उत्तराखंड राज्य स्थपना दिवस : राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने परेड की सलामी ली, राज्यवासियों को दी शुभकामनाएं

0
13
  • राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने परेड की सलामी ली

  • राज्यवासियों को दी शुभकामनाएं.

देहरादून : उत्तराखंड आज अपनी स्थापना के 23 वर्ष पूरे कर 24वें वर्ष में प्रवेश कर गया है। राज्य स्थापना दिवस के मौके पर प्रदेशभर में विभिन्न जगहों पर कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। मुख्य कार्यक्रम देहरादून पुलिस लाइन में आयोजित किया गया। मुख्य कार्यक्रम में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने परेड की सलामी ली। इस अवसर पर अपने संबोधन में उन्होंने राज्य आंदोलन में बलिदान देने वाले आंदोलनकारियों को श्रद्धांजलि अर्पित की। राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मु ने मातृ शक्ति को नमन करते हुए कहा कि उत्तराखंड की महिलाओं ने पूरे देश के लिए आदर्श स्थापित किया है। इस दौरान उन्होंने दिवंगत राज्य आंदोलनकारी सुशीला बलूनी और हॉकी खिलाड़ी वंदना कटारिया का जिक्र भी किया।

उन्होंने कहा कि उत्तराखंड वीरभूमि है। थल सेना की दो रेजिमेंट-कुमाऊ रेजीमेंट और गढ़वाल रेजिमेंट का नाम उत्तराखण्ड के दो मंडलों के नाम पर रखा गया है। राष्ट्रपति ने कहा कि राज्य में विकास कार्य भी तेजी से हो रहे हैं। जी-20 की बैठकों से विकास के आयाम को नई गति मिलेगी। उन्होंने दिसंबर माह में राज्य में प्रस्तावित इन्वेस्टर समिट को लेकर कहा कि इससे उत्तराखण्ड के युवाओं के लिए रोजगार के अवसर खुलेंगे। संबोधन के अंत में उन्होंने राज्य सरकार को बधाई देते हुए कहा कि उत्तराखण्ड के निरंतर विकास के लिए सभी राज्य वासियों को शुभकामनाएं देती हूं। देवी-देवताओं की यह भूमि विकास के नए आयाम लिखेगी।
.
इस अवसर पर राज्यपाल गुरमीत सिंह ने कहा कि राष्ट्रपति के यहां आने से कण कण गौरवांवित है। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड की वीर गाथाओं पर पूरे देश को गर्व है। राज्यपाल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है तीसरा दशक उत्तराखण्ड का दशक है। राज्य सरकार विकासपरक योजनाओं को लेकर तेजी से आगे बढ़ रही है। वहीं, मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने उत्तराखंड आगमन पर राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मु का आभार जताया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रेरणा से प्रदेश सरकार उत्तराखंड को देश का सबसे समृद्ध राज्य बनाने के लिए हर मोर्चे पर प्रयास कर रही है। हम विकास के लिए प्रतिबद्ध होने के साथ ही लोगों के प्रति जवाबदेह भी हैं। कार्यक्रम के दौरान राष्ट्रपति ने माधुरी बर्थवाल, बसन्ती बिष्ट, सचिदानद भारती, राजेन्द्र सिंह बिष्ट को उत्तराखण्ड गौरव सम्मान से सम्मानित किया। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here