Home Posts tagged Alfaaz Aur Ahsaas
कविताएं

रात है, ढल जाएगी

अल्फ़ाज़ बहुत वीरान है, रात है, ढल जाएगी, आफ़त है, क़यामत because है, टल जाएगी. खौफ़ का दरिया because उबाल मार रहा है, किनारा कोई न because नजर आ रहा है. है विश्वास भरा because हौसलों के सागर में, तूफान में किश्ती because मेरी संभल जाएगी. बहुत वीरान है, because रात है, ढल जाएगी, आफ़त […]