Tag: लंदन

झूमा लंदन : सीएम धामी के स्वागत में भव्य रंगारंग कार्यक्रम आयोजित

झूमा लंदन : सीएम धामी के स्वागत में भव्य रंगारंग कार्यक्रम आयोजित

देश—विदेश
उत्तराखण्डी लोकगीतों में झूमा लंदन, सीएम धामी के स्वागत में भव्य रंगारंग कार्यक्रम आयोजित प्रवासी उत्तराखण्ड के लोगों से अह्वान, साल में एक बार अपने प्रदेश अवश्य आयें देहरादून: मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के सोमवार को लंदन पहुँचने पर वहां मौजूद प्रवासी भारतीय एवं लंदन में रह रहे उत्तराखंड के निवासियों द्वारा भव्य रंगारंग स्वागत कार्यक्रम आयोजित किया गया। लंदन में रह रहे उत्तराखण्ड के प्रवासियों द्वारा गढ़वाली, कुमाऊँनी, जौनसारी लोकगीतों पर मनमोहन प्रस्तुति दी गई। स्वागत कार्यक्रम में मौजूद समस्त प्रवासी भारतीय उत्तराखण्ड के पारंपरिक परिधानों में नज़र आए। इस अवसर पर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने लंदन में रह रहे समस्त प्रवासी उत्तराखण्ड के लोगों का आभार प्रकट किया। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि “यह मेरा सौभाग्य है कि उत्तराखण्ड के मुख्य सेवक के रूप में मुझे इन्वेस्टर समि...
लंदन और बर्मिंघम की यात्रा पर सीएम धामी, निवेशकों के साथ करेंगे बैठक, ट्वीट कर दोहराया ‘संकल्प नये उत्तराखण्ड का’

लंदन और बर्मिंघम की यात्रा पर सीएम धामी, निवेशकों के साथ करेंगे बैठक, ट्वीट कर दोहराया ‘संकल्प नये उत्तराखण्ड का’

उत्तराखंड हलचल
देहरादून: मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी लंदन की यात्रा पर हैं। वे वहां पर अंतरराष्ट्रीय उद्योगपतियों से मुलाकात करेंगे। साथ ही उन्हें उत्तराखंड में दिसंबर में होने वाली ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट के लिए आमंत्रित करेंगे। सीएम धामी ने एक्स (X) पर जानकारी देते हुए बताया कि, देवभूमि के आराध्य देवी-देवताओं के आशीर्वाद से एवं समस्त प्रदेशवासियों की आशाओं और आकांक्षाओं की पूर्ति तथा सशक्त उत्तराखण्ड के लक्ष्य को प्राप्त करने हेतु दिसंबर में आयोजित होने वाली ‘ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट’ में प्रवासी भारतीयों एवं अंतर्राष्ट्रीय उद्योगपतियों से मुलाकात एवं उन्हें इस समिट में आमंत्रित करने हेतु आज लंदन और बर्मिंघम की यात्रा पर जा रहा हूं। उन्होंने आगे लिखा कि, उत्तराखण्ड निवेश के क्षेत्र में तेजी से उभरता हुआ प्रदेश है इसलिए मुझे पूर्ण विश्वास है कि विदेश से भी लोग यहां निवेश के लिए आएंगे, जिसके माध्यम से र...
ग्रेटा थनबर्ग: पर्यारण के लिए चिंतित एक आवाज

ग्रेटा थनबर्ग: पर्यारण के लिए चिंतित एक आवाज

पर्यावरण
कमलेश चंद्र जोशी “My name is Greta Thunberg. I am sixteen years old. I come from Sweden and speak on behalf of future generations. I know many of you don’t want to listen to us. You say we are just children. But we are only repeating the message of the united climate science.” सोलह साल की ग्रेटा थनबर्ग लंदन की संसद में इस संबोधन के साथ अपने भाषण की शुरुआत करती है. उसकी किताब “No one is too small to make a difference” अलग-अलग मंचों से दिये गए उसके भाषणों का संग्रह है जो उसकी पर्यावरण को लेकर बुलंद की गई आवाज को दर्शाती है. स्कूली हड़ताल से शुरूआत करती हुई ग्रेटा स्वीडन की संसद के सामने हड़ताल के बाद दुनिया की नजर में आती है और उन तमाम बच्चों के लिए प्रेरणा बन जाती है जो अपने भविष्य और पर्यावरण को बचाने के लिए दुनिया भर की सरकारों से सवाल पूछने लगते हैं. हमारा घर यानी की पृथ्वी ...