‘प्रकृति को पूजने और पर्यावरण सुरक्षा की प्रेरणा देता है उत्तरायणी पर्व’

0
238

पर्वतीय लोकविकास समिति द्वारा 19 वें उत्तरायणी महोत्सव का आयोजन

  • हिमांतर ब्यूरो

दक्षिण दिल्ली के पालम क्षेत्र के डीडीए ग्राउंड साध नगर में पर्वतीय लोकविकास समिति द्वारा राष्ट्रीय उतरायणी अभियान के अंतर्गत 19 वें उत्तरायणी महोत्सव का आयोजन किया गया.आचार्य महावीर नैनवाल और पं. ओम नारायण शुक्ला द्वारा सर्वप्रथम प्रकृति के सम्मान,पर्यावरण चेतना और विश्व शांति के लिए सृष्टि रक्षा महायज्ञ किया गया.

समारोह का उद्घाटन करते हुए दक्षिण दिल्ली के सांसद श्री रमेश विधूड़ी ने कहा कि उत्तरायणी पर्व हमें प्रकृति को पूजने और पर्यावरण सुरक्षा की प्रेरणा देता है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विश्व को भारत के इस संदेश और प्रतिबद्धता को धरातल पर उतारते हुए 2030 तक कार्बन उत्सर्जन से मुक्त करने का लक्ष्य रखा है.इस अवसर पर आयोजित गोष्ठी के मुख्य वक्ता चार्टर्ड अकाउंटेंट राजेश्वर पैन्यूली ने कहा कि उत्तरायणी को राजनीतिक नहीं जनचेतना का पर्व बनाना होगा. जोशीमठ भू -धंसाव के कारणों के निवारण के साथ केंद्र और राज्य सरकार प्रभावितों की सुरक्षा,सहायता और कल्याण के लिए ठोस प्रयास कर रहे हैं.केदारनाथ आपदा के बाद यह संभावित आपदा हमको चेताने के लिए ही उपस्थित हुई है.

गोष्ठी में विभिन्न विशेषज्ञ विद्वानों-आर. डी.शर्मा,कैप्टन गुलाब सिंह शेखावत, के. एस.यादव, वीरेंद्र देव, डॉ. एस. एन. बसलियाल और इंजीनियर मान सिंह ने भी अपने विचार रखे.इस अवसर पर कवि नीरज बवाड़ी ने ‘उत्तरायणी राष्ट्रीय अभियान ‘ कविता तो कवि बीर सिंह राणा ने “पलायन’ और ‘मां की पीड़ा’ जैसी कविताएं प्रस्तुत कीं.स्कूली छात्र छात्राओं ने प्रकृति,पर्यावरण और स्वच्छता पर केंद्रित चित्रकला और निबंध प्रतियोगिताओं में भाग लिया.उत्तराखंड मंडली की महिलाओं और छात्र- छात्राओं ने उत्तराखंड की लोक संस्कृति को दर्शाने वाले रंगारंग गीत संगीत के कार्यक्रम प्रस्तुत किए.समारोह में विभिन्न संस्थाओं और आरडब्ल्यूए की ओर से साध नगर की नवनिर्वाचित निगम पार्षद इंदर कौर कृष्णिया का सार्वजनिक अभिनंदन भी किया गया.इस अवसर पर विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय योगदान के लिए संजीव सोलंकी,अजय कुमार गुप्ता, नंदाबल्लभ खटुवाल, विपिन सेमवाल, मनीष नेगी,ज्ञान प्रकाश मक्कड़, दिगंबर बिष्ट,संजय शर्मा,नरेंद्र पाठक,दिनेश डिमरी, गंभीर सिंह नेगी, रमेश राणा और पवन डोगरा को सम्मानित किया गया.

समारोह की अध्यक्षता करते हुए ऋतम डिजिटल मीडिया नेटवर्क के कंटेंट हेड और उत्तरायणी अभियान के संयोजक सूर्य प्रकाश सेमवाल ने कहा कि दिल्ली में उत्तरायणी को राजनीतिक धींगामस्ती और घुसपैठ का मंच बनाना दुर्भाग्यपूर्ण है. इस राष्ट्रीय अभियान पर पहाड़ी समुदाय का टैग लगाकर 4,5 साल पहले हर विधानसभा में सरकारी टेंट देकर पहाड़ के युवाओं को लड़ाने का काम किया गया और आज वास्तविकता सामने आ गई है चुनावी टिकट देना तो दूर पहाड़ समुदाय के लोगों को इस बार केजरीवाल सरकार ने उत्तरायणी के लिए आधा दर्जन स्थानों तक में कोई सहायता नहीं दी.

समारोह का मंच संचालन पर्वतीय लोकविकास समिति के महासचिव दीवान सिंह रावत ने किया और अतिथियों का स्वागत सतपाल कृष्णिया ने.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here