पुष्कर सिंह रावत

इन दिनों उत्तरकाशी की गर्तांगली चर्चा में है. करीब डेढ़ सौ साल पुराना यह रास्ता किसने बनाया इस पर अभी शोध की जरूरत है. लेकिन हेरीटेज महत्व के इस पुल को नया रूप देने वाले because राजपाल बिष्ट को उत्तरकाशी के लोग बखूबी जानते हैं. पुल बनाने में महारत रखने वाले इस युवा ठेकेदार ने एक जोखिमभरी राह को आसान बना दिया. दरअसल इस काम के लिए वन विभाग और लोनिवि को काफी माथापच्ची करनी पड़ी. इसके खतरे को देखते हुए और कोई तैयार नहीं हुआ तो राजपाल बिष्ट आगे आए. उनसे बहुत पुरानी मित्रता होने के कारण मुझे उनकी कार्यशैली मालूम है. नफा नुकसान से ज्याआदा उनका because ध्यान काम के महत्व पर रहता है. उनसे लगातार संपर्क के कारण गर्तांगली के जीर्णोद्धार की हर खबर मुझे मिलती रही. संयोगवश देहरादून में हम दोनों पड़ोसी हैं. लिहाजा पुल के लिए देवदार की लकड़ी का इंतजाम करते वक्त मैं उनके साथ ही मौजूद था.

ज्योतिष

दिसंबर 2020 में गर्तांगली के जीर्णोद्धार का काम शुरू होना था. लेकिन इस उच्च हिमालयी इलाके में भारी बर्फवारी बाधा बन गई. फरवरी में मौसम ठीक हुआ तो becauseराजपाल ने अपनी छह लोगों की टीम के साथ गर्तांगली में कदम रखा. पुल का मुआयना करते हुए वे हैरान थे. डेढ़ सौ साल पहले चट्टान को इस तरह तराशकर काटना और उस पर होल करने की तकनीक कैसी रही होगी. जबकि तब ना सड़क थी ना आज की तरह पैट्रोल डीजल या बैटरी चलित मशीनें. आज because भी वहां तक सीमित संसाधन ही पहुंचाए जा सकते हैं. खैर उन्होंने काम शुरू कर दिया. लेकिन जल्द टीम के लोग जवाब देने लगे. इस इलाके में दोपहर के समय बहुत तेज हवाएं चलती हैं. धूल के साथ ठंडी हवा का बवंडर शरीर को चीरता हुआ सा लगता है. उन्हें दूसरी टीम तैयार करनी पड़ी. यह सिर्फ एक बार नहीं हुआ बल्कि चार महीने में चार टीमें बदलने के बाद पुल तैयार हो सका.

ज्योतिष

एक जगह ऐसी भी आई जहां लकड़ी तख्तों को फिट करने के लिए खड़़ी चट्टान पर सेफ्टी बेल्ट के सहारे लटकना था. लेकिन वहां ऊपर की ओर कोई भी पेड़ या खूंटा गाड़ने की जगह नहीं थी. राजपाल ने खुद किसी तरह ओवरहैंग चट्टान के काफी ऊपर चढ़कर हल्की उभरी दरारों पर रस्से को फंसाया. तब जाकर मजदूरों ने खाई की ओर लटकर यहां स्लीपर फिट किए.

ज्योतिष

पुल बनाने के विशेषज्ञ मजदूरों की टीम के साथ राजपाल खुद मौके पर रहे. एक जगह ऐसी भी आई जहां लकड़ी तख्तों को फिट करने के लिए खड़़ी चट्टान पर सेफ्टी बेल्ट के सहारे लटकना था. लेकिन वहां ऊपर की ओर कोई भी पेड़ या खूंटा गाड़ने की जगह नहीं थी. because राजपाल ने खुद किसी तरह ओवरहैंग चट्टान के काफी ऊपर चढ़कर हल्की उभरी दरारों पर रस्से को फंसाया. तब जाकर मजदूरों ने खाई की ओर लटकर यहां स्लीपर फिट किए. ऐसे ही एक और जगह पर पुराने तख्ते और स्लीपर उखाड़ने के बाद चट्टान की ओर रास्ता ना के बराबर था. करीब पंद्रह मीटर तक पांव भर रखने की जगह के साथ सीधी खाई थी. because मजदूरों के कदम यहां रुक गए. यहां भी राजपाल ने चट्टान से चिपककर यह दूरी पहले खुद तय की फिर मजदूरों को पार करवाया. काम के लिहाज से यही सबसे खतरनाक स्पॉट भी था.

ज्योतिष

करीब पांच महीने की मशक्कत के बाद पुल तैयार हो गया. अब हेरीटेज महत्व वाले इस पुल का नया रूप पर्यटकों को लुभा रहा है. लेकिन वह भी समय था जब गर्तांगली की ओर कोई झांकता because भी नहीं था. तब पुराना और जर्जर हो चुका यह रास्ता बेहद खतरनाक था. लिहाजा कोई भी इसका रुख नहीं करता. तब साल 2011 के अक्टूबर में सबसे पहले मैंने एक खबर में गर्तांगली को रिपोर्ट किया. उसके बाद इस ओर ध्यान जाना शुरू हुआ. स्थानीय पर्यटन को बढ़ावा because देने के लिए काम कर रहे लोगों ने इसके जीर्णोद्धार की मांग शुरू कर दी. कुछ उत्सा ही पर्यटन व्येवसायी गर्तांगली पहुंचकर इसके ठीक ठाक हिस्से में चहलकदमी करने लगे. फिर काफी जद्दोजहद के बाद वन विभाग ने इसके जीर्णोद्धार का फैसला किया. पर्यटन और वन महकमे के साथ ही उत्तरकाशी के पर्यटन व्यवसायियों को राजपाल बिष्ट जैसे कर्मयोद्धाओं को सम्मान देना चाहिए. जो नफा नुकसान से ज्यादा लोकहित को महत्व देते हैं.

(लेखक स्‍वतंत्र पत्रकार हैं)

Share this:
About Author

Himantar

हिमालय की धरोहर को समेटने का लघु प्रयास

2 Comments

    शानदार….

    Awesome work..keep it up 👍🙂

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *