देश—विदेश

श्रीदेव सुमन की तरह उनकी टिहरी भी उपेक्षित और बदहाल

  • हिमांतर ब्‍यूरो, नई दिल्‍ली

पर्वतीय लोकविकास समिति, so उत्तराखंड एकता मंच और भिलंगना क्षेत्र विकास समिति द्वारा अमर बलिदानी श्रीदेव सुमन बलिदान दिवस के अवसर पर एक विचार गोष्ठी का आयोजन मिनी मार्केट जनकपुरी नई दिल्ली में किया गया.

पर्यावरण

मुख्य अतिथि शीर्ष सामाजिक कार्यकर्ता और उद्योगपति श्री वीरेंद्र दत्त सेमवाल ने कहा कि सुमन जी ने पूरे देश की आजादी की लड़ाई लड़ी, 84 दिन तक की भूख हड़ताल इतिहास की बड़ी so घटना है. राजशाही के विरुद्ध अलख जगाने वाले टिहरी के मुक्तिनायक श्रीदेव सुमन की घाटियां और पट्टियां आज भी विकास की राह ताक रही  हैं. भाजपा पर्वतीय प्रकोष्ठ दिल्ली के प्रभारी श्याम लाल मजेड़ा ने कहा कि श्रीदेव सुमन के योगदान का राष्ट्रीय इतिहास में भावी पीढ़ियों की प्रेरणा के लिए उचित और ठोस उल्लेख होना चाहिए.

पर्यावरण

भिलंगना क्षेत्र विकास समिति के महासचिव शिव सिंह राणा ने कहा कि आजादी के 74 वर्ष बाद और पृथक राज्य बनने के 21 वर्ष बाद भी सुमन की टिहरी हर क्षेत्र में उपेक्षित और पिछड़ी ही है. गोष्ठी में कवि बीर सिंह राणा ने श्रीदेव सुमन के क्रांतिकारी जीवन पर एक कविता प्रस्तुत की. उत्तराखंड एकता मंच की अध्यक्ष श्रीमती लक्ष्मी so नेगी, शिंजन योग ट्रस्ट के अध्यक्ष शशिमिहन शर्मा,  भाजपा दिल्ली कार्यकारिणी सदस्य प्रदीप चौधरी,भाजपा बौद्धिक प्रकोष्ठ के सह संयोजक इंजीनियर मान सिंह, दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष मनोज चौधरी,प्रवासी प्रकोष्ठ की उपाध्यक्ष लकी नेगी, पंचन्नद से जुड़ी आरती चौहान, अंजलि रावत, वंदना रेड्डी,  मीनू रावत, आचार्य रमेश भट्ट, धीरज नेगी, उदय बर्तवाल, सावित्री जोशी और हरीश लोहनी ने भी अपने विचार व्यक्त किए.

पर्यावरण

समारोह की अध्यक्षता करते हुए मीडियाकर्मी और पर्वतीय लोकविकस समिति के अध्यक्ष सूर्य प्रकाश सेमवाल ने कहा कि श्रीदेव सुमन जी के जन्मशताब्दी वर्ष पर समिति ने सुमन जी की so स्मृति में केंद्र सरकार से उन पर डाक टिकट जारी करने का आग्रह किया था, हमें आशा है देर सवेर उस पर विचार होगा. दुख इस बात का होता है कि देश को प्रकाशित करने वाली टिहरी के डूब क्षेत्र के गांव ही पानी के संकट से जूझ रहे हैं और उपेक्षित और बदहाल टिहरी विकास से वंचित है. सुमन जी के बलिदान दिवस पर हमें गूंगी बहरी टिहरी के लिए आवाज उठाने का संकल्प लेना होगा.

पर्यावरण

इस अवसर पर विभिन्न so संस्थाओं की ओर से सूर्य प्रकाश सेमवाल का संस्था प्रतिनिधियों ने स्वागत किया. विचार गोष्ठी का संचालन पर्वतीय लोकविकास समिति के महासचिव दीवान सिंह रावत ने किया और धन्यवाद ज्ञापन उत्तराखंड सांस्कृतिक विकास समिति के अध्यक्ष गंभीर सिंह नेगी ने किया.

Share this:

Himantar Uttarakhand

हिमालय की धरोहर को समेटने का लघु प्रयास

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *