता है तथा इंसान से एक निश्चित दूरी बनाकर उसके आसपास ही रहता है. इसलिए गौल की उपस्थिति सुरक्षात्मक रूप से सही मानी जाती थी. बार-बार गौल से सामना होते रहने से महिलाओं को आदत भी बनने लगती थी. नई नवेली दुल्हन को गौल से ही डर लगता हो तो लगता रहे, उसके लिए कोई और उपाय संभव न थे क्योंकि माहवारी में अलग सोने, रहने वाली, वह कोई अकेली औरत नहीं है.

ससुराल

कुछ ऐसी ही होती थी तब नई दुल्हन की पहली माहवारी ससुराल में. फिर धीरे-धीरे वह इन सभी रीति रिवाजों में ढलती गईं. इन सब कारणों से न जाने कितनी महिलाएं जाने-अनजाने ही अंदुरूनी संक्रमण का शिकार होती चली जाती, जिस कारण वे समय से पहले जीवन से अलविदा कह जाती थी. उनके बीमार पड़ने पर बहाना होता था कि कुछ ऊपरी लग गया होगा. इसके निवारण के लिए झाड़-फूंक होती थी लेकिन उसका संक्रमण बढ़ता जाता. शर्म और डर से वह किसी को बता भी नहीं पाती और दुनिया छोड़ देती. लोग दुनिया जहान के टोटके करते रहते पर तब वे इसका कारण मासिक अस्वच्छता होना नहीं मानते थे. वे स्त्री को सम्मान नहीं दे पाए और न ही उनको तब समझ में आया कि मासिक के दौरान साफ-सफाई जीवन में कितनी जरूरी है.

एहसास

एक सर्वे के दौरान एक महिला मुझसे पूछती है कि तुम कह रही हो कि माहवारी में अलग बैठना जरूरी नहीं है तो बताओ आखिर लोग इतने समय तक अलग क्यों बैठते रहे? यह तो सदियों से होता रहा है. मैं तब बस उसको इतना ही कह पाई कि यह तो मैं भी नहीं जानती कि क्यों बैठते रहे किन्तु इतना जरूर समझ सकती हूं कि because एक जमाने में जब पहनने को वस्त्र ही नहीं होते थे और अधिकतर लोग आदिवासी जीवन जीते थे तब शायद उसके बहते रक्त के कारण अन्य लोगों से उसको दूर रखा गया होगा. ताकि जो भी रक्त बहे वह सब जगह न फैले और उस दौरान वह किसी एक स्थान का प्रयोग कर सके. किंतु आज समय उपरांत जब सारी सुविधाएं हैं तो भी उन्हीं बातों को लेकर चलना बहुत बड़ी मूर्खता होगी.

उसे

धीरे धीरे शिक्षा के साथ महिलाओं को अहसास होने लगा कि कुछ तो ऐसा है जो अनुचित है. वैसे मान्यताओं को मानना उतना बुरा भी नहीं है, यदि इससे किसी को कोई व्यक्तिगत हानि because अथवा नुकसान न हो रहा हो और समाज में कोई गलत संदेश न जा रहा हो. जैसे कोई इस दौरान मंदिर नहीं जाना चाहता है तो ठीक है वह व्यक्तिगत है किन्तु उससे किसी को कोई परेशानी नहीं है यदि यह उसका स्वैच्छिक निर्णय है.

चाहिए ताकि

एक और बात उन दिनों में मासिक धर्म के इन नियमों का एक फायदा यह जरूर था कि अधिकतर पुरुष खाना बनाना सीख गए और माहवारी के दौरान घर में स्त्री के रसोई में वर्जित because होने पर खाना भी स्वयं ही बनाते थे. किन्तु दूसरों से अलग कर भेदभाव करना और अलग होने का अहसास दिलाना स्त्री होने के गौरव को कमतर आंकने जैसा है जो स्त्री के स्त्रीत्व पर प्रहार भी है.

मनाया जाना

कुछ बहुत बुजुर्ग आमाओं से बात करने से पर पता चला कि शुरुआत में महिलाओं को अंदुरूनी वस्त्र पहनने की भी आदत नहीं थी और कई तो कपड़ा भी नहीं लगाती थी, क्योंकि because आदत नहीं होने से कुछ भी पहनने से परेशानी होती थी और सहज भी नहीं लगता था. लेकिन उनके पास नौ पाट की गहरे रंग का घाघरा ही पहनने के लिए होता था जिसको पूरे मासिक के पांच दिनों में बदला नहीं जाता था और ना ही नहाया जाएगा इस दौरान.

त्यौहार की तरह

किन्तु मासिक के अगले दिन छुती गधेरे (कुछ गावों में पानी का एक ऐसा उपेक्षित स्रोत, जहां मासिक धर्म में औरतें अपने वस्त्र, बिस्तर आदि धो सकती थी वहां का पानी पीने योग्य because नहीं माना जाता था अतः जानवरों को नहलाने धुलाने या पानी पिलाने के काम लिया जाता था) जाकर उसको सब कपड़े गुदड़ी आदि धोने होते थे, तब खुद भी नहाना होता था, वह भी मान लेती थी कि अब वह पवित्र हो गई है.

एक उत्सव

पहली बार मासिक धर्म की शुरूवात होने पर, किशोरी के लिए यह दिन एक उत्सव या त्यौहार की तरह मनाया जाना चाहिए ताकि उसे एहसास हो सके कि अब वह परिपक्व हो गई है और यह दिन एक पवित्र अहसास की तरह ही लिया जाना चाहिए तथा पोषक आहार एवम् पकवानों के साथ नाच गाकर दिन की शुरुआत हो because जिसमें घर के सभी लोग एवम् पुरुष भी शामिल हो. ताकि बेटी को कभी इन सब बातों के लिए पिता, भाई या अन्य घर के पुरषों के सामने शर्मिंदा ना होना पड़े और सभी लोग इसे सहज भाव में ले सकें.

दिन

आज मासिक धर्म की शिक्षा तथा जानकारी केवल महिलाओं के लिए जरूरी नहीं है अपितु यह मुद्दा समाज का मुद्दा है. वर्तमान में समाज के नजरिए में बहुत बदलाव आया है तथा because स्त्री पुरुष दोनों ही अपनी पुरानी सोच और मिथकों से बाहर निकल कर मासिक धर्म विषय तथा महिला स्वास्थ्य के लिए समावेसित सोच के साथ आगे बढ़ रहे हैं.

लिए यह

वातावरणीय स्वच्छता के साथ शारीरिक स्वच्छता भी बहुत महत्वपूर्ण है उसमें मासिक धर्म की स्वच्छता के लिए मितव्ययता के साथ सुरक्षित एवम् सम्मानजनक सोच के साथ आगे आने की because भी जरूरत है. मुझे लगता है कि पहली बार मासिक धर्म की शुरूवात होने पर, किशोरी के लिए यह दिन एक उत्सव या त्यौहार की तरह मनाया जाना चाहिए ताकि उसे एहसास हो सके कि अब वह परिपक्व हो गई है और यह दिन एक पवित्र अहसास की तरह ही लिया जाना चाहिए तथा पोषक आहार एवम् पकवानों के साथ नाच गाकर दिन की शुरुआत हो जिसमें घर के सभी लोग एवम् पुरुष भी शामिल हो. ताकि बेटी को कभी इन सब बातों के लिए पिता, भाई या अन्य घर के पुरषों के सामने शर्मिंदा ना होना पड़े और सभी लोग इसे सहज भाव में ले सकें.

किशोरी के

कितना अच्छा होता कि पहली माहवारी के आगमन पर भी शगुन आखर लिखे जाते या गाए जाते ढोलक की थाप पर.

(लेखिका कविसाहित्यकार एवं पहाड़ के सवालों को लेकर मुखर रहती हैं)

Share this:
About Author

Himantar

हिमालय की धरोहर को समेटने का लघु प्रयास

1 Comment

    ये महिलाओं का घोर अपमान तो था ही साथ मै किसी शिविर यातना से कम नहीं था.मिट्टी की चोंक से एक घेरा बनाकर उसे अछूत करार कर दिया जाता था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *