September 19, 2020
Home Posts tagged पतरोल
संस्मरण

कैद होते जंगलों के बीच पतरोल का आतंक

मेरे हिस्से और पहाड़ के किस्से भाग—33 प्रकाश उप्रेती आज बात- “पतरौ” और जंगलात की. ‘पतरौ’ का मतलब एक ऐसा व्यक्ति जिसे सरकार ने ग्राम -प्रधान के जरिए हमारे जंगलों की रक्षा के नाम पर तैनात किया हुआ था. रक्षा भी हमसे और वह भी हमारे जंगलों की. धीरे-धीरे हमें पता चला कि रक्षा