सूखे नहॉ बिन जीवन सूखा

सूखे नहॉ बिन जीवन सूखा

मेरे हिस्से और पहाड़ के किस्से भाग—12 प्रकाश उप्रेती हम इसे ‘नहॉ’ बोलते हैं. गाँव में आई नई- नवेली दुल्हन को भी सबसे पहले नहॉ ही दिखाया जाता था. शादी में भी लड़की को नहॉ से पानी लाने के लिए एक गगरी जरूर मिलती थी. अपना नहॉ पत्थर और मिट्टी से बना होता था. एक […]

Read More