Home Posts tagged दुर्लभ संस्कृत पांडुलिपि
पुस्तक-समीक्षा

अमृत पर्व कुम्भ: सनातन संस्कृति, परम्परा और ज्ञानामृत चेतना से पुनः संवाद….

डॉ. मोहन चंद तिवारी नववर्ष 2022 के अवसर पर, जब देश अपनी आजादी के 75वें अमृत महोत्सव की वर्षगांठ भी मना रहा है, यह बताते हुए अपार हर्ष हो रहा है कि इस नए वर्ष में मेरी because चिर प्रतीक्षित पुस्तक “अमृत पर्व कुम्भ: इतिहास और परम्परा” देश के लब्धप्रतिष्ठ प्रकाशन, ईस्टर्न बुक लिंकर्स,