अल्‍मोड़ा

‘नशा मुक्त भारत अभियान’ के अंतर्गत विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन

राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय कुणीधार, मानिला अल्मोड़ा (उत्तराखंड) के तत्वावधान में ‘नशा मुक्त भारत अभियान’ के अंतर्गत विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया. इस कार्यक्रम की अध्यक्षता महाविद्यालय की प्राचार्या डॉ. जया पांडे द्वारा की गयी. प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में उन्होंने व्यक्ति जीवन में नशे के दुष्प्रभाव एवं इससे कैसे स्वयं व समाज को बचा सकते हैं? विषय पर विस्तार से अपनी बात रखी.

इस कार्यक्रम के अंतर्गत ‘क्या मादक द्रव्यों के सेवन की लत: एक बीमारी है या एक शौक?’ विषय पर भाषण प्रतियोगिता का आयोजन किया गया. इस प्रतियोगिता के निर्णायक मंडल के रूप में डॉ. गोरखनाथ,असिस्टेंट प्रोफेसर अर्थशास्त्र, डॉ. शैफाली सक्सेना, असिस्टेंट प्रोफेसर वनस्पति विज्ञान एवं डॉ. संतोष पंसारी असिस्टेंट प्रोफेसर, राजनीति विज्ञान उपस्थित रहे. निर्णायक मंडल ने छात्र-छात्राओं के आत्मविश्वास व विषयवस्तु की सराहना की. निबंध प्रतियोगिता के अंतर्गत ‘नशा मुक्त भारत अभियान और इसकी सफलता की कार्ययोजना’ विषय पर प्रतिभागियों ने निबंध लिखा. इस प्रतियोगिता के निर्णायक मंडल में डॉ. शरद चंद्र मिश्र, असिस्टेंट प्रोफेसर रसायन विज्ञान, डॉ. धर्मेंद्र यादव असिस्टेंट प्रोफेसर, इतिहास एवं डॉ अर्जुन कुमार, असिस्टेंट प्रोफेसर अर्थशास्त्र रहें. चित्रकला प्रतियोगिता के अंतर्गत प्रतिभागियो ने ‘मादक द्रव्यों के सेवन का व्यक्तियों पर प्रभाव ‘ विषय पर अपनी रचनात्मक अभिव्यक्ति की.

निर्णायक मंडल के रूप में डॉ. रेखा, असिस्टेंट प्रोफेसर राजनीति विज्ञान एवं डॉ. गार्गी लोहिनी, असिस्टेंट प्रोफेसर हिंदी एवं डॉ. शिल्पी अग्रवाल, असिस्टेंट प्रोफेसर समाजशास्त्र रहे. निर्णायक मंडल ने प्रतिभागियों के प्रयास और रचनात्मकता की प्रशंसा की. निर्णायक मंडल के निर्णय अनुसार भाषण प्रतियोगिता में वंदना शर्मा(बी.एस.सी प्रथम सत्रार्ध) ने प्रथम स्थान, सुंदर सिंह(बी.ए प्रथम वर्ष) ने द्वितीय स्थान, आशा उपाध्याय(बी.ए द्वितीय वर्ष) ने तृतीय स्थान प्राप्त किया. निबंध प्रतियोगिता में हिमानी ने प्रथम स्थान, वंदना शर्मा ने द्वितीय स्थान, चंपा ने तृतीय स्थान प्राप्त किया. चित्रकला प्रतियोगिता में सीमा बिष्ट (एम.ए राजनीति विज्ञान द्वितीय सत्रार्ध) ने प्रथम स्थान, हर्षिता नेगी(बी.ए प्रथम सत्रार्ध) ने द्वितीय स्थान, ललित मनराल(बी.ए द्वितीय वर्ष) ने तृतीय स्थान प्राप्त किया तथा साक्षी मनराल(बी.ए प्रथम सत्रार्ध) को सांत्वना पुरस्कार प्रदान किया गया.

इन प्रतियोगिताओं के आयोजन का उद्देश्य छात्र-छात्राओं को जागरूक करना तथा उनके अभिव्यक्ति कौशल का विकास करना था. कार्यक्रम के अंत में महाविद्यालय की संरक्षक व प्राचार्या डॉ. जया पांडे द्वारा विजेता प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया गया एवं छात्र-छात्राओं को नशा मुक्त भारत बनाने में उनके योगदान के प्रति संकल्प करवाया गया. कार्यक्रम का संयोजन व संचालन डॉ. भावना मासीवाल, प्रभारी, धूम्रपान निषेध समिति द्वारा किया गया. इस कार्यक्रम में महाविद्यालय के समस्त संकायाध्यक्ष, शिक्षक व कर्मचारी उपस्थित रहें तथा छात्र-छात्राओं ने सभी कार्यक्रमों में बढ़-चढ़ हिस्सा लिया.

Share this:

Himantar Uttarakhand

हिमालय की धरोहर को समेटने का लघु प्रयास

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *