Home Posts tagged अमृता शेरगिल
संस्मरण

दुना नदी के तट से

बुदापैश्त डायरी-8 डॉ. विजया सती जब हम बुदापैश्त में थे, ऐसे अवसर भी आए जब देश और विदेश एक हो गए! … वह तीस जनवरी की सुबह थी,  दुना नदी के किनारे की ठंडक ने देह में सिहरन पैदा की. तट से ज़रा ही दूर, वाहनों की आवाजाही के बीच सड़क का एक कोना धीरे-धीरे […]